वैज्ञानिको ने खोजे सूर्य से भी ज्यादा गर्म 8 दुर्लभ तारे – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

वैज्ञानिको ने खोजे सूर्य से भी ज्यादा गर्म 8 दुर्लभ तारे

Published

on

ब्रह्माण्ड  में सुदूर स्थित तारे कई बार हमें अनोखी लेकिन बहुत उपयोगी जानकारी भी देते देते हैं. हमारे वैज्ञानिक और खगोलविद सौरमंडल के बाहर के ब्रह्माण्ड के पिंडों का अध्ययन इसलिए भी करते हैं जिससे हमें हमारे अपने आसपास की खगोलीय घटनों को समझने का मौका मिले. इसी कड़ी में भारतीय खोगलविदों ने आठ बहुत ही कम दिखाई देने वाले तारों  की खोज की है. इस समूह के द्वारा खोजे गए ये तारे मेन सीक्वेंस रेडियो पल्स एमिटर (MRP) श्रेणी के बताए जा रहे हैं. पूणे स्थित राष्ट्रीय रेडियो खगोलभौतिकी केंद्र के खगोलविदों की अगुआई वाली टीम ने इनकी खोज जायंट मीटरवेव रेडियो टेलीस्कोप की मदद से यह खोज की है.

सूर्य से भी ज्यादा गर्म
खगोलविदों की इस टीम के पाया है कि ये तारे सूर्य से भी ज्यादा गर्म हैं और उसकी मैग्नेटिक फील्ड असामान्य रूप से बहुत शक्तिशाली है. इसके साथ ही इनकी ‘सौर पवन’ भी बहुत अधिक शक्तिशाली है. पीटीआई के मुताबिक एनसीआरए ने प्रेस रिलीज में बताया कि टीम ने इससे पहले भी तीन और इसी तरह के तारे जीएमआरटी के जरिए खोजे हैं.

8 तो इसी साल मिले

अब तक के ज्ञात 15 एमआरपी में से 11 की खोज जीएआरटी के जरिए खोजे गए हैं जिनमें से 8 तो 2021 में ही खोजे गए हैं. बयान में बताया गया है कि ये खोजें जीएमआर टेलीस्कोप की उन्नत करने से मिली अधिक संवेदनशीलता और चौड़ी बैंडविड्थ के कारण संभव हो सकी हैं जिनके कारण टेलीस्कोप के सर्वे से एमआरपी का पता चल सका.

GMRT कार्यक्रम की सफलता

नसीआरए का कहना है कि जीएमआरटी का प्रक्षेपण ही एमआरपी की रहस्यों को सुलझाना के उद्देश्य से किया गया है. जीएमआरटी कार्यक्रम की सफलता ने इस श्रेणी के तारों की धारणा में क्रांतिकारी बदलदाव किया है जिससे इन विशिष्ठ मैग्नेटोस्फियर के अध्ययन के लिए नए आयाम खुल गए हैं.

क्या होते हैं ये MRP
मेन सीक्वेंस रेडियो पल्स एमिटर (MRP) ऐसे तारे होते हैं जो सूर्य से ज्यादा गर्म होते हैं. इनकी मैग्नेटिक फील्ड असामान्य रूप से शक्तिशाली हैं. इनकी पवनें भी सौर पवनों की तुलना में बहुत बलशाली होती हैं. इसी वजह से ये अंतरिक्ष में लाइटहाउस की तरह दिखाई देते हैं जो बहुत ही चमकदार रेडियो पल्स उत्सर्जित करते हैं. आसान नहीं होती ऐसी खोज
पहली बार इस एमआरपी को साल 2000 में खोजा गया था, लेकिन उच्च संवेदनशील उन्नत जीएमआरटी के कारण है ऐसे खोजे हुए तारों की संख्या हाल के सालों में इतनी अधिक हो सकी. खोजे गए इन 15 तारों मेंसे 11 उच्च तकनीक टेलीस्कोप के जरिए ही खोजे गए हैं. इस तरह के पिंड खोजना बहुत मुश्किल काम होता है क्योंकि कभी कभी और कम फ्रीक्वेंसी पर ही चमकने के कारण ये बहुत कम दिख पाते हैं. कैसे पता चला है मैग्नेटिक फील्ड का
इन तारों से निकली कम फ्रीक्वेंसी की पकड़ने केलिए बहुत ही संवेदनशील टेलीस्कोप की जरूरत ही है. uGMRT की उच्च संवेदनशीलता और क्षमता उच्च रिजॉल्यूशन की तस्वीरें इन पिंडों के भेजे गए संकेतों को पकड़ने के लिए बहुत उपयोगी है जिससे आकाश से अलग अलग तरह के संकेतों से उन्हें अलग कर पहचाना जा सकता है. uGMRT के जरिए इनकी मैग्नेटिक फील्ड और तापमान के बारे में जानकारी मिल पाती है जिनसे इन तरंगों की तीव्र का निर्धारण होता है.

क्या दशकों पहले दिखा रहस्यमी पिंड वास्तव में था नौवां ग्रह?

इन नतीजों की व्याख्या करने वाला शोधपत्र एस्ट्रोफिजिकल जर्नल में प्रकाशन के लिए स्वीकार हो गया है. इस अधययन की प्रथम लेखक बरनाली दास ने हाल ही में एनसीआरए की प्रोफेसर पूनम चंद्रा के मार्गदर्शन में अपनी पीएचडी पूरी की है और इन तारों को मेन सीक्वेंस रेडियो पल्स एमिटर (MRP) नाम इन दोनों ने ही दिया है.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING1 min ago

Cm योगी ने दिए निर्देश, विदेश से आने वालों की पड़ताल हो और कहा- हर स्तर पर बरतें सावधानी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चाधिकारियों को कोविड के ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर हर स्तर पर सावधानी बरतने के निर्देश दिए...

BREAKING2 hours ago

यहां के फैक्टरी में लगी भीषण आग, जवानों ने मौके पर पहुँचकर बचाई लोगों की जान…

पुलवामा में सोमवार देर रात एक फैक्टरी में आग लग गई। काम कर रहे कई मजदूर अंदर फंस गए। सूचना...

bilaspur2 hours ago

बाघ और बाघिन के बीच कातिलाना प्यार! जानिए क्या है पूरा मामला

लोरमी (चैनल इंडिया)| इंसानी रिश्तों में इश्क और फिर कत्ल की कहानी तो सभी ने खूब सुनी होगी, लेकिन छत्तीसगढ़...

BREAKING3 hours ago

कृषि कानूनों की वापसी के बाद आंदोलन में शामिल किसान लौटना चाहते हैं घर, संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का इंतजार…

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि वे अब घर...

BREAKING3 hours ago

बारदाना संकट के बीच कल से 2399 केंद्रों पर शुरू होगी धान खरीदी

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में धान की सरकारी खरीदी बुधवार से शुरू हो रही है। प्रदेश भर में सरकार ने इसके...

Advertisement
Advertisement