पौष मास को सूर्यदेव का करे पूजन, धन-धान्य और सुख-समृद्धि की नहीं होगी कमी, जाने क्या है पुजा विधि… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

पौष मास को सूर्यदेव का करे पूजन, धन-धान्य और सुख-समृद्धि की नहीं होगी कमी, जाने क्या है पुजा विधि…

Published

on

इन दिनों पौष का महीना चल रहा है और 17 जनवरी तक रहेगा. हिंदू पंचांग के हिसाब से साल का दसवां महीना माना जाता है. पौष के महीने में किसी भी तरह के मांगलिक कार्यों पर रोक लग जाती है क्योंकि इस माह में सूर्यदेव धनु राशि में रहते हैं और उनका प्रभाव धरती पर काफी कम हो जाता है. लेकिन दान पुण्य और पूजा पाठ के लिहाज से ये महीना काफी अच्छा माना जाता है. पौष के महीने में सूर्यदेव की आराधना की जाती है, साथ ही भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व है.

हिंदू ग्रंथों में सूर्य के 12 रूप बताए गए हैं. हर स्वरूप की पूजा का अलग-अलग फल मिलता है. पौष के महीने में सूर्यदेव के भग स्वरूप की पूजा करने का विधान है. ऐश्वर्य, धर्म, यश, श्री, ज्ञान और वैराग्य से परिपूर्ण सूर्यदेव का भग स्वरूप साक्षात परब्रह्म का ही रूप माना गया है. मान्यता है कि पौष माह में सूर्यदेव की आराधना करने से व्यक्ति तेजवान, साहसी और निरोगी बनता है. साथ ही उसके जीवन में धन धान्य आदि किसी चीज की कमी नहीं होती. अगर आप नियमित रूप से बहुत समय नहीं निकाल सकते तो कम से कम इस माह के रविवार के दिन कुछ काम जरूर करें. रविवार का दिन सूर्यदेव को समर्पित माना जाता है.

रविवार के दिन इस तरह करें सूर्यदेव का पूजन
1. सूर्यदेव को अर्घ्य देने का बड़ा महत्व है. इसके लिए तांबे के बर्तन में शुद्ध जल, लाल चंदन और लाल रंग के फूल डालकर नियमित रूप से सूर्यदेव को जल अर्पित करें. लेकिन अर्घ्य सुबह के समय जितना जल्दी दिया जाए, उतना प्रभावी होता है. इसलिए सुबह 9 बजे तक हर हाल में अर्घ्य दे दें.
2. कुछ देर गायत्री मंत्र का जाप करें. कहा जाता है कि गायत्री माता के जाप से कुंडली में सूर्य की स्थिति मजबूत होती है. इसके अलावा आप सूर्य गायत्री मंत्र ‘ॐ भास्कराय पुत्रं देहि महातेजसे धीमहि तन्नः सूर्य प्रचोदयात्’ का भी जाप कर सकते हैं.
3. अगर संभव हो तो रविवार के दिन व्रत रखें. पौष माह के रविवार का विशेष महत्व होता है. इस दिन दिनभर व्रत रखना चाहिए और खाने में नमक का उपयोग नहीं करना चाहिए. संभव हो तो सिर्फ फलाहार ही करें और अगले दिन सुबह स्नान के बाद व्रत का पारण करें. व्रत के दौरान सूर्य को तिल-चावल की खिचड़ी का भोग लगाएं.
4. इस दिन स्नान के दौरान जल में थोड़ा गंगाजल मिक्स कर लें फिर श्री नारायण का नाम लेते हुए स्नान करें. इसके अलावा गुड़, लाल मसूर, तांबा, तिल आदि का दान करें. जरूरतमंदों को लाल रंग के कपड़े दान करें.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING2 hours ago

रायपुर बना मेट्रोसिटी के बदमाशों का अड्डा, जानें पूरा मामला

रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी रायपुर अब मेट्रोसिटी के बदमाशों का अड्डा बन रहा है। आज मुंबई पुलिस ने दबिश देकर तीन...

BREAKING3 hours ago

छत्तीसगढ़ में किसानों को बड़ी राहत, 7 फरवरी तक धान खरीदेगी सरकार, मुख्यमंत्री ने की तारीख बढ़ाने की घोषणा

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में सरकार ने किसानों को बड़ी राहत दी है। सरकार अब न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सात फरवरी...

BREAKING4 hours ago

रायपुर में दिल्ली की तर्ज पर ट्रैक्टर मार्च करेंगे किसान

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ के नवा रायपुर में आंदोलन कर रहे प्रभावित किसानों को सूबे के मंत्रियों ने चर्चा के लिए...

BREAKING5 hours ago

Weather Alerts: प्रदेश के इन हिस्सों में आज गरज-चमक के साथ बारिश के आसार, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ में एक बार फिर आज मौसम में बदलाव के आसार है। कई हिस्सों में गरज चमक के...

BREAKING5 hours ago

नक्सलियों ने फिर दिया घटना को अंजाम,सडक़ निर्माण में लगी 3 गाडिय़ां जलाईं, मजदूरों को बनाया बंधक, हिदायत देकर छोड़ा

बीजापुर(चैनल इंडिया)। यहां से करीब 20 किलोमीटर दूर बीजापुर थाना क्षेत्र के चेरकंटी गांव में नक्सलियों ने सडक़ निर्माण में...

Advertisement
Advertisement