जाने आयुर्वेद के मुताबिक भोजन के साथ फल क्यों नहीं खाना चाहिए – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

जाने आयुर्वेद के मुताबिक भोजन के साथ फल क्यों नहीं खाना चाहिए

Published

on

फल खाने से डाइट में डाइवर्सिटी आती है. जैसे कहा जाता है कि बेहतर स्वास्थ्य के लिए दिन में तीन बार सब्जियां खानी चाहिए, वैसे ही फलों को अपने डाइट में शामिल करना भी उतना ही जरूरी है.
कच्चे फल की दो सर्विंग्स आपके शरीर को अच्छी तरह से काम करने के लिए पोषक तत्व प्रदान कर सकती हैं. ये आपको हाइड्रेटेड रखने में भी मदद करता है, अनहेल्दी खाने से रोकता है, जिससे आपके वजन को कम करने में मदद मिलती है.
लेकिन फल खाने के इन फायदों को हासिल करने के लिए आपको उन्हें सही समय पर खाने और सही ढंग से जोड़ने की जरूरत है.
आयुर्वेद, प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति के मुताबिक, हर भोजन को एक विशेष तरीके से और एक विशेष समय पर खाना चाहिए. भोजन को डेयरी, सब्जियों या मांस के साथ मिलाना आपके शरीर के लिए कई तरह से हानिकारक होगा.

1. फलों को किसी और चीज के साथ क्यों नहीं मिलाना चाहिए?

किसी भी दूसरे भोजन की तुलना में फल जल्दी टूट जाते हैं. इसे किसी भी दूसरे फूड्स के साथ मिलाने से शरीर में टॉक्सिन्स का निर्माण हो सकता है, जिसे अमा के नाम से जाना जाता है.
ऐसा इसलिए है क्योंकि फूड्स की जोड़ी डाइजेशन प्रोसेस को कम कर सकती है. फलों को पेट में तब तक रहना पड़ता है जब तक कि सबसे भारी भोजन पचता है, जिससे शरीर के लिए पोषक तत्वों को एब्जॉर्व करना मुश्किल हो जाता है.
डाइजेस्टिव जूसेज इसे फरमेंट करना शुरू कर देते हैं, जो आमतौर पर विषैला होता है और इससे बीमारी और दूसरे स्वास्थ्य संबंधी स्थितियों का खतरा बढ़ सकता है.
इसके अलावा, दूध और दही जैसे डेयरी प्रोडक्ट्स के साथ फल खाने से त्वचा की स्थिति जैसे मुंहासे, सोरायसिस और एक्जिमा हो सकते हैं.

2. फल क्यों नहीं पकाने चाहिए?

फल आमतौर पर चमकीले रंग के होते हैं. फल का चमकीला रंग अग्नि से संबंधित ऊर्जा का प्रतिनिधित्व करता है.
जब ये कच्चा खाया जाता है, तो फल पाचन अग्नि को उत्तेजित करने, आपके पाचन स्वास्थ्य को बढ़ाने और पेट को मजबूत बनाने में मदद करते हैं. फल पकाने से पाचन अग्नि और स्वस्थ पोषक तत्वों की हानि होती है. तो पके फल खाने से कोई फायदा नहीं होगा.

3. फल खाने का सही समय

जब आपके पास फल का कटोरा होता है तो ये उतना ही महत्वपूर्ण होता है जितना कि आपके पास. आयुर्वेद के मुताबिक, फल खाने का सही समय सुबह खाली पेट है.
यही वो समय है जब आपका पेट फलों से ज्यादातर पोषक तत्वों को एब्जॉर्व कर सकता है. इसके अलावा, साधारण कार्ब्स का सेवन सुबह और कसरत से पहले और बाद में करना सबसे अच्छा है. सूर्यास्त के बाद फैट, प्रोटीन और लो कॉम्पलेक्स कार्ब्स का सेवन करना सबसे अच्छा है.

4. दिन में कब फल खा सकते हैं?

आप अपनी भूख को कम करने के लिए इसे अपने भोजन के बीच में नाश्ते के रूप में भी ले सकते हैं. भोजन के बीच फल खाने से आपको जरूरी विटामिन और मिनरल्स मिल सकते हैं और आपको अनहेल्दी खाने से भी रोका जा सकता है.
फल खाने का सबसे अच्छा समय सुबह 11 बजे या शाम 4 बजे है. अगर आपने अपना नाश्ता और दोपहर का भोजन देर से किया तो फल खाने के लिए 30 से 40 मिनट तक इंतजार करें.

5. सूर्यास्त से पहले फलों का सेवन क्यों करना चाहिए?

शाम को फल खाने से नींद का शेड्यूल और डाइजेशन प्रोसेस में गड़बड़ी हो सकती है. इसलिए, आयुर्वेद शाम 4 बजे से पहले या सूर्यास्त से पहले फल खाने की सलाह देता है.
फल सिंपल कार्ब्स होते हैं जिसका मतलब है कि वो जल्दी से टूट सकते हैं, ब्लड शुगर के लेवल को जल्द ही बढ़ा सकते हैं और जल्द ही ऊर्जा भी प्रदान कर सकते हैं.
सोने के समय ब्लड शुगर में स्पाइक आपकी नींद को बाधित कर सकता है. इसके अलावा, सूर्यास्त के बाद, हमारा मेटाबॉलिज्म धीमा हो जाता है और डाइजेस्टिव सिस्टम को कार्ब्स को पचाना मुश्किल हो जाता है. इसलिए, शाम को कार्ब का सेवन सीमित करना बेहतर है.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING49 seconds ago

CG News: निर्वाचन आयोग ने इन 103 लोगों के चुनाव लड़ने पर लगाई रोक

रायपुर (चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ के नगरीय निकायों में आम और उप चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। इस बीच राज्य...

BREAKING4 mins ago

Cm योगी ने दिए निर्देश, विदेश से आने वालों की पड़ताल हो और कहा- हर स्तर पर बरतें सावधानी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चाधिकारियों को कोविड के ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर हर स्तर पर सावधानी बरतने के निर्देश दिए...

BREAKING2 hours ago

यहां के फैक्टरी में लगी भीषण आग, जवानों ने मौके पर पहुँचकर बचाई लोगों की जान…

पुलवामा में सोमवार देर रात एक फैक्टरी में आग लग गई। काम कर रहे कई मजदूर अंदर फंस गए। सूचना...

bilaspur3 hours ago

बाघ और बाघिन के बीच कातिलाना प्यार! जानिए क्या है पूरा मामला

लोरमी (चैनल इंडिया)| इंसानी रिश्तों में इश्क और फिर कत्ल की कहानी तो सभी ने खूब सुनी होगी, लेकिन छत्तीसगढ़...

BREAKING3 hours ago

कृषि कानूनों की वापसी के बाद आंदोलन में शामिल किसान लौटना चाहते हैं घर, संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का इंतजार…

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि वे अब घर...

Advertisement
Advertisement