युवक ने हाईकोर्ट के जज पर फेंकी चप्पलें, हुई 18 माह की कैद, वजह जान आप हो जाएगे हैरान… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

युवक ने हाईकोर्ट के जज पर फेंकी चप्पलें, हुई 18 माह की कैद, वजह जान आप हो जाएगे हैरान…

Published

on


गुजरात के राजकोट जिले में चाय बेचने वाले एक व्यक्ति को यहां मजिस्ट्रेट अदालत ने जज पर चप्पलें फेंकने के अपराध में 18 महीने की सजा सुनाई. आरोपी व्यक्ति ने उसके एक मामले में सुनवाई लंबित पड़े होने से नाराज होकर 2012 में हाई कोर्ट के एक जज पर चप्पलें फेंकी थी.
मिर्जापुर ग्रामीण अदालत के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट वी ए धधल ने गुरुवार को आरोपी भवानीदास बावाजी को आईपीसी की धारा 353 (एक सरकारी कर्मचारी को उसके कर्तव्य का निर्वहन करने से रोकने के लिए हमला) के तहत दोषी ठहराया है. पुलिस ने बताया कि बावाजी ने दावा किया था कि वह उसके मामले की सुनवाई लंबित होने से नाराज था. इसलिए उसने हताश होकर जज पर चप्पलें फेंक दी.

इसे भी पढ़े   कुल 3 चोरी के मामलों में घटना कारित करने वाला  नाबालिग समेत 4 आरोपी गिरफ्तार...

आरोपी को सुनाई 18 महीने की कैद
यह देखते हुए कि जज पर चप्पल फेंकने का मामला निदंनीय है, मजिस्ट्रेट ने बावाजी को प्रोबेशन के तहत राहत देने से इंकार कर दिया. इस प्रावधान के तहत दोषी के अच्छे आचरण को देखते हुए उसे रिहा कर दिया जाता है. मजिस्ट्रेट ने राजकोट के रहने वाले बावाजी को 18 महीने कैद की सजा सुनाई है. कोर्ट ने उसकी आर्थिक स्थिति को देखते हुए उस पर कोई जुर्माना नहीं लगाया है.

आरोपी बोला- हताशा में उठाया ये कदम
इस मामले के मुताबिक, आरोपी ने 11 अप्रैल 2012 को सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट के जज केएस झावेरी पर अपनी चप्पलें फेंक दी थी. लेकिन वे उन्हें लगी नहीं थी. जब जज ने कारण पूछा, तो बावाजी ने कहा था कि उन्होंने हताशा में ऐसा किया था. क्योंकि उनका मामला लंबे समय से सुनवाई के लिए नहीं आया था. इसके बाद बावाजी को सोला पुलिस थाने के हवाले कर दिया गया था. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ आईपीसी की धारा 186 और 353 के तहत मामला दर्ज कर लिया था.

इसे भी पढ़े   jio ऑफर : 1 रुपये में मिल रहा 56 GB डाटा 28 दिन की वैलिडिटी के साथ, बिना देरी उठाएं फायदा...  

नगर पालिक ने कोर्ट में दायर की थी अपील
पुलिस की जांच में पता चला था कि बावाजी भयवदार में सड़क किनारे चाय की दुकान चलाते थे. जब भयवदार नगर पालिका ने उन्हें स्टाल हटाने के लिए कहा, तो बावाजी गोंडल जिला कोर्ट से नगर निकाय के खिलाफ मोहलत लेने का आदेश मिलने में सफल रहे. इसके बाद नगर पालिका ने हाई कोर्ट में अपील दायर की.

इसे भी पढ़े   बारिश में गिरा आदिवासी का कच्चा घरौंदा बाल बाल बचा परिवार, ग्राम पंचायत ने रंगमंच में की व्यवस्था पीएम आवास का भी नही मिला लाभ

सुनवाई में जाने के लिए नहीं उठा पा रहा था खर्च
बावाजी ने पुलिस को दिए अपने बयान में बताया कि उस अपील के आधार पर नगर पालिका ने उनकी चाय की दुकान हटा दी, इससे वह बेरोजगार हो गए. आरोपी ने बताया कि कमाई का दूसरा जरिए न होने के कारण उसने अपना मानसिक संतुलन खो दिया था, क्योंकि उसे सुनवाई में भाग लेने के लिए अहमदाबाद जाने के लिए उधार लेना पड़ा था. इसके कारण उसे दूसरों से उधार पैसे मांगने पड़ते थे.

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING16 mins ago

दिनदहाड़े बाजार व्यापारी पर हथियारबंद युवकों ने बरसाईं गोलियां, देखें VIDEO

राजस्थान में बदमाशों के हौसले इतने बुलंद है कि दिनदहाड़े बड़ी से बड़ी वारदात को अंजाम दे रहे हैं. पिछले...

BREAKING39 mins ago

Instagram पर युवती का फोटो अपलोड कर अश्लील अभद्र कमेन्ट कर परेशान कर पैसे की मांग करने वाला गुजरात का सायबर अपराधी कवर्धा पुलिस के गिरफ्त में

कवर्धा(चैनल इंडिया)|  सिटी कोतवाली पुलिस ने इंस्टाग्राम पर युवती का फोटो अपलोड कर अश्लील अभद्र कमेन्ट कर परेशान करने और...

channel india1 hour ago

महिला पुलिसकर्मी को बनाया हवस का शिकार, वीडियो बनाकर किया वायरल, 3 लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ FIR

मुंबई में एक महिला पुलिसकर्मी के साथ रेप का मामला सामने आया है. मुंबई के मेघवाड़ी पुलिस स्टेशन में एक...

BREAKING2 hours ago

रक्षा मंत्रालय में निकली वैकेंसी, 10वीं पास कैंडिडेट कर सकते है आवेदन

रक्षा मंत्रालय की ओर से ग्रुप सी में भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी की गई है. दसवीं के बाद सरकारी...

 सक्ती2 hours ago

बीजेपी ने गिनाई छत्तीसगढ़ सरकार की नाकामिया

सक्ती(चैनल इंडिया)|  सोमवार 14 जून को सक्ती विधानसभा के बाराद्वार मण्डल अंतर्गत ग्राम पंचायत डुमरपारा में छ ग  की भूपेश...

Advertisement
Advertisement