लॉकडाउन से प्रदूषण लेवल 19 फीसदी हुआ डाउन, पर्यावरण ने ली सांस… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

लॉकडाउन से प्रदूषण लेवल 19 फीसदी हुआ डाउन, पर्यावरण ने ली सांस…

Published

on


रायपुर(चैनल इंडिया)|  कोरोनाकाल में भले ही जीवन अस्त-व्यस्त रहा हो, लेकिन इस बीमारी से बचने के जतन ने पर्यावरण को काफी फायदा पहुंचाया है। कई महीनों तक वाहनों के पहिए थमने और फिर कारखानों के बंद रहने के कारण ताजी हवा में घुलने वाले प्रदूषण के कणों ने इस बार दम तोड़ा है। पर्यावरण की रिपोर्ट में वायु प्रदूषित करने वाले कण पीएम-10 और पीएम-2.5 की मात्र बेहद कम रही है जिससे प्रदूषण का स्तर 19 फीसदी नीचे लुढ़का है। औद्याेगिक क्षेत्र से लेकर शहर के बीचों-बीच पर्यावरण ने राहत की सांस ली है। प्रदूषण विभाग की ओर से जारी किए गए रिपोर्ट में कंटिन्यू एम्बी एयर मॉनिटरिंग सिस्टम में पीएम-10 और पीएम-2.5 की स्थिति काफी सुधरी है। उद्धोग बंद रहने की अवधि में पीएम-10 की मात्रा में सबसे ज्यादा गिरावट दर्ज की गई है यही कारण है कि हवा में घुलने वाले धूल के बड़े कण कम होने से ऑक्सीजन का स्तर भी सुधरा है।
एनआईटी और कलेक्टोरेट परिसर में लगाई गई एयर क्वालिटी तकनीक में हर एक दिन का ब्योरा दर्ज है। मई 2020 में दर्ज रिपोर्ट में प्रदूषण लेवल 58.01 प्रतिशत तक रहा था लेकिन इस साल आंकड़ा 39.15 प्रतिशत है। प्रदेश की राजधानी में पंद्रह लाख से ज्यादा वाहनों का दबाव रहता है। कंडम और अनफिट वाहनों से निकलने वाले धुंए से प्रदूषण बढ़ता है। इसके बाद कारखानों की चिमनी की स्थिति है जो बड़े दायरे में काली परत जमा करती है। 7 साल पहले की घातक स्थिति से निकले पर्यावरण विभाग की एक रिपोर्ट के मुताबिक शहर में वर्ष 2014 में स्थिति बहुत घातक रही है। इस वर्ष पीएम-10 यानी हवा में धूल के बड़े कणों की मात्रा सबसे अधिक 320 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर तक थी। 2016 में कण कम हुए और मात्रा 160 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर पर आ गई। 5 साल बाद हालात अब इससे भी बेहतर हैं जहां बड़े कणों की मात्रा 10 फीसदी तक है। यही कारण है कि ग्राफ तेजी से सुधरा है।

इसे भी पढ़े   सोशल डीस्टेंसिंग का पालन करते हुए संजय कोठारी ने केंद्रीय सतर्कता आयुक्त की शपथ ली, राष्ट्रपति के सचिव रह चुके है, कांग्रेस ने जताई थी आपत्ति!!

प्रदूषण रुकने की बड़ी वजह कोविड काल में ज्यादातर कारखानें बंद रहे। चिमनियों से काले धुंओं के गुबार नहीं निकले। इससे पर्यावरण को राहत मिली। लॉकडाउन में रायपुर शहर में वाहनों का परिचालन कम, पहिए थमने से वायु में घुलने वाले प्रदूषित तत्व कम निकले। त्योहारी सीजन और शादी-ब्याह के मौके पर आतिशबाजी पर रोक, इससे प्रदूषण स्तर में सुधार। पटाखों के गंध और धुंए से प्रदूषण लेवल 3 प्रतिशत हर साल ज्यादा। जरूरत की सामग्रियों में प्लास्टिक, पॉलिथीन और थर्माकोल का इस्तेमाल कम होने की वजह से भी ऑक्सीजन में प्रदूषण का स्तर पहले से घटा। पहले से बेहतर स्थिति स्थिति पहले से बेहतर है। निश्चित तौर पर कारखानें बंद रहने और गाड़ियों की रफ्तार पर ब्रेक लगने से पर्यावरण पर बड़ा असर पड़ा है। प्रदूषण के स्तर में काफी कमी आई है।

इसे भी पढ़े   YouTube ने भारत में लॉन्च किया YouTube Shorts ऐप, जानें इसके अनोखे फीचर्स के बारे में....

 

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING4 mins ago

भारत में वैक्सीन की वजह से पहली मौत, सरकार ने की पुष्टि…

पहली बार राष्ट्रीय AEFI कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में माना है कि 1 व्यक्ति की मौत कोरोना वैक्सीन की वजह...

BREAKING23 mins ago

दिनदहाड़े बाजार व्यापारी पर हथियारबंद युवकों ने बरसाईं गोलियां, देखें VIDEO

राजस्थान में बदमाशों के हौसले इतने बुलंद है कि दिनदहाड़े बड़ी से बड़ी वारदात को अंजाम दे रहे हैं. पिछले...

BREAKING46 mins ago

Instagram पर युवती का फोटो अपलोड कर अश्लील अभद्र कमेन्ट कर परेशान कर पैसे की मांग करने वाला गुजरात का सायबर अपराधी कवर्धा पुलिस के गिरफ्त में

कवर्धा(चैनल इंडिया)|  सिटी कोतवाली पुलिस ने इंस्टाग्राम पर युवती का फोटो अपलोड कर अश्लील अभद्र कमेन्ट कर परेशान करने और...

channel india1 hour ago

महिला पुलिसकर्मी को बनाया हवस का शिकार, वीडियो बनाकर किया वायरल, 3 लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ FIR

मुंबई में एक महिला पुलिसकर्मी के साथ रेप का मामला सामने आया है. मुंबई के मेघवाड़ी पुलिस स्टेशन में एक...

BREAKING2 hours ago

रक्षा मंत्रालय में निकली वैकेंसी, 10वीं पास कैंडिडेट कर सकते है आवेदन

रक्षा मंत्रालय की ओर से ग्रुप सी में भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी की गई है. दसवीं के बाद सरकारी...

Advertisement
Advertisement