PM BIRTHDAY :एक चायवाले से मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री तक का प्रेरणादायी सफर,जानिये पीएम मोदी के पुरे राजनीतिक सफर को – Channelindia News
Connect with us

FEATURED NEWS

PM BIRTHDAY :एक चायवाले से मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री तक का प्रेरणादायी सफर,जानिये पीएम मोदी के पुरे राजनीतिक सफर को

Published

on


रायपुर :प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 70 साल के हो गए हैं. इन 70 सालों में पीएम मोदी ने अपने जीवन में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं. उनकी जीवन यात्रा में जितनी उपलब्धियां हैं, उतने ही विवाद भी. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपलब्धियों में कई मोर्चों पर विवादों की भी अहम भूमिका रही. शायद ही कोई कल्पना कर सकता था कि एक गुजराती व्यक्ति की उत्तर भारत के हिंदीभाषी राज्यों में भी लोकप्रियता सिर चढ़कर बोलेगी.. आजाद भारत में जन्म लेने देश के पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी का आज जन्मदिन है. उनका जन्म सन् 1950 में गुजरात के वडनगर में एक गरीब परिवार में हुआ. उनके पिता दामोदरदास मोदी रेलवे स्टेशन पर चाय की दुकान लगाते थे, जिसमें वह भी उनका हाथ बटाया करते. पीएम मोदी के एक चायवाले से प्रधानमंत्री तक का सफर बड़ा ही अनोखा रहा है.मोदी अचानक राजनीति में नहीं आए. आठ साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यानी RSS से जुड़े. 1971 में संघ का पूर्णकालिक कार्यकर्ता बनने के बाद उनकी राजनीतिक शिक्षा-दीक्षा शुरू हुई. 1975 में आपातकाल के दौरान छिपकर वक्त गुजारना पड़ा. 1985 में भाजपा में संगठन का काम मिला.

गुजरात के भुज में आए भूकंप के बाद प्रशासनिक व्यवस्थाएं चरमरा गई थीं, तब 2001 में मोदी को मुख्यमंत्री बनाया गया. गुजरात दंगों को लेकर आरोपों से घिरे. लेकिन, गुजरात के विकास मॉडल को बेस बनाकर केंद्र की राजनीति में आए और 2014 में प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के तौर पर पहली बार किसी गैर-कांग्रेसी पार्टी यानी भाजपा की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाई. 2019 में पहले से बेहतर प्रदर्शन के साथ सत्ता में लौटे.बचपन में नरेंद्र मोदी का परिवार काफी गरीब था और इसलिए जीवन संघर्ष से भरा रहा. पूरा परिवार छोटे से एक मंजिला घर में रहता था. उनके पिता स्थानीय रेलवे स्टेशन पर एक चाय के स्टाल पर चाय बेचते थे. शुरुआती दिनों में पीएम नरेंद्र मोदी भी अपने पिता का हाथ बटाया करते थे. निजी जिंदगी के संघर्षों के अलावा पीएम मोदी एक अच्छे छात्र भी रहे.

इसे भी पढ़े   300 रुपये खर्च कर मंदिर का क्लर्क बना करोड़पति

उनके स्कूल के साथी नरेंद्र मोदी को एक मेहनती छात्र बताते हैं और कहते हैं कि वह स्कूल के दिनों से ही बहस करने में माहिर थे. वो काफी समय पुस्तकालय में बिताते थे. साथ ही उन्हें तैराकी का भी शौक था. नरेंद्र मोदी वडनगर के भगवताचार्य नारायणाचार्य स्कूल में पढ़ते थे. पीएम मोदी बचपन से ही एक अलग जिंदगी जीना चाहते थे और इसलिए पारम्परिक जीवन में नहीं बंधे.बचपन में पीएम मोदी का सपना भारतीय सेना में जाकर देश की सेवा करने का था, हालांकि उनके परिजन उनके इस विचार के सख्त खिलाफ थे. नरेन्द्र मोदी जामनगर के समीप स्थित सैनिक स्कूल में पढ़ने के बेहद इच्छुक थे, लेकिन जब फीस चुकाने की बात आई तो घर पर पैसों का घोर अभाव सामने आ गया. नरेंद्र मोदी बेहद दुखी हुए.

इसे भी पढ़े   केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह में हुई कोरोना की पुष्टि,जल्द की जाएंगी एम्स में भर्ती

 

बचपन से ही उनका संघ की तरफ खासा झुकाव था और गुजरात में आरएसएस का मजबूत आधार भी था. वे 1967 में 17 साल की उम्र में अहमदाबाद पहुंचे और उसी साल उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सदस्यता ली. इसके बाद 1974 में वे नव निर्माण आंदोलन में शामिल हुए. इस तरह सक्रिय राजनीति में आने से पहले मोदी कई वर्षों तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक रहे.इसके बाद 1980 के दशक में वह गुजरात की बीजेपी ईकाई में शामिल हुए. वह 1988-89 में भारतीय जनता पार्टी की गुजरात ईकाई के महासचिव बनाए गए. नरेंद्र मोदी ने लाल कृष्ण आडवाणी की 1990 की सोमनाथ-अयोध्या रथ यात्रा के आयोजन में अहम भूमिका अदा की. इसके बाद वो भारतीय जनता पार्टी की ओर से कई राज्यों के प्रभारी बनाए गए.

इसके बाद साल 1995 में उन्हें पार्टी ने और ज्यादा जिम्मेदारी दी. उन्हें भारतीय जनता पार्टी का राष्ट्रीय सचिव और पांच राज्यों का पार्टी प्रभारी बनाया गया. इसके बाद 1998 में उन्हें महासचिव (संगठन) बनाया गया. इस पद पर वो अक्‍टूबर 2001 तक रहे. लेकिन 2001 में केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री पद से हटाने के बाद मोदी को गुजरात की कमान सौंपी गई.प्रधानमंत्री मोदी ने जब साल 2001 में मुख्यमंत्री की पद संभाली तो सत्ता संभालने के लगभग पांच महीने बाद ही गोधरा कांड हुआ, जिसमें कई हिंदू कारसेवक मारे गए. इसके ठीक बाद फरवरी 2002 में ही गुजरात में मुसलमानों के खिलाफ़ दंगे भड़क उठे. इस दंगे में सैकड़ों लोग मारे गए. तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुजरात का दौरा किया, तो उन्होंनें उन्हें ‘राजधर्म निभाने’ की सलाह दी.

इसे भी पढ़े   दहशत : गांव गांव में घूम घूम कर खरीद रहे अन्य राज्यो से आए कबाड़ी संक्रमण कर

गुजरात दंगो में पीएम मोदी पर कई संगीन आरोप लगे. उन्हें मुख्यमंत्री के पद से हटाने की बात होने लगी तो तत्कालीन उप-प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी उनके समर्थन में आए और वह राज्य के मुख्यमंत्री बने रहे. हालांकि पीएम मोदी के खिलाफ दंगों से संबंधित कोई आरोप किसी कोर्ट में सिद्ध नहीं हुए.दिसंबर 2002 के विधानसभा चुनावों में पीएम मोदी ने जीत दर्ज की थी. इसके बाद 2007 के विधानसभा चुनावों में और फिर 2012 में भी नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी गुजरात विधानसभा चुनावों में जीती.

 

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india15 hours ago

पोष्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए आवेदन 30 नवम्बर तक

रायपुर (चैनल इंडिया)। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के प्राचार्य ने बताया है कि अनुसूचित जाति, अनसूचित जनजाति एवं अन्य...

balrampur16 hours ago

पुलिस अधीक्षक बलरामपुर द्वारा महिला संबंधी अपराधों की समीक्षा तथा गूगल स्प्रेडशीट के माध्यम से मॉनिटरिंग के संबंध में ली गई बैठक

बलरामपुर(चैनल इंडिया)। पुलिस महानिदेशक महोदय छत्तीसगढ़, पुलिस मुख्यालय रायपुर द्वारा 23 अक्टूबर को समस्त पुलिस अधीक्षकों की मीटिंग आयोजित की...

balrampur16 hours ago

कमलपुर के सचिव के ऊपर करीब 12 लाख रुपए गबन करने के आरोप पर एफआईआर दर्ज

शैलेंद्र कुमार द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर(चैनल इंडिया)। जिले के जनपद पंचायत वाड्रफनगर के ग्राम पंचायत कमलपुर के सचिव के ऊपर...

channel india16 hours ago

भाजपा की गुटबाजी और असंतोष के कारण सैकड़ो भाजपा कार्यकर्ताओं ने थामा कांग्रेस का हाथ : कांग्रेस

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं सचिव विकास तिवारी ने मरवाही उपचुनाव  पर बयान जारी करते हुए कहा...

channel india17 hours ago

पांच आदिवासी किसानों ने बदली बंजर जमीन और खुद की किस्मत, आम का ऐसा उत्पादन कि थोक व्यापारी खेत से ही खरीद लेते हैं फल

रायपुर(चैनल इंडिया)। सहकारिता की भावना के साथ एक सूत्र में बंधकर आगे बढ़ने की मिसाल है जशपुर जिले का सुरेशपुर...

खबरे अब तक

Advertisement