US से भारत की नजदीकी के बीच पुतिन का ऐलान- नए साल में दिल्ली से बढ़ाएंगे द्विपक्षीय सहयोग – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

US से भारत की नजदीकी के बीच पुतिन का ऐलान- नए साल में दिल्ली से बढ़ाएंगे द्विपक्षीय सहयोग

Published

on

मॉस्को
भारत-रूस संबंधों में खटपट की अफवाहों के बीच राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने की वकालत की है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि अगले साल रूस और भारत क्षेत्रीय एवं वैश्विक एजेंडों से संबंधित सामयिक मुद्दों के समाधान के प्रयासों के साथ-साथ रचनात्मक द्विपक्षीय सहयोग को आगे बढ़ाने की दिशा में कार्य जारी रखेंगे।

पुतिन ने नए साल की दी शुभकामनाएं
पुतिन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री को अपने क्रिसमस एवं नववर्ष शुभकामना संदेश में कहा कि रूस और भारत विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी के संबंधों से जुड़े हैं जो कोरोना वायरस महामारी समेत इस साल की परेशानियों एवं समस्याओं के बावजूद पूरे विश्वास के साथ प्रगति कर रहे हैं।

इसे भी पढ़े   सरगुजा जिले में जल जीवन मिशन योजना के तहत 298 करोड़ से अधिक रुपये के बनेंगे प्रोजेक्ट, 233 गांव के घर-घर में पहुंचेगा नल-जल

राजनीतिक संवाद बरकरार रखेंगे दोनों देश
क्रेमलिन की ओर से जारी बयान के मुताबिक, राष्ट्रपति पुतिन ने जोर देकर कहा कि दोनों देश एक व्यापक राजनीतिक संवाद बरकरार रखते हैं और विभिन्न क्षेत्रों में संयुक्त परियोजनाओं के पक्षधर हैं। कुछ दिनों पहले भारत-रूस शिखर सम्मेलन की तारीख को आगे बढ़ाए जाने पर कई सवाल उठाए गए थे।

भारत-रूस शिखर सम्मेलन के टलने से उठे कई सवाल
कई रिपोर्ट में दावा किया गया था कि अमेरिका से नजदीकी के कारण भारत अब रूस को कम महत्व दे रहा है। साल 2000 के बाद यह पहला मौका है जब भारत और रूस के बीच शिखर सम्मेलन को टाला गया है। हालांकि भारत के विदेश मंत्रालय और दिल्ली में रूसी राजदूत ने इन रिपोर्ट्स का खंडन करते हुए कहा था कि कोरोना वायरस के कारण इस सम्मेलन को टाला गया है।

इसे भी पढ़े   समर्थ चैरिटेबल ट्रस्ट व पंचायत द्वारा दिव्यांग जनों को बांटा गया राशन

भारत का बड़ा सहयोगी है रूस
रूस और भारत केवल सहयोगी नहीं, बल्कि उनका संबंध गठबंधन से भी कहीं आगे है। दोनों देश पड़ोसी नहीं हैं और अतीत में उनके हितों के बड़े टकराव नहीं हुए हैं। हाल के समय में मॉस्को और नई दिल्ली के बीच रणनीतिक संबंध भी स्थिर रहे हैं। भारत-रूस संबंध विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त सामरिक भागीदारी में से एक है। दोनों देशों में नेतृत्व परिवर्तन ने भी कभी भी उनके करीबी संबंधों को प्रभावित नहीं किया ह। पिछले 20 साल से लगातार सालाना होने वाली रूस-भारत शिखर सम्मेलन इस सौहार्द का प्रमाण हैं।

इसे भी पढ़े   महामारी के दौरान राहुल गांधी के जन्मदिन पर रक्तदान करके चिकित्सा के क्षेत्र में NSUI का अविश्वसनीय योगदान
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

R.O. No. 11359/53

CG Trending News

BREAKING55 mins ago

छतीसगढ़ ब्रकिंग ;रायपुर के 240 निजी स्कूलों की मान्यता रद्द

रायपुर ;जिला शिक्षा नें अधिकारी  जिले के 240 निजी स्कूलों की मान्यता तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी है| इसके...

channel india2 hours ago

धान से लदा ट्रेक्टर अचानक पलटा

चिरमिरी – ग्राम मेंड्रा में उस समय अफरातफरी का माहौल बन गया जब धान से लदा ट्रेक्टर अचानक पलट गया।...

channel india2 hours ago

वेब सीरीज “तांडव” पर छतीसगढ़ में भी मंचा तांडव, भारतीय जनता युवा मोर्चा ने किया पुतला दहन

रायपुर। वेब सीरीज  पर जब से “तांडव” आई है तब से इस वेब सीरीज नें देश के हर कोनें में...

बेरोजगार किसान रैली महाराष्ट्र से रैली कर रायपुर वापस लौटे शिवसैनिक बेरोजगार किसान रैली महाराष्ट्र से रैली कर रायपुर वापस लौटे शिवसैनिक
channel india3 hours ago

बेरोजगार किसान मोर्चा: महाराष्ट्र से रैली कर रायपुर वापस लौटे शिवसैनिक

रायपुर। छत्तीसगढ़ से शिव सेना के प्रदेश सचिव संजय नाग ने प्रेस को जानकारी देते हुए बताया कि शिवसेना प्रदेश...

channel india3 hours ago

औघड़ आश्रम स्थापना दिवस कार्यक्रम: जरूरतमंदों को बांटा गया कंबल वितरण

जशपुर। जशपुर कलेक्टर महादेव कावरे एवं पुलिस अधीक्षक बालाजी राव पत्थलगांव विकासखंड के शेखरपुर में स्थित औघड़ आश्रम  एवं औघड़...

खबरे अब तक

Advertisement
Advertisement