जानिए कब है छठ पूजा: पूजा की विधि और शुभ मुहूर्त – Channelindia News
Connect with us

channel india

जानिए कब है छठ पूजा: पूजा की विधि और शुभ मुहूर्त

Published

on


रायपुर(चैनल इंडिया): छठ पुजा पूरे विश्व मे मनाया जाता हैं परंतु सर्वाधिक तौर पर भारत में बिहार और उत्तर प्रदेश मे मनाया जाता हैं।  इस वर्ष छठ पूजा 20 नवंबर को है बता दें छठ पूजा की शुरुआत नहाय-खाय से होती है, दूसरे दिन खरना होता है, तीसरे दिन छठ पुजा का प्रसाद तैयार किया जाता है और स्नान कर डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। छठ पर्व के चौथे और आखिरी दिन उगते सूर्य की आराधना की जाती है। इस तरह चार दिवसीय छठ महापर्व का समापन होता है। कहा जाता है छठ पर्व में सूर्य की उपासना करने से छठ माता प्रसन्न होती हैं और घर परिवार में सुख शांति तथा संपन्नता प्रदान करती हैं। छठ पुजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को मनाया जाता है।

इसे भी पढ़े   हाईकोर्ट का बड़ा आदेश.. छत्तीसगढ़ में अगले 15 दिन बंद रहेंगे कोर्ट.. जुलाई की सुनवाई अगले महिने होगी

 

जानिए पूजा की मुहूर्त:

 

20 नवंबर छठ पर्व की शुरुआत होगा इस दिन सूर्योदय सुबह 06:48 पर होगा तथा सूर्यास्त शाम 17:26 पर होगा। वैसे षष्ठी तिथि एक दिन पहले यानी 19 नवंबर को रात 9:58 से शुरू हो जाएगी और 20 नवंबर को रात 9:29 बजे तक रहेगी। इसके अगले दिन सूर्य को सुबह अर्घ्य देने का समय छह बजकर 48 मिनट है।

इसे भी पढ़े   नशा के विरूद्ध रायपुर पुलिस का अभियान लगातार जारी , अवैध रूप से नशीली एम.डी.एम.ए. का व्यापार करने वाले मुख्य तस्कर सहित 07 आरोपी गिरफ्तार,आरोपियों के कब्जे से 93 ग्राम एम.डी.एम.ए. कीमत लगभग 15,00,000/- रूपये किया गया जप्त

छठ पूजा की विधि:

पहला दिन (नहाय खाय): व्रत रखने महिलाएं स्नान करने के बाद नए वस्त्र धारण करती हैं। शाम को शाकाहारी भोजन होती है।

 

दूसरा दिन (खरना): कार्तिक शुक्ल पंचमी को महिलाएं पूरे दिन व्रत रखती हैं और शाम को भोजन करती हैं। शाम को चाव व गुड़ से खीर बनाकर खाई जाती है।

 

 तीसरे दिन (षष्ठी के दिन): इस दिन छठ पर्व का प्रसाद बनाया जाता है। अधिकांश स्थानों पर चावल के लड्डू बनाए जाते हैं। प्रसाद व फल बांस की टोकरी में सजाये जाते हैं। टोकरी की पूजा की जाती है। व्रत रखने वाली महिलाएं सूर्य को अर्ग देने और पूजा के लिए तालाब, नदी या घाट पर जाती हैं। स्नान कर डूबते सूर्य की पूजा की जाती है।

इसे भी पढ़े   रायपुर में शर्मनाक घटना: गर्भवती ने जमीन पर दिया बच्चे को जन्म, अस्पताल वालों ने कोरोना संक्रमित होने की वजह से निकाल दिया था

 

 चौथे दिन: सूर्योदय के समय भी सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। पूजा के बाद प्रसाद बांट कर छठ पूजा संपन्न की जाती है। छठ पर्व को लेकर श्रद्धालुओं के द्वारा शकरकंद, लौकी एवं गन्ने की खरीदी की जा रही है। वहीं पर्व को देखते हुए बाजार में इनकी आवक बढ़ गई है।

 

Advertisement
Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india13 hours ago

कमिश्नर ने किया निर्माणाधीन पंचायत भवन और धान खरीदी केन्द्रों का किया निरीक्षण…RIS के SDO को कारण बताओ सूचना

अम्बिकापुर: कमिश्नर जिनेविवा किंडो ने आज मैनपाट एवं सीतापुर विकासखण्ड के निर्माणाधीन पंचायत भवन तथा धान खरीदी केंद्र का निरीक्षण...

channel india13 hours ago

केबिनेट बैठक में सभी प्रस्तावों पर छत्तीसगढ़ी में हुई चर्चा, धान-मक्का खरीदी सहित विभिन्न मुद्दों पर लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय

रायपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज निवास कार्यालय में मंत्री परिषद की बैठक आयोजित की गई। छत्तीसगढ़ी राजभाषा...

channel india13 hours ago

मंत्री परिषद की बैठक में सेवानिवृत्त हो रहे मुख्य सचिव आर.पी.मण्डल को दी गई बिदाई 

रायपुर: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में आज उनके निवास कार्यालय में आयोजित मंत्री परिषद की बैठक में 30 नवम्बर...

channel india14 hours ago

मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के अंतर्गत लोन के लिए 8 दिसम्बर तक आमंत्रित किए जाएंगे आवेदन

बलरामपुर: मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना के तहत जिले के युवाओं को स्व-उद्यम की स्थापना कर आर्थिक दृष्टि से स्वावलम्बी एवं...

channel india14 hours ago

ब्लॉक स्तरीय नि:शुल्क आयुष स्वास्थ्य मेला का हुआ आयोजन, कोरोना वायरस के संबंध में दिए गए दिशा-निर्देश

गढ़गोढी  : ब्लॉक स्तरीय नि:शुल्क  आयुष स्वास्थ्य मेला का आयोजन ग्राम पंचायत गढ़गोढी में पंचायत भवन के सामने 28 नवंबर शनिवार को सुबह 11:00...

खबरे अब तक

Advertisement