खबरे अब तक

BREAKINGchannel indiaCHANNEL INDIA NEWSchhattisgarh newscorona covid 19 newsSpecial Newsउत्तर प्रदेशदेश-विदेश

Rajasthan : प्रतापगढ़ -सिरोही भी आए बर्ड फ्लू की चपेट में , अब 13 जिलों में बढ़ा खतरा !



जयपुर/ सिरोही/ प्रतापगढ़प्रदेश में लगातार बर्ड फ्लू का खतरा बढ़ता जा रहा है। पहले जहां 11 जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई थी । वहीं अब इसका खतरा कुल 13 जिलों में बढ़ गया है। रविवार को आई रिपोर्ट के अनुसार सिरोही और प्रतापगढ़ में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। दोनों जिलों के सैंपल हाल ही भोपाल लैब में परीक्षण के लिए भेजे गए थे। इससे पहले जयपुर, दौसा, सवाई माधोपुर , हनुमानगढ़ , जैसलमेर, चित्तौड़गढ़, बारां, कोटा और बांसवाड़ा में भी बर्ड फ्लू के सैंपल पॉजिटिव मिल चुके हैं। पक्षियों की महामारी का खतरा लगातार बढ़ने से प्रशासन और सरकार की नींद भी उड़ी हुई है। सरकार लगातार कौवों सहित अन्य पक्षियों की मौतों पर निगरानी बनाए हुए हैं।

सिरोही में कोयल और बुलबुल मिली मृत आपको बता दें कि सिरोही जिले में कोयल और बुलबुल मृत मिले थे । इनके सैम्पल जांच के लिए भोपाल भेजे गए थे । जांच में दोनों पक्षियों में बर्ड फ़्लू पॉजिटिव पाया गया है । पॉजिटिव आने के बाद पशुपालन सतर्क हो गया है । यह मृत पक्षी जिला कलेक्टर निवास के भीतर मिले थे ।

इसे भी पढ़े   नीतीश को लेकर राबड़ी के बयान पर चढ़ा सियासी पारा, तो 'दोस्त' सुशील मोदी ने संभाला मोर्चा

10 जिलों की सैंपल रिपोर्ट आना बाकी आपको बता दें कि जहां अब तक 13 जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। वहीं 10 जिलों की सैंपल की रिपोर्ट आना अभी बाकी है । मिली जानकारी के अनुसार रविवार को प्रदेश में 326 की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक 2289 कौवें मृत मिल चुके हैं। लगातार ये आकड़ा बढ़ता जा रहा है। ऐसे में प्रदेशभर में बर्ड फ्लू का खतरा भी मंडरा रहा है। हालांकि शासन-प्रशासन इसे लेकर सतर्कता बरते हुए हैं। मृत पक्षियों के सैंपल भेजा जा रहे हैं, ताकि बर्ड फ्लू की पुष्टि हो सके।

इसे भी पढ़े   निषाद समाज द्वारा मनाया गया गुहा जंयती, मुख्य अतिथि के रुप मेंशामिल हुए कृषक नेता योगेश तिवारी

अब तक भेजे गए 226 सैंपल मिली जानकारी के अनुसार पशुपालन विभाग की ओर से 24 जिले के 226 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं । इनमें से अब तक 51 सैंपल पॉजिटिव में चुके हैं । प्रशासन की ओर से सतर्कता बरते हुए सभी जिलों के लिए रेपिड रेस्पॉन्स टीम का गठन कर दिया गया है। वहीं उसके साथ ही कंट्रोल रूम भी स्थापित कर दिए हैं, ताकि लोग भी मृत पक्षियों की जानकारी प्रशासन और विभाग को दे सकें।

इसे भी पढ़े   सावधान! 'धार्मिक स्वतंत्रता विधेयक2020’ कल से होगी लागू, जबरन धर्म परिवर्तन मामले में होगी 10 साल की कैद