कोरोना का डर दिखाकर निजी अस्पताल मरीजो को लूट रहे, मान. न्यायालय के आदेश की निजी अस्पताल उड़ा रहे धज्जियां – Channelindia News
Connect with us

channel india

कोरोना का डर दिखाकर निजी अस्पताल मरीजो को लूट रहे, मान. न्यायालय के आदेश की निजी अस्पताल उड़ा रहे धज्जियां

Published

on


सरायपाली(चैनल इंडिया) –  महासमुन्द जिला इंटक जिलाध्यक्ष व सरायपाली विधायक के पूर्व विधायक प्रतिनिधि मोहम्मद मोहशीन मेमन ने संसदीय सचिव विकास उपाध्याय के रायपुर राजधानी में स्थित निजी अस्पतालों द्वारा कोविड-19 के मरीजों से मनमाने तरीके से पैसे वसूली करने का गंभीर आरोप लगाए जाने व जनहित में उठाये गए मुद्दे का जोरदार समर्थन करते हुवे कहा कि स्वास्थ्य सेवाएं देना किसी सामान बेचने जैसा नहीं है और ऐसा कर स्वास्थ्य सेवाएं देने वाले निजी अस्पताल के संचालक ‘मेडिकल क्लीनिक कंज्यूमर प्रोटेक्शन ऐक्ट’ का खुला उलंघन कर रहे हैं।

इंटक जिलाध्यक्ष मेमन ने संसदीय सचिव  विकास उपाध्याय के कथन को दोहराते हुवे कहा कि  90 फीसदी पीड़ितों द्वारा लगातार ये शिकायत मिल रही है कि निजी अस्पतालों में कोरोना का डर दिखा कर उनसे मनमाने तरीके से लाखों रुपए वसूली की जा रही है। कई मरीज तो ऐसे भी हैं जो इन निजी अस्पतालों में महज 3 दिन का फीस 6 लाख रुपये तक चुकाए हैं। उन्होंने कहा पूरे देश में लगातार कोविड-19 के मरीजों की इजाफा के साथ ही छत्तीसगढ़ में भी इसकी बढ़ोतरी हुई है,नतीजन सरकारी अस्पतालों में अब जगह नहीं है कि सभी पीड़ितों को भर्ती किया जा सके तो मजबूरन प्रदेश भर के संक्रमित लोग अच्छे इलाज के आशा में राजधानी रायपुर के निजी अस्पतालों का रुख कर रहे हैं और स्थिति ये है कि अब इन अस्पतालों में कोविड-19 के अलावे अन्य बीमारी से ग्रसित लोग नहीं के बराबर ही हैं। जिसका फायदा ये निजी अस्पतालों के संचालक भरपुर उठा रहे हैं।

इसे भी पढ़े   रायपुर में 144 धारा लागू, कलेक्टर ने सार्वजनिक स्थल बंद करने का दिया आदेश  

सभी मरीज़ों को जानकारी दी जानी चाहिए कि उनको क्या बीमारी है और इलाज का क्या नतीजा निकलेगा। साथ ही मरीज को इलाज पर खर्च, उसके फ़ायदे और नुक़सान और इलाज के विकल्पों के बारे में बताया जाना चाहिए। जो रायपुर के निजी अस्पतालों में नही हो रहा है।अगर अस्पताल एक पुस्तिका के माध्यम से मरीज़ों को इलाज, जांच आदि के खर्च के बारे में बताएं तो ये अच्छी बात होगी। इससे मरीज़ के परिवार को इलाज पर होने वाले खर्च को समझने में मदद मिलेगी। विकास ने आगे कहा अस्पताल मरीज या उसके परिजनों को केस से जुड़े सभी कागज़ात की फ़ोटोकॉपी दे। ये फ़ोटोकॉपी अस्पताल में भर्ती होने के 24 घंटे के भीतर और डिस्चार्ज होने के 72 घंटे के भीतर दी जानी चाहिए।पर ये भी नहीं किया जा रहा है।

इसे भी पढ़े   सड़क तक दुकानो  का सामान फैलाने वाले अनेक व्यवसायियों को नोटिस जारी, सभी व्यापारियों की 18 मार्च को एसडीएम कार्यालय में पेशी

कई बार देखा गया है कि अगर अस्पताल का पूरा बिल न अदा किया गया हो तो मरीज़ को अस्पताल छोड़ने नहीं दिया जाता है। बाम्बे हाई कोर्ट ने इसे ‘ग़ैर कानूनी कारावास’ बताया है।

कभी-कभी अस्पताल बिल पूरा नहीं दे पाने की सूरत में लाश तक नहीं ले जाने देते। अस्पताल की ये ज़िम्मेदारी है कि वो मरीज़ और परिवार को दैनिक खर्च के बारे में बताएं लेकिन इसके बावजूद अगर बिल को लेकर असहमति होती है, तब भी मरीज को अस्पताल से बाहर जाने देने से या फिर शव को ले जाने से नहीं रोका जा सकता। पर रायपुर के कई अस्पतालों में इसके ठीक विपरीत हो रहा है।

इसे भी पढ़े   सलमान खान की फिल्म रेडी में "अमर चौधरी" का किरदार निभाने वाले एक्टर की कैंसर से मौत!!

 

इंटक अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से आग्रह करते हुवे कहा  है कि वे वर्चुअल मीटिंग लेकर सभी निजी अस्पतालों के संचालकों को इस बाबत बात कर स्पष्ट हिदायत दें कि छत्तीसगढ़ की आम जनता के साथ किसी तरह की लूट बर्दास्त नहीं कि जाएगी और इस बात का ध्यान नहीं दिया गया या मनमानी जारी रही तो ऐसे अस्पतालों के लाइसेंस केंसिल किया जाए।

 

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

balrampur4 hours ago

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए तृतीय काउंसलिंग 31 अक्टूबर को

बलरामपुर 27 अक्टूबर 2020।  शैक्षणिक सत्र 2020-21 अंतर्गत बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में कक्षा 6वीं में...

balrampur4 hours ago

समय-सीमा की बैठक सम्पन्न, लंबित प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निराकरण करने कलेक्टर का निर्देश

बलरामपुर 27 अक्टूबर 2020। कलेक्टर श्याम धावड़े ने समय-सीमा की बैठक में विभिन्न विभागों में लंबित प्रकरणों की समीक्षा की।...

ambikapur5 hours ago

वर्मी कम्पोष्ट खाद बनाने में लापरवाही पर जनपद सीईओ को कारण बताओ नोटिस, साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक सम्पन्न

अम्बिकापुर 27 अक्टूबर 2020। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में...

ambikapur5 hours ago

ई-मेगा कैम्प में बड़े पैमाने पर किया जाएगा प्रकरणों का निराकरण,31 अक्टूबर को होगा आयोजन

अम्बिकापुर 27 अक्टूबर 2020। जिला एवं सत्र न्यायाधीश बी.पी. वर्मा के निर्देशानुसार राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा 31 अक्टूबर को...

channel india5 hours ago

मुख्यमंत्री का निर्देश हुआ बेअसर ,पटवारी मस्त,, किसान त्रस्त

रिपोर्टर एसके द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर   | जिले के वाड्रफनगर विकासखंड में पटवारियों का दबदबा देखते ही बन रहा है...

खबरे अब तक

Advertisement