मंगल ग्रह पर मौजूद थे एलियन! NASA द्वारा रिलीज की गई जेजेरो क्रेटर की तस्वीरों से मिला सबूत – Channelindia News
Connect with us

Special News

मंगल ग्रह पर मौजूद थे एलियन! NASA द्वारा रिलीज की गई जेजेरो क्रेटर की तस्वीरों से मिला सबूत

Published

on

NASA द्वारा रिलीज की गई नई तस्वीरों में मंगल (Mars) पर एक प्राचीन नदी डेल्टा का पता चला है. इसे लेकर कहा गया है कि यहां पर कभी एलियन लाइफ (Alien Life) मौजूद था. जियोलॉजिस्ट ने जेजेरो क्रेटर के विशिष्ट क्षेत्रों में कार्बिनक यौगिक खोजे हैं, जो इस प्राचीन नदी डेल्टा में मौजूद रहे एलियन लाइफ के जीवाश्म सबूत दे सकता है.
जेजेरो क्रेटर (Jezero crater) के पास ही परसिवरेंस रोवर (Perseverance rover) मौजूद है. रोवर द्वारा क्रेटर की ली गई तस्वीरों से पता चलता है कि अरबों साल पहले ग्रह के इस इलाके में पानी बहा करता था. चट्टान के निर्माण की तस्वीरों को कोडिएक बट्टे का नाम दिया गया है. ये एक बंद झील सिस्टम की जानकारी देता है, जहां पानी के स्तर में उतार-चढ़ाव होता होगा.
वैज्ञानिकों ने कहा है कि ये नई खोज एक अभूतपूर्व डेटाप्वाइंट प्रदान करती है, जो मंगल की आगे की जांच के संबंध में NASA के फैसले का मार्गदर्शन करेगी. मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में प्लैनेटरी साइंसेज के प्रोफेसर बेंजामिन वीस ने कहा, रोवर ने एकदम उजाड़ जगह पर लैंडिंग की. इसने सिर्फ तस्वीरें ली हैं, जिसमें देखी गई चट्टानों से पता चलता है कि लाखों साल पहले जेजेरो क्रेटर एक झील का तल था.
हाल ही में जारी कोडिएक बट्टे की तस्वीरों के जरिए मिट्टी या रेत की परतों का पता चलता है. इनका निर्माण नदी के बहने के दौरान ही होता है. फ्रांस में नैनटेस यूनिवर्सिटी के जियोलॉजिस्ट निकोलस मैंगोल्ड ने कहा, ‘कोडिएक में स्ट्रैटिग्राफी को समझने से हमें इन चीजों का पता लगाने में मदद करेगा, जो जीवन को बरकरार रखने के लिए जरूरी हैं. हमें मालूम है कि सतह पर एक समय पानी बहा करता होगा, लेकिन इस गतिविधि की अविध के बारे में हमें मालूम नहीं है.
ये क्षेत्र बाढ़ की घटनाओं से उत्पन्न होने वाले छोटे पत्थरों की परतों से भी घिरा हुआ है. हालांकि, इस बारे में जानकारी नहीं है कि सदियों पहले बाढ़ की क्या वजह रही होगी. लेकिन वैज्ञानिकों का अनुमान है कि ये बाढ़ भारी बारिश या अचानक बर्फ पिघलने की वजह से आई होगी. मंगल पर उस समय अधिक संख्या में बर्फ रही होगी, जो ज्वालामुखीय गतिविधि या उल्कापिंड के टकराने से पिघल गई होगी. इस वजह से बाढ़ आई होगी.
वैज्ञानिकों ने तर्क दिया है कि जेजेरो के नतीजों से रिसर्चर्स अन्य क्रेटरों के बारे में अधिक जानकारी हासिल कर सकेंगे, जहां कभी अन्य झीलों की मौजूदगी रही होगी. हो सकता है कि यहां पर एलियन लाइफ भी मौजूद रहा हो. वैज्ञानिक लंबे समय से मंगल ग्रह पर जीवन के सबूत को तलाशने में जुटे हुए हैं. ऐसा लगने लगा है कि इसे जल्द ही ढूंढ लिया जाएगा.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING5 hours ago

दो नवजात की मौत, मेडिकल कॉलेज में चार दिन में आठ जानें गईं

अंबिकापुर(चैनल इंडिया)। जिले के मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां दो...

खबरे छत्तीसगढ़6 hours ago

ईईएचवी वायरस के चपेट में आया एक और हाथी का शावक, हुई मौत,2 साल थी उम्र

सूरजपुर(चैनल इंडिया)|  ईईएचवी वायरस से रेस्क्यू सेंटर में दो शावकों की मौत के बाद अब एक और शावक की मौत...

BREAKING6 hours ago

सीएम भूपेश ने किया श्री धन्वन्तरी जेनरिक मेडिकल स्टोर योजना का शुभारंभ, अब प्रदेशवासियों को मिलेगी आधी कीमत पर दवा

रायपुर (चैनल इंडिया)| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फे्रंसिंग के जरिए श्री धन्वन्तरी जेनरिक...

channel india6 hours ago

JioPhone Next को लेकर नया खुलासा, अब यूजर्स को मिलेंगे कई खास फीचर्स, कीमत जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

JioPhone Next को लेकर नई जनकारी सामने आई है, जिसकी मदद से यूजर्स को कई अच्छे फीचर्स और बेहतर वर्जन...

BREAKING7 hours ago

शासकीय आयुर्वेद के द्वारा निःशुल्क आयुष स्वास्थ्य एवं जन जागरूकता शिविर का आयोजन 200 लोगों ने उठाया लाभ

धरसीवां(चैनल इंडिया)|शासकीय आयुर्वेद के द्वारा ग्राम सांकरा में निःशुल्क आयुष स्वास्थ्य व जन जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया जिसमें...

Advertisement
Advertisement