अब छूटेंगे PAK और चीन के पसीने,देश बना रहा ऐसे हथियार – Channelindia News
Connect with us

FEATURED NEWS

अब छूटेंगे PAK और चीन के पसीने,देश बना रहा ऐसे हथियार

Published

on


युद्ध के तरीके बदल रहे हैं और हथियार भी. अब पारंपरिक हथियारों की जगह दूर से हमला करने वाले हथियार विकसित हो रहे हैं. भविष्य में युद्ध अत्यधिक ऊर्जा वाले हथियारों से लड़ा जाएगा. हॉलीवुड फिल्म स्टार वार्स के हथियारों की तरह भारत भी ऐसे हथियार बनाने जा रहा है जिसके हमले से पड़ोसी दुश्मन देश कांपेंगे. भारत पर हमला करने से पहले ही उनके पसीने छूट जाएंगे. आइए जानते हैं भविष्य में बनने वाले इन भारतीय हथियारों के बारे में…डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) भी देश के लिए लेजर से हमला करने वाले हथियार बना रहा है. इन हथियारों को डायरेक्ट एनर्जी वेपन (Direct Energy Weapon – DEW) कहते हैं. इनके अलावा ऐसे हथियार भी बनाए जा रहे हैं जो माइक्रोवेव किरणें छोड़कर दुश्मन के इलेक्ट्रॉनिक, रेडियो सिस्टम, संचार सिस्टम आदि को नष्ट कर देंगे. संचार की कमी और कमांड न दे पाने की स्थिति में दुश्मन बेहद कमजोर हो जाता है.

इसे भी पढ़े   सोने के भाव में फिर आया उछाल, चांदी में भी चमकी

 

इससे उसपर हमला करना आसान हो जाता है. DEW में हाई एनर्जी लेजर (High Energy Laser) और हाई पावर माइक्रोवेव्स (High Power Microwaves) शामिल हैं. इन हथियारों को बनाने के लिए भारत सरकार ने एक राष्ट्रीय स्तर का प्रोग्राम बनाया है. इसमें अलग-अलग तरह के DEW हथियार होंगे. जिनकी क्षमता 100 किलोवॉट पावर की होगी. यानी ये हथियार देश पर दुश्मन की तरफ से आने वाली किसी भी छोटी मिसाइल या फाइटर जेट या ड्रोन को आसमान में नष्ट कर देंगे. इस प्रोजेक्ट को नाम दिया गया है ‘काली’ बीम. यह लेजर बीम हमले में न तो आवाज होती है न ही किसी तरह धूम-धड़ाका. यह चुपचाप अपने दुश्मन टारगेट में छेद कर देती है या फिर उसे जलाकर राख कर देती है. इन हथियारों को पूरा होने में कितना समय लगेगा, ये बता पाना मुश्किल है. पिछले दिनों भारत ने दो एंटी ड्रोन DEW सिस्टम बनाए थे. इनकी टारगेट रेंज एक से दो किलोमीटर है. हालांकि, ये स्वदेशी हथियार यूएस, रूस, चीन, जर्मनी, इजरायल की तुलना में अभी बेहद छोटे हैं.

इसे भी पढ़े   भारत के लिए बड़ा झटका ,ऑक्सफ़ोर्ड की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रुका

 

इनकी मदद से एक से ज्यादा ड्रोन, वाहन या नावों को नष्ट किया जा सकता है. डीआरडीओ ने भविष्य की जरूरतों को देखते हुए अगले 10 साल की योजना तैयार की है. पहले फेज में ऐसे हथियारों की रेंज को 6-8 किलोमीटर, फिर दूसरे फेज में 20 किलोमीटरतक बढ़ाने की तैयारी है. इन हथियारों की खासियत है कि इनसे दुश्मन का बचना मुश्किल है. ये बेहद सटीक निशाना लगाते हैं. अन्य हथियारों की तुलना में इनकी ऑपरेशनल कॉस्ट कम होती है. एक साथ हमला करने वाले कई टारगेट्स को अकेले एक लेजर हथियार संभाल सकता है. अगर बिजली की सप्लाई सही से मिल रही है तो इसे कई बार उपयोग किया जा सकता है. अमेरिका ने कई साल पहले 33 किलोवॉट के लेजर गन से ड्रोन्स मार गिराए थे. अमेरिका के पास 300 से 500 किलोवॉट तक के डायरेक्ट एनर्जी वेपन बनाए हैं, जो क्रूज मिसाइलों पर भी हमला कर सकते हैं.

इसे भी पढ़े   बड़ी खबर : हैंड सेनिटाइजर से कार में भड़की आग,एनसीपी नेता जलकर राख...

 

भारतीय सेनाओं के लिए पहले फेज में 20 हाई पावर इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेपन सिस्टम की जरूरत होगी. ये 6-8 किलोमीटर रेंज के होंगे. दूसरे फेज में 15 किलोमीटर रेंज वाले हाई पावर इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेपन सिस्टम की जरूरत पड़ेगी.डायरेक्ट एनर्जी वेपंस एक ही जगह पर तैनात करके आप कई किलोमीटर दूर तक हमला या बचाव कर सकते हैं. इससे निकलने वाली किरणें चाहे वो लेजर हो या इलेक्ट्रोमैग्निक किरणें या फिर सब-एटॉमिक पार्टिकल्स या फिर माइक्रोवेव किरणें, ये दुश्मन को पल भर में चित कर देती हैं. इनके निकलने से लेकर हिट करने तक कोई आवाज या धमाका नहीं होता. इसलिए दुश्मन को इनके हमले का पता नहीं चलता. भारतीय सेना को एक मिसाइल को नष्ट करने के लिए कम से कम 500 किलोवॉट का लेजर हथियार चाहिए.

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

balrampur4 hours ago

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए तृतीय काउंसलिंग 31 अक्टूबर को

बलरामपुर 27 अक्टूबर 2020।  शैक्षणिक सत्र 2020-21 अंतर्गत बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में कक्षा 6वीं में...

balrampur4 hours ago

समय-सीमा की बैठक सम्पन्न, लंबित प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निराकरण करने कलेक्टर का निर्देश

बलरामपुर 27 अक्टूबर 2020। कलेक्टर श्याम धावड़े ने समय-सीमा की बैठक में विभिन्न विभागों में लंबित प्रकरणों की समीक्षा की।...

ambikapur4 hours ago

वर्मी कम्पोष्ट खाद बनाने में लापरवाही पर जनपद सीईओ को कारण बताओ नोटिस, साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक सम्पन्न

अम्बिकापुर 27 अक्टूबर 2020। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में...

ambikapur4 hours ago

ई-मेगा कैम्प में बड़े पैमाने पर किया जाएगा प्रकरणों का निराकरण,31 अक्टूबर को होगा आयोजन

अम्बिकापुर 27 अक्टूबर 2020। जिला एवं सत्र न्यायाधीश बी.पी. वर्मा के निर्देशानुसार राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा 31 अक्टूबर को...

channel india5 hours ago

मुख्यमंत्री का निर्देश हुआ बेअसर ,पटवारी मस्त,, किसान त्रस्त

रिपोर्टर एसके द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर   | जिले के वाड्रफनगर विकासखंड में पटवारियों का दबदबा देखते ही बन रहा है...

खबरे अब तक

Advertisement