खबरे अब तक

BREAKINGchannel indiaCHANNEL INDIA NEWSSpecial Newsक्राइमखबरे छत्तीसगढ़देश-विदेशरायपुर

मिलिशिया सदस्य ने किया पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण



बीजापुर|पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप, कमांडेंट 229 विवेक भण्डराल के मार्ग दर्शन में जिले में चलाए जा रहे माओवादी उन्मूलन अभियान के तहत् बासागुड़ा-जगरगुण्डा एरिया कमेटी के मिलिशिया सदस्य आयतु कारम पिता स्व0बुधरू उम्र 30 वर्ष निवासी बुड़गीचेरू तालाबपारा, थाना बसागुडा, जिला बीजापुर ने आज  उप महानिरीक्षक केरिपु ऑप्स  कोमल सिंह, अति0पुलिस अधीक्षक  पंकज शुक्ला, उप कमांडेंट संजय कुमार सिंह, उप कमांडेंट राजशेखर रावत केरिपु 229,  आशीष कुंजाम उप पुलिस अधीक्षक ऑप्स के समक्ष माओवादियो की खोखली विचारधारा, जीवन शैली, भेदभाव पूर्ण व्यवहार एवं प्रताड़ना से तंग आकर तथा छत्तीसगढ़ शासन के पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर आत्मसमर्पण किया ।

इसे भी पढ़े   और कितना झूठ बोलेंगे राहुल गांधी....पूर्व CM रमन का हमला

पुलिस के द्वारा दी गई  जानकारी के अनुसार उक्त नक्सली

2012 में माओवादी संगठन में शामिल हुआ । वर्ष 2013 में बासागुड़ा-जगरगुण्डा एरिया कमेटी में मिलिशिया सदस्य की जिम्मेदारी दी गई । संगठन में एक पार्टी से दूसरे पार्टी तक चिट्टी पहुचाना, पुलिस बल की रेकी करना एवं आने जाने के रास्ते में आईईडी प्लांट का काम करना करता रहा।

इसे भी पढ़े   AUS vs IND: फिर आइसोलेशन में जाने पर भारतीय खिलाड़ियों ने दी बॉयकॉट की धमकी

 

वर्ष 2013 में एसजेडसी हिड़मा के साथ मिनपा केरिपु कैम्प पर हमले में शामिल रहा

वर्ष 2014 में प्लाटून नम्बर 09 विज्जा के टीम के साथ चिन्नागेलुर के जंगलों में पुलिस पार्टी के साथ मुठभेड़ जिसमें 02 जवान घायल हुए थे ।वर्ष 2014 में पुवर्ती के जंगलों में हेलीकाप्टर पर हमला जिसमें 01 जवान शहीद हुआ था , इस घटना में प्लाटून नम्बर 09, 10 व बासागुड़ा-जगरगुण्डा एलजीएस की टीम शामिल थी ।

इसे भी पढ़े   मुख्यमंत्री का तीसरा बजट गांव, गरीब, किसान और समग्र विकास का बजट है - ज्योति कुमार

संगठन में परिवार से मिलने नही देने, माआवादियों की विचारधारा, जीवन शैली एवं भेदभाव पूर्ण व्यवहारसे त्रस्त होकर, भारत के सविधान में विश्वास रखते हुये, छत्तीसगढ़ शासन की आत्मसमर्पण नीति से प्रभावित होकर आयतु कारम द्वारा पुलिस के समक्ष समर्पण किया गया । समर्पण करने पर इन्हें उत्साहवर्धन हेतु शासन की आत्मसमर्पण एवं पुनर्वास नीति के तहत् रू 10000/-(दस हजार रूपये) नगद प्रोत्साहन राशि प्रदाय किया गया।