खबरे अब तक

bilaspurchannel indiaCHANNEL INDIA NEWSSpecial Newsखबरे छत्तीसगढ़रायपुरसक्ती

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के आव्हान पर किसान आंदोलन के समर्थन में एक दिवसीय धरना एवं पत्र वार्ता कार्यक्रम



सक्ति |छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के आव्हान पर एवं जिला कांग्रेस कमेटी के कुशल मार्गदर्शन में किसान आंदोलन के समर्थन में केंद्र सरकार द्वारा पारित तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ एक दिवसीय धरना एवं पत्र वार्ता कार्यक्रम में विशेष रूप से पर्यवेक्षक श्रीमती रश्मि गवेल की उपस्थिति मे सम्पन्न हुआ |जिसमे कुमार धर्मेन्द्र सिंह कन्हैया कंवर ग्रामीण कांग्रेस ब्लाक अध्यक्ष शहर कांग्रेस अध्यक्ष त्रिलोकचंद जायसवाल पुर्व नगरपालिका अध्यक्ष श्यामसुंदर अग्रवाल गिरधर जायसवाल पुर्व अधिवक्ता संघ अध्यक्ष रविन्द्र चौबे जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष गीता देवांगन रामू जायसवाल रवि गवेल एनएसयूआई अध्यक्ष सक्ती विधानसभा पुष्पेन्द्र चन्द्रा प्रवक्ता पुर्णेश गवेल नागेश दिनकर अमित राठौर विधायक प्रतिनिधि श्याम महंत उमेश कुमार भावेश गवेल कौशलेंद्र गवेल भूपेंद्र सिंह बसंत गोड़‌ देवरमाल के पुर्व जनपद सदस्य प्यारे लाल एंव समस्त कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारि एंव सदस्यगण ग्रामिण किसान बंधु शामिल हुए|

इसे भी पढ़े   रायपुर ब्रेकिंग : कुएं मे गिरने से दो बच्चों की मौत , पुलिस जांच मे जुटी

आप को बता दें की जिसमे कुमार धर्मेन्द्र सिंह ने कहा कि किसान देश की शान है|जिनके वजह से देश चलता है उन पर यह काला कानून थोपने का प्रयास भाजपा की मोदी सरकार कर रही है यहा युवा किसानों के साथ है पुरा देश किसानों के साथ हो रहे अत्याचार को देख रही है और आने वाले समय में देश भाजपा को इसका जवाब जरूर देगी साथ ही कहा कि हम सब किसाने के साथ है विदित हो कि दिल्ली बाडर पर बैठे किसानों के सहयोग के लिए सक्ती विधानसभा एनएसयूआई के युवा साथियों ने एक पिकअप अनाज इकट्ठा कर अपना सहयोग भेजा है साथ हि कार्यक्रम पर्यवेक्षक रश्मि गवेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार एक तरफ किसानों को किया वादा पुरा कर किसानों के साथ खड़ी है वहीं केन्द्र की भाजपा सरकार किसानों को छलने का कार्य कर रही है एंव ऐसे कानून बना कर किसान भाईयों को ग़रीब और भूखमरी की ओर भेजने का प्रयास कर रही है यह काला कानून वापस होना चाहिए हम इस काले कानून का विरोध करते हुए मोदी जी से इस कानून को वापस लेने की मांग करते हैं।