खबरे अब तक

BREAKINGchannel indiaCHANNEL INDIA NEWSक्राइमदेश-विदेशरायपुर

विकलांग की पीड़ा;SECL के भ्रष्ट अधिकारियों को रिश्वत देने के लिए 45000 रु. की आवश्यकता है,कृपया भ्रष्ट अधिकारियों को रिश्वत देने के लिए दिल खोलकर दान करें – विकलांग राजकुमार



चिरमिरी|यह फोटो अनुसूचित जाति के एक ऐसे व्यक्ति का है,जिसके माता और पिता दोनों ही साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड में कार्य कर चुके हैं।पिताजी की जगह मां को नौकरी प्राप्त हुई।  मां का स्वर्गवास हुए लगभग 4 वर्ष व इनकी एक बहन का स्वर्गवास का लगभग 1 वर्ष पूर्ण हो गया। मात्र जीवित एक बहन है। यह बालक आठवीं तक पढ़ा लिखा है। पहले पूर्ण रूप से स्वस्थ था। परंतु विगत 8 वर्षों से यह इसी प्रकार बिस्तर पर पड़ा है।

इसे भी पढ़े   पुलिस ने दिखाया मानवता का धर्म, नि:संतान बुजुर्ग की मौत पर परिजन नहीं पहुंचे, तो रायपुर पुलिस ने किया अंतिम संस्कार!!

नियमानुसार जब पिता की जगह मां को नौकरी मिली तो मां के स्थान पर इनके किसी एक आश्रित को नौकरी मिलनी चाहिए थी। विडंबना देखिए कि सूत्र यह बताते हैं कि यहां का प्रशासन इस विकलांग परिवार से ₹45000 की अपेक्षा कर रहा है।  जब प्रशासन के प्रबंधन को ₹45000 मिलेंगे तो इस आश्रित परिवार में किसी एक को रोजगार प्राप्त हो सकेगा।

हसदेव क्षेत्र नेताओं की राजधानी रहा है परंतु दिया तले अंधेरा साबित हो रहा है। इस परिवार को किसी मसीहा की तलाश है। जो उसे उसकी बहन को या दिव्यांग कोटे में इसे ही रोजगार दिला सके। ऐसा लगता है कि सारी संवेदनाएं भावनाएं समाप्त हो गई हैं। अब तो लगता है कि चंदा करके  45000 प्रबंधन को देने ही पड़ेंगे। जिस प्रकार साढ़े 4 साल से यह परेशान हैं। न जाने कब तक यह  परिवार परेशान रहेगा। दिल खोलकर प्रबंधन को घूस देने के लिए 45000 का संग्रह में अपना योगदान दें। जिससे इस विकलांग को प्रबंधन को रिश्वत देने की मदद हो सके।

इसे भी पढ़े   ATM  भी कही न बन जाए कोरोना वायरस को फैलाने की वजह , रुपए निकालते समय रखे इन बातो का ध्यान