Sharad Purnima 2021 : जानिए क्यों शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की रोशनी में रखी जाती है खीर… – Channelindia News
Connect with us

Special News

Sharad Purnima 2021 : जानिए क्यों शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा की रोशनी में रखी जाती है खीर…

Published

on

आश्विन मास की पूर्णिमा तिथि को शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है. माना जाता है कि इस दिन से शरद ऋतु यानी सर्दियों की शुरुआत हो जाती है. साथ ही अगले दिन से पूजा-पाठ और त्योहारों का कार्तिक महीना शुरू होता है. इस बार शरद पूर्णिमा 2021 का पर्व 19 अक्टूबर को पड़ रहा है.
शरद पूर्णिमा की रात को लोग खीर बनाकर खुले आसमान के नीचे रखते हैं और अगले दिन इसे प्रसाद के तौर पर ग्रहण करते हैं. धार्मिक मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात को चंद्रमा अपनी सोलह कलाओं से अभिभूत होता है और इससे अमृत बरसता है. ये अमृत जब खीर में पड़ता है तो खीर के जरिए लोगों के शरीर में जाता है और उन्हें कई तरह के स्वास्थ्य लाभ होते हैं. जानिए इस मान्यता के पीछे का वैज्ञानिक कारण.
ये है खीर रखने का वैज्ञानिक कारण
चंद्रमा की रोशनी में खीर रखने का वास्तव में वैज्ञानिक महत्व है. दरअसल शरद पूर्णिमा की रात को चंद्रमा पृथ्वी के बेहद करीब होता है. ऐसे में चंद्रमा की किरणों के रासायनिक तत्व पृथ्वी पर पड़ते हैं. ऐसे में रातभर के लिए अगर खीर को चंद्रमा की रोशनी के नीचे रखा जाए तो वो तत्व खीर में समाहित हो जाते हैं. इन रासायनिक तत्वों में तमाम विटामिन और मिनरल्स आदि होते हैं, जो सेहत के लिए काफी लाभकारी होते हैं. इस खीर का सेवन करने से व्यक्ति का इम्यून सिस्टम मजबूत होता है. उसे स्किन रोग, कफ संबन्धी विकार और श्वास से संबन्धित समस्याओं से मुक्ति मिलती है. माना जाता है कि अगर ये खीर चांदी के बर्तन में रखी जाए तो इसके फायदे कई गुणा बढ़ जाते हैं.
मां लक्ष्मी का पूजन करें
शरद पूर्णिमा को मां लक्ष्मी का प्राकट्य दिवस भी माना जाता है. कहा जाता है कि इसी दिन मां लक्ष्मी की उत्पत्ति समुद्र मंथन से हुई थी. इसलिए इस दिन माता लक्ष्मी की पूजा नारायण के साथ करनी चाहिए. साथ ही उनके राधा और नारायण के कृष्ण स्वरूप को भी भोग लगाना चाहिए क्योंकि द्वापर में शरद पूर्णिमा की रात को ही राधाकृष्ण ने महारास किया था. इसके बाद चंद्रमा की पूजा करें और खीर को खुले आसमान के नीचे रखें. अगले दिन प्रसाद रूप में खीर को खाएं.

खीर रखते समय इन बातों का रखें खयाल
1. रात को स्नान करने के बाद खीर बनाएं. संभव हो तो खीर गाय के दूध में बनाएं.
2. खीर बनाने के बाद मां लक्ष्मी और नारायण को इसका भोग लगाएं, फिर इसे आसमान के नीचे रखें.
3. इसे कांच, मिट्टी या चांदी के बर्तन में रखें. तब ही इसका पूर्ण लाभ मिल पाएगा. इसके अलावा खीर को जाली से ढक दें, ताकि कोई कीट पतंगा या पशु इसे न खाए.
4. खीर के प्रसाद को दूसरे द‍िन सुबह जल्दी खाली पेट खाएं. इससे मानसिक समस्याएं दूर होती हैं, सांस की परेशानी में लाभ होता है, इम्यून सिस्टम मजबूत होता है और शरीर में ऊर्जा का संचार होता है.

शुभ मुहूर्त
शरद पूर्णिमा की तिथि: 19 अक्टूबर
शुभ मुहूर्त: शाम 05:27 बजे से
पूर्णिमा तिथि शुरू : 19 अक्टूबर शाम 7 बजे से
पूर्णिमा तिथि समाप्त: 20 अक्टूबर रात 08:20 बजे से

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING1 hour ago

CM योगी ने विपक्ष पर किया हमला, कहा-जिन्ना के अनुयायी नहीं समझेंगे गन्ने की मिठास…

गोंडा. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को गोंडा जिले में 450 रुपये करोड़ की लागत से 65.61...

BREAKING1 hour ago

बड़ी कामयाबी: छत्तीसगढ़ पर्यावरण संरक्षण की दिशा में देश में अव्वल

रायपुर (चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ ने वायु, जल प्रदूषण, ठोस कचरे के प्रबंधन और वनों के संरक्षण और संवर्धन की दिशा...

BREAKING1 hour ago

पत्नी के सामने घर में घुसकर पुलिसकर्मी की हत्या, आरोपी फरार…

जगदलपुर (चैनल इंडिया)| बीजापुर जिले में अज्ञात लोगों ने भैरमगढ़ थाना में पदस्थ सहायक आरक्षक की हत्या कर दी है।...

BREAKING2 hours ago

यहां अवैध गांजे की तस्करी करते 2 गिरफ्तार, करोड़ों का मादक पदार्थ जब्त…

बसना(चैनल इंडिया)। महासमुंद जिले में पुलिस ने एक बार फिर दो गांजा तस्करों को गिरफ्तार कर लिया है। तस्कर गांजा...

BREAKING2 hours ago

नक्सलियों ने की सरपंच पति की हत्या, JCB में लगाई आग

नारायणपुर (चैनल इंडिया)| गढ़चिरौली मुठभेड़ के विरोध में नक्सलियों ने 6 राज्यों में आज बंद का आह्वान किया है। बंद...

Advertisement
Advertisement