प्रधानमंत्री आवास योजना से चंदर, नीलावती एवं महादई को मिला पक्का मकान

प्रधानमंत्री . नरेन्द्र मोदी के गरीब परिवारों को पक्का आवास सुलभ कराने की अनूठी योजना से फलीभूत हुई है। ज्ञात हो कि इन हितग्राहियों के आवासों को देखने पहुंचे कलेक्टर

प्रधानमंत्री आवास योजना से चंदर, नीलावती एवं महादई को मिला पक्का मकान

जगदलपुर, जगदलपुर शहर के समीप बाबू सेमरा एवं खुटपदर में प्रधानमंत्री आवास योजनान्तर्गत लाभान्वित हितग्राही सरकार की सहायता से पक्का और अच्छा मकान बनवाकर अब खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहे हैं। इस बसाहट के चंदर, नीलावती एवं महादई ने बताया कि अपने जीवन में धूप, बारिश और ठण्ड को काफी सह चुके हैं,जब कच्चा मकान था और बारिश होती थी तो छत से पानी टपकने की परेशानी के साथ ही रात में सांप- बिच्छू का डर बना रहता था। लेकिन अब सरकार की सहायता से पक्का आवास मिला तो परिवार के सभी सदस्य सहूलियत के साथ रह रहे हैं। इन लाभार्थियों ने बताया सरकार से आवास के लिए जो सहायता राशि मिली थी, उस राशि में अपनी बचत राशि को मिलाकर अतिरिक्त कमरे बनाकर सबके लिए सुरक्षित रहवास की जरूरत को पूरा किये हैं। यह सब प्रधानमंत्री . नरेन्द्र मोदी के गरीब परिवारों को पक्का आवास सुलभ कराने की अनूठी योजना से फलीभूत हुई है। ज्ञात हो कि इन हितग्राहियों के आवासों को देखने पहुंचे कलेक्टर . विजय दयाराम के. और अन्य अधिकारियों ने भी उक्त पक्का मकानों की प्रशंसा कर उन्हें बधाई दी।


   
       इसी तरह जगदलपुर ब्लॉक अंतर्गत नगरनार निवासी प्रहलाद कश्यप का परिवार दो साल पहले तक मिट्टी से बने खपरैल वाले घर में बारिश, ठंड और धूप के मौसम में जैसे-तैसे रहकर दिन गुजार रहे थे लेकिन अब प्रधानमंत्री आवास योजना की सहायता से पक्का मकान में सुकून के साथ जिंदगी बिता रहे हैं। अभी हाल ही में नगरनार साप्ताहिक बाजार में साग-सब्जी की खरीदी कर रहे प्रहलाद से भेंट होने पर उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना गरीब परिवारों को स्वयं का घर मुहैया कराने के लिए वरदान साबित हो रही है। करीब दो साल पहले जब उनका नाम प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत आवास बनाने के लिए ग्राम सभा से अनुमोदित कर भेजा गया तो प्रहलाद ने सपने में भी नहीं सोचा था कि वह अपना पक्का मकान बना लेंगे। लेकिन जब ग्राम पंचायत से उन्हें सूचना मिली कि उनके नाम पर प्रधानमंत्री आवास निर्माण के लिए एक लाख 20 हजार रुपये की स्वीकृति दी गई है तो वे काफी खुश हुए और परिवार के सदस्यों को यह जानकारी दी। परिवार के लोगों ने भी पक्का मकान बनाने की मनोकामना पूरी होने की उम्मीद जताई। इसके बाद स्वीकृति के अनुरूप पहली किश्त की राशि प्रहलाद के बैंक खाते में अंतरित हुई तो उसे पूरा यकीन हो गया कि अब वह किसी भी हालत में पक्का मकान के सपने को अवश्य साकार करेगा।
      प्रहलाद ने आवास निर्माण की स्वीकृति के बाद स्वयं ही मकान बनाने का निर्णय लिया और घर-परिवार के लोगों के साथ घर बनाने के काम में लग गया। प्रहलाद को मकान बनाने के काम का मजदूरी भी मनरेगा से मिली तो वह इस काम में पूरी लगन के साथ जुट गया और डेढ़ साल पहले अपना खुद का पक्का मकान तैयार कर लिया। अब उसके परिवार के लिए सुरक्षित रहवास का पुख्ता इंतजाम हो गया तो पूरा परिवार खेती-किसानी कर खुशहाली के साथ जीवन व्यतीत कर रहा है और पक्का मकान बनाने के लिए प्रधानमंत्री . नरेन्द्र मोदी के प्रति कृतज्ञता प्रकट करते हैं। प्रहलाद बताते हैं कि वे गांव के जलीन माता के पुजारी भी हैं तो वे हमेशा पूरे गांव के लोगों के लिए सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना करते हैं।