इस गुफा में छिपा है लाखों साल पुराना खजाना लेकिन यहां से जिंदा लौट पाना है नामुमकिन – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

इस गुफा में छिपा है लाखों साल पुराना खजाना लेकिन यहां से जिंदा लौट पाना है नामुमकिन

Published

on

दुनिया में कुछ ऐसी अजीबोगरीब चीजें या घटनाएं होती हैं, जो लोगों के बीच हमेशा के लिए चर्चा का विषय बन जाती हैं।वहीं दुनिया में कई ऐसी जगहें भी हैं जहां कुछ अनोखे तो कुछ विचित्र रहस्य छुपे हुए हैं, लेकिन इन रहस्यों के बारे में जान पाना हर किसी के लिए आसान काम नहीं होता है। ऐसी ही एक जगह मेक्सिको में है, जहां एक अनोखा राज छुपा हुआ है। इस जगह पर विशाल आकार के कई क्रिस्टल मौजूद हैं। ये क्रिस्टल किसी खजाने से कम नहीं हैं, लेकिन कहा जाता है कि इस जगह पर जाना मौत के मुंह में जाने जैसा ही होता है।  मेक्सिको में ये रहस्यमयी जगह एक गुफा है। इस गुफा का नाम जायंट क्रिस्टल केव है।यहां एक पहाड़ के करीब 984 फीट नीचे गुफा में क्रिस्टल के विशाल पिलर यानी खंबे मौजूद हैं, जो बेहद कीमती हैं। आइये जानते हैं इस जगह के बारे में कुछ हैरान कर देने वाली बातें…

साल 2000 में इनके बारे में जब वैज्ञानिकों को पता चला तो वो हैरान रह गए, क्योंकि खुदाई के दौरान पहाड़ के इतनी नीचे ये अद्भुत नजारा देखने को मिला था। वैज्ञानिकों के मुताबिक ये क्रिस्टल जिप्सम से बने हुए हैं जो एक प्रकार का खनिज होता है। इसे  पेपर और टेक्सटाइल इंडस्ट्री में फिलर की तरह इस्तेमाल करते हैं। साथ ही इमारतें बनाने के लिए सीमेंट में भी इस्तेमाल किया जाता है।  इस गुफा में मौजूद क्रिस्टल से बने ये खंबे 5 लाख साल से भी ज्यादा पुराने हैं। साइंस की एक वेबसाइट के मुताबिक इस जगह पर अब जाना नामुमकिन है, क्योंकि यहां का तापमान बहुत अधिक है। एक समय जब ये जगह इंसानों के जाने के लिए खुली थी तब उस दौरान कई मौतें भी हुई थीं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक इन क्रिस्टल के नीचे बहुत गरम मैगमा पाया जाता था और करीब 2 करोड़ से भी ज्यादा साल पहले ये मैगमा दरारों से धीरे-धीरे बाहर आना शुरू हो गया था। इस मैगमा के बाहर आने से ही पहाड़ का निर्माण हुआ है। इसी मैगमा के जरिए क्रिस्टल भी बनते गए। वैज्ञानिकों का मानना है कि जब मैगमा बाहर निकला तो गुफा में पानी भी मौजूद था। इस पानी में एनहाईड्राइट खनिज था। वहीं गुफा का तापमान 58 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा था। इतने तापमान में एनहाईड्राइट अपने असली रूप में रहता है, लेकिन जैसे ही तापमान 58 से कम हुआ होगा, इसने क्रिस्टल का आकार लेना शुरू कर दिया होगा। एक तो तापमान इतना ज्यादा और दूसरा हवा में नमी 100 फीसदी बनी रहती है, जिसके कारण लोग डिहाईड्रेशन से मर जाते हैं।

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING9 hours ago

भाजपा जिला संगठन में नेतृत्व परिवर्तन होना चाहिए: संतु दास

बीजापुर(चैनल इंडिया)|भाजपा संगठन में अन्तकर्लह और बयानबाजी सोशल मीडिया में जोरो पर बढ़ता जा रहा है ठंडी के मौसम राजनीति...

BREAKING10 hours ago

ISRO दे रहा है फ्री ऑनलाइन कोर्स करने का मौका, जानिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन…

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन  छात्रों के लिए एक फ्री ऑनलाइन कोर्स की पेशकश कर रहा है. 12-दिवसीय पाठ्यक्रम ‘देहरादून स्थित...

BREAKING10 hours ago

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा- देश की अर्थव्यवस्था विकास के स्थिर पथ पर है, GDP संख्या उत्साजनक होगी…

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  ने आज की साझेदारी में शनिवार को आयोजित एचटी लीडरशिप समिट में कहा कि...

BREAKING10 hours ago

गोदावरी पावर एंड इस्पात लिमिटेड अब “ग्रेट प्लेस टू वर्क” -प्रमाणित

रायपुर(चैनल इंडिया)| गोदावरी पावर एंड इस्पात लिमिटेड (हीरा ग्रुप की इकाई ) अब “ग्रेट प्लेस टू वर्क” से प्रमाणित है।...

BREAKING10 hours ago

कमजोर पड़ा चक्रवात ‘जवाद’, छग में टला बारिश का खतरा

रायपुर(चैनल इंडिया)| समुद्री चक्रवात जवाद के रूप में मंडरा रहा खतरा टलता दिख रहा है। मौसम विभाग ने बताया है,...

Advertisement
Advertisement