सक्ती अंचल के धान खरीदी केंद्रों में नहीं हो रहा धान का उठाव, खरीदी केंद्र प्रभारी परेशान… प्रशासन द्वारा 72 घंटे के अंदर धान उठाव का अनुबंध लेकिन बरती जा रही लापरवाही – Channelindia News
Connect with us

channel india

सक्ती अंचल के धान खरीदी केंद्रों में नहीं हो रहा धान का उठाव, खरीदी केंद्र प्रभारी परेशान… प्रशासन द्वारा 72 घंटे के अंदर धान उठाव का अनुबंध लेकिन बरती जा रही लापरवाही

Published

on

सक्ती(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ प्रदेश में धान खरीदी प्रारंभ होने के बाद से नित नई-नई परेशानियों के चलते जहां किसान परेशान हैं, तो वहीं धान खरीदी केंद्र के प्रभारी भी काफी परेशान दिख रहे हैं, वर्तमान में धान खरीदी केंद्रों में बफर लिमिट पार होने के बावजूद धान का समय पर उठाव नहीं हो रहा है, जिसके चलते खरीदी केंद्र प्रभारियों को जहां किसानों की खरी-खोटी सुनने को मिल रही है, तो वहीं खरीदी केंद्र प्रभारी धान की सुरक्षा को लेकर भी चिंता में हैं, किंतु इसके बावजूद न जाने क्यों संबंधित विभाग का जिला एवं उच्च स्तरीय प्रशासन इस व्यवस्था को बेहतर बनाने हेतु सक्रिय नजर नहीं आ रहा है, तथा वर्तमान में 2 दिनों से बादलों पर छाई काली घटाओं से भी खरीदी केंद्र प्रभारी चिंता में है।

इसे भी पढ़े   10वीं -12वीं की परीक्षाओं को छोड़कर स्कूल और काॅलेज 31 मार्च तक बंद- कोरोना वाइरस !!

उनका कहना है कि यदि धान का खरीदी केंद्रों से समय पर उठाव नहीं हुआ और यदि बेमौसम बारिश हो गई तो इसका खामियाजा सीधे-सीधे उनको भुगतना होगा, किंतु प्रशासन को चाहिए कि धान के उठाव की समुचित व्यवस्था करें जिससे कि खरीदी केंद्रों में अन्य किसानों का धान खरीदी किया जा सके इस वर्ष धान खरीदी की अव्यवस्था को लेकर चारों ओर हाहाकार मचा हुआ है एक ओर जहां राज्य की विपक्षी राजनीतिक पार्टी भाजपा धान खरीदी में अव्यवस्था को लेकर आंदोलन कर रही है, तो वही किसानों की जबान पर भी कहीं न कहीं इस वर्ष की व्यवस्था के चलते नाराजगी देखी जा रही है।

इसे भी पढ़े   हादसा : ट्रांसफार्मर में चिपक कर युवक की दर्दनाक मौत

चाहे मामला बारदानों की कमी का हो या की खरीदी केंद्रों में बेहतर सुविधाओं का, ज्ञात हो कि धान खरीदी केंद्रों में आवक धान में कमी पाए जाने पर खरीदी केंद्र प्रभारियों को अनेकों मर्तबा इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है, तथा खरीदी केंद्र प्रभारी भी चाहते हैं कि धान का समय पर उठाव हो जाए, जिससे धान में आने वाली सूखत या की अन्य परेशानियों से बचा जा सके।

इसे भी पढ़े   कोरोना काल में छत्तीसगढ़ के घाटों पर नहीं मनेगा छठ पर्व, प्रशासन ने श्रद्धालुओं को दी ये सलाह
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

R.O. No. 11359/53

CG Trending News

Surguja division level meeting of Rajiv Gandhi Panchayati Raj Organization concludes Surguja division level meeting of Rajiv Gandhi Panchayati Raj Organization concludes
ambikapur31 mins ago

राजीव गांधी पंचायती राज संगठन का सरगुजा संभाग स्तरीय बैठक सम्पन्न

सूरजपुर/अम्बिकापुर। राजीव गांधी पंचायती राज संगठन का संभाग स्तरीय समीक्षा एवम समन्वय बैठक संगठन के प्रदेश प्रभारी राजकुमार किराडू की...

channel india31 mins ago

बहोत ही कम उम्र में छोटे-छोटे बच्चों ने बनाली है अपनी ही बैंड पार्टी, मिलने लगे परफॉर्म करने का ऑर्डर

धमतरी: धमतरी के मकई तालाब के पास रहने वाले छोटे-छोटे बच्चो ने अपना ही बैंड पार्टी बना लिया और अपने...

channel india32 mins ago

राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष 22 जनवरी को गरियाबंद प्रवास पर

गरियाबंद । छत्तीसगढ़ राज्य गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष महन्त रामसुन्दर दास जी महाराज पीठाधीश्वर दूधाधारी मठ रायपुर का तीन...

BREAKING47 mins ago

नया रायपुर : अग्यात महिला के शव की अब तक नहीं हुई पहचान,आस पास के छेत्रो में भी पूछ ताछ जारी

रायपुर|20.01.21: नया रायपुर में मिली एक महिला का शव सड़क के किनारे खेत पर, मंदिर हसौद थाने के पुलिसकर्मी अबतक...

Forest Rights Committee completes hearing of 1226 claims of 12 villages in 4 days Forest Rights Committee completes hearing of 1226 claims of 12 villages in 4 days
channel india1 hour ago

वन अधिकार समिति ने 4 दिनों में की 12 गावों के 1226 दावों की सुनवाई पूरी

अम्बिकापुर। आदिवासी विकास विभाग के सहायक आयुक्त जे.आर. नागवंशी के मुताबिक, जिला स्तरीय वन अधिकार समिति सरगुजा द्वारा स्वप्रेरणा से...

खबरे अब तक

Advertisement
Advertisement