टोल पर FASTag से दो बार कट गए पैसे तो जानिए कैसे रिफंड होगा आपका पैसा… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

टोल पर FASTag से दो बार कट गए पैसे तो जानिए कैसे रिफंड होगा आपका पैसा…

Published

on


अब आपको देशभर कि अधिकतर टोल प्लाजा पर लगने वाली लंबी लाइन से छुटकारा मिल चुका है. केंद्र सरकार ने इन टोल प्लाजा पर फास्टैग अनिवार्य कर दिया है. इस सुविधा के जरिए किसी भी वाहन को टोल प्ला्ज पर रुककर कैश पेमेंट करने की जरूरत नहीं होती. यहां पर फास्टैाग लेन से गुजरने पर ऑटोमेटिक रूप से पैसे कट जाता है. इसके लिए किसी भी बैंक या पेटीएम से एक नॉमिनल चार्ज देकर प्राप्तप किया जा सकता है.
फास्टैग के लागू किए जाने के बाद नेशनल हाईवे पर चलने वाले वाहनों के लिए कई तरह की सुविधाएं मिलती हैं. इससे ईंधन की भी बचत होती है. लेकिन फास्टैग को अनिवार्य किए जाने के साथ ही कई तरह की समस्यांएं भी सामने आ रही हैं. कई बार लोग फास्टैग लेने से पास करने पर लोगों को ट्रांजैक्शन से जुड़ी समस्यांएं आ रही हैं. ऐसे में जरूरी है कि आपको पता रहे कि ऐसी किसी स्थिति में किसे और कैसे संपर्क करना है. आज हम आपको इसी के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं.

इस बीच लोगों का एक अहम सवाल यह है कि अगर टोल प्लाजा पर फास्टैग से डबल चार्ज कट जाए तो क्या करना चाहिए, क्योंकि ऐसा होने की संभावना है. इसके बारे में भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम ने बताया है कि अगर डबल पैसे कट जाएं जिस बैंक से फास्टैग खरीदा गया है, उसके कस्टमर केयर सेंटर पर बात करनी चाहिए. सेंटर को यह बताना चाहिए कि फास्टैग से डबल टोल टैक्स कट गया है.
बैंक आपकी शिकायत दर्ज करेगा और जरूरी छानबीन के बाद आपके फास्टैग खाते में डुप्लिकेट ट्रांजेक्शन का पैसा रिटर्न हो जाएगा. अगर निश्चित अवधि में आपको रिफंड नहीं मिलता है तो आपको बैंक के कस्टमर केयर सेंटर पर तत्काल फोन करना चाहिए और इसकी शिकायत दर्ज करानी चाहिए.

इसे भी पढ़े   मीटर रीडिंग -बिलिंग पर 31 मार्च तक रोक, हाफ रेट के तहत् एक मुश्त दो माह का लाभ>>>>

फास्टैिग में ट्रांजैक्शरन से जुड़ी कई तरह की समस्याहएं हो सकती हैं?
सबसे पहले तो यह जान लेते हैं कि फास्टैडग के ट्रांजैक्शरन से जुड़े किस तरह की समस्यातएं आ सकती है. हम आपको कुछ प्रमुख समस्या़ओं के बारे में बता रहे हैं. इनके अलावा भी पेमेंट से जुड़ी अन्यह तरह की समस्यायएं हो सकती है. आगे इसके लिए शिकायत करने के तरीके के बारे में भी बताएंगें.
1. किसी फास्टैीग लेन में एक ही बार क्रॉस करने पर दो बार पैसे कट जाते हैं.
2. कई बार ऐसा भी होता है कि आपके फास्टैरग से पैसे नहीं कटते हैं और आप कैश में पेमेंट कर देते हैं. इसके थोड़ी देर बाद मैसेज आता है कि फास्टैहग से भी पैसे कट गए हैं. ऐसी भी स्थि‍ति में आपको दो बार पैसे देने पड़ते हैं.
3. ऐसा भी होता है कि तय चार्ज से अधिक पैसे कट जाते हैं.
4. 24 घंटे में वापसी करने पर चार्ज में कुछ छूट मिलती है. लेकिन कई बार ऐसा भी होता है कि वापसी में भी पूरे पैसे कट जाते हैं.
5. ऐसा भी होता है कि पास लेने या किसी छूट मिलने के बाद भी फास्टै ग से पैसे कट जाते हैं.

इसे भी पढ़े   मतदाता सूची में नए मतदाताओं का नाम जोड़ने के लिए 15 दिसंबर तक चलेगा विशेष अभियान

किन बातों का रखें ध्या न रखें?
फास्टैतग से जुड़ी शिकायत करने के लिए आपको पहले से ही कुछ बातों को ध्याैन में रखना होता है. सबसे पहले तो यह ध्यान में रखें कि फास्टैग से जुड़े लेनदेन की ट्रांजैक्शन आईडी या रेफरेंस नंबर संभाल कर रखें. संभव हो तो पैसे कटने पर आपके फोन पर आए मैसेज का स्क्रीन शॉट भी रखें. अगर आपने फास्टैेग से पैसे नहीं कटने की स्थिति में कैश पेमेंट किया है तो उसकी स्पष्टं स्कैरन कॉपी भी रखें.

कैसे करें शिकायत?
आपको बता दें कि फास्टैशग के लेनदेन से जुड़ी शिकायत करने के लिए आपके पास दो तरीके हैं. पहला तो यह कि आपने जिस बैंक या पेटीएम से फास्टैाग लिया है, उसके आधिकारिक टोल फ्री नंबर पर कॉल करके शिकायत दर्ज कराएं. ये कस्टमर केयर एग्जीक्युनटिव आपको पूरी जानकारी देंगे और समस्या का समाधार कर देंगे. शिकायत दर्ज करने का दूसरा तरीका संबंधित बैंक के फास्टैग के पोर्टल है. हर बेंक ने फास्टैंग के लिए अलग से पोर्टल बनाया है. इस पोर्टल पर आपको अपने फास्टैेग से जुड़ी पूरी जानकारी मिल जाएगी.

इसे भी पढ़े   इस प्रदेश का पूरा का पूरा अस्पताल हो गया गायब, दिया था 10 हजार वैक्सीन का ऑर्डर

पहला तरीका
फास्टैग जारी करने वाले बैंक टोल फ्री नंबर
आईसीआईसीआई बैंक 1860-210-0104
एक्सिस बैंक 1800-103-5577
आईडीएफसी बैंक 1800-266-9970
एसबीआई बैंक 1800266-9970
इक्विटास बैंक 1800-419-1996
एचडीएफसी बैंक 1800-120-1243
सिंडिकेट बैंक 1800-425-0585
पेटीएम 1800-102-6480
पंजाब नेशनल बैंक 0806-729-5310
फेडरल बैंक 1800-266-9520
कोटक महिंद्रा बैंक 1800-266-6888

दूसरा तरीका
दूसरा तरीका बैंकों के फास्टैग पोर्टल के जरिए शिकायत करने का होता है. पेटीएम ऐप में भी फास्टैग के लिए अलग से व्यवस्था की गई है. फास्टैग पोर्टल पर भी ओटीपी के जरिए रजिस्ट्र करना होता है. यहां आपको यूजर आईडी पासवर्ड बनाना होगा. इस पोर्टल पर आपके फास्टैग से जुड़ी कई जानकारी होती है. जैसे आपके फास्टैग में कितना बैलेंस है, लास्टफ ट्रांजैक्शन कब और कहां हुआ है. हर पोर्टल पर शिकायत करने के लिए अलग से सेक्शन होता है. अगर किसी पोर्टल पर इसके लिए अलग से शिकायत की व्यावस्थाए नहीं है तो उसमें ट्रांजैक्श न पर क्लिक करने पर आपको यह विकल्पए मिल जाएगा.
इन पोर्टल पर ट्रांजैक्शन से जुड़े Dispute Raise करने के लिए कई तरह के कारण लिस्ट किए गए होते हैं. यहां पर आपको सही वजह को क्लिक करना होगा. यहां पर शिकायत दर्ज करने के बाद आपको मैसेज भेजा जाएगा कि शिकायत दर्ज की जा चुकी है. हर बैंक/पोर्टल का एक तय समयसीमा है, जिसके अंदर आपकी शिकायत का निपटारा कर दिया जाएगा.

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING50 mins ago

अगर आपके पास भी है एक्सपायरी ड्राइविंग लाइसेंस तो घबराने की जरूरत नहीं, रिन्यू करवाने के लिए करें ये काम

अगर आप सड़कों पर वाहन चलाने के शौकीन हैं, तो आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना बेहद जरूरी है। आप यह...

BREAKING1 hour ago

तहसील परिसर में युवक ने सोशल मीडिया में लाइव आकार खुद को मारी गोली, पूर्व SDM पर लगाए गंभीर आरोप

मध्य प्रदेश के रायसेन में एक शख्स ने फेसबुक लाइव के दौरान खुद को गोली मार ली. इस घटना का...

BREAKING1 hour ago

टीका लगवाने के और भी हैं फायदे, ये बड़ी कंपनियां दे रही हैं शानदार ऑफर, पढ़े पूरी खबर…

वैक्सीनेशन ड्राइव को लेकर निजी कंपनियों भी उत्साहित हैं। वजह ये है कि जितनी ज्यादा संख्या में लोगों को टीका...

BREAKING1 hour ago

अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया ब्लैकमेल, फरार आरोपी हुआ गिरफ्तार…

धरसींवा(चैनल इंडिया)|  जून माह के प्रथम सप्ताह में थाना ख़रोरा अंतर्गत ग्राम के सरपंच पति को उसका अश्लील विडीओ वायरल...

BREAKING2 hours ago

चीन सीमा से लगे उत्तराखंड के इस छोटे से गांव का कभी भी मिट सकता है नामों निशान, लोगों में दहशत का माहौल, जानिए क्यों?

हर साल उत्तराखंड में मानसून अपने साथ खतरा भी साथ लाता है. बारिश होते ही कई गांव और कस्बों में...

Advertisement
Advertisement