जानिये क्या होगा, जब 130 करोड़ भारतीय अपने घरो की लाइट 9 मिनट के लिए एक साथ बंद करेंगे!! - Channelindia News
Connect with us

देश-विदेश

जानिये क्या होगा, जब 130 करोड़ भारतीय अपने घरो की लाइट 9 मिनट के लिए एक साथ बंद करेंगे!!

Published

on

नई दिल्ली(चैनल इंडिया)-  भारत कोरोना वायरस की चपेट में है। देश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ते जा रही है। देशभर में लॉकडाउन जारी है। इस बीच जनता कर्फ्यू के बाद एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश की जनता से उनके 9 मिनट मांगे हैं। पीएम मोदी ने अपने वीडियो मैसेज के जरिए देशवासियों से रविवार 5 अप्रैल को रात 9 बजे अपने घर की लाइटें बंद कर घर के दरवाजे, बालकनी, छतों, खिड़कियों पर आकर 9 मिनट के लिए दीए, कैंडल, टॉर्च, मोबाइल फ्लैश जलाने की अपील की है।पीएम ने इस रविवार देशवासियों से कोरोना के अंधकार को चुनौती देने की अपील है। जनता कर्फ्यू के बाद PM मोदी की अपील पर इंडिया एक बार फिर से एकजुट होकर अपनी एकता का परिचय देगा। ऐसे में चर्चाएं ये भी होने लगी कि एक साथ घरों की बिजलियां बदं होने से आखिर क्या होगा? अगर आपके मन में भी ऐसा ही कुछ सवाल है तो जानिए क्या होता है जब 130 करोड़ भारतीय एक साथ अपने घरों में बिजली बंद कर देंगे?

बिजली विभाग के सामने खड़ी हो गई ये चुनौती

यह सवाल है कि कोरोना के संकट के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में ऐसा करने के लिए एकजुटता का आह्वान करने के बाद, भारत के बिजली विभाग के इंजीनियरों के लिए यह चुनौती खड़ी कर दी हैं। क्योंकि अचानक नौ मिनट के लिए पूरे देश में बिजली संयत्र बंद होने से हाई स्‍पीड में चल रही कार में अचानक ब्रेक लगाने जैसा होगा। बिजली विभाग में काम करने वाले इंजीनिरों भी इस बारे में अभी भविष्‍यवाणी नहीं कर सकते हैं कि ऐसा होने पर कैसी स्थिति उत्पन्‍न हो सकती हैं। बिजली क्षेत्र से एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि”बिजली क्षेत्र से उन नौ मिनटों की योजना के लिए उनके पास दो दिन का समय है। “यह एक जटिल चुनौती है, और कुछ अभूतपूर्व स्थिति होगी।

PM Modi की लाइट बंद करने की अपील Electricity Department के लिए बनी बड़ी चुनौती |

घरेलू बिजली बंद होने पर उपकेंद्रों तथा लाइनों में हाईटेंशन के अधिक दबाव की आशंका

मालूम हो कि कोरोना से जंग के लिए प्रधानमंत्री द्वारा नौ मिनट तक घर की बिजली बंद कर मोमबत्ती, टार्च, दिये जलाने की अपील को ध्यान में रखते हुए विभिन्‍न राज्यों में बिजली विभाग के अभियंताओं को उपकेंद्र पर तैनात रहने के निर्देश दिए हैं। उद्योगों के बंद होने के बाद अचानक नौ मिनट के लिए घरेलू बिजली बंद होने पर उपकेंद्रों तथा लाइनों में हाईटेंशन के अधिक दबाव की आशंका है। उच्च विभव के कारण उपकेंद्रों पर कोई गड़बड़ी ना आए इंजीनियर इसे नियंत्रित करेंगे। कोरोना के कारण अधिकतर औद्योगिक इकाइयां बंद हैं। अधिकतम लोड घरेलू प्रकार का ही है। अत: घरेलू लाइट बंद होने की दशा में अचानक बिजली की मांग में कमी हो सकती है। इसकी वजह से उपकेंद्रों व लाइनों पर अधिक दबाव बढ़ जाएगा।

इस नौ मिनट के लिए बिजली विभाग ने कसी कमर

मुख्य अभियंताओं को निर्देशित किया है कि वह अधीनस्थ इंजीनियरों को रात 8 से 10 बजे तक प्रत्येक उपकेंद्र पर एक वरिष्ठ इंजीनियर अपने कुशल तकनीकी सहायकों और श्रमिकों के साथ उपस्थित रहें ताकि उपकेंद्रों का संचालन सुचारू रूप से किया जा सके। शुक्रवार को बिजली विभाग के वरिष्ठ अभियंता घरेलू बिजली की मांग में अचानक कमी आने पर ग्रिड और उपकेंद्रों पर बढ़ने वाले अतिरिक्त दबाव के दौरान सिस्टम को ठीक कैसे रखा जाए? इस पर मंथन करते नजर आए। इस दौरान चुनौती को स्पष्ट रूप से समझने के लिए हमे ये जानना होगा कि बिजली क्षेत्र कैसे कार्य करता है।

ये तीनों मिलकर बिजली की सप्‍लाई को नियंत्रित करते हैं

हमारे घरों तक जो बिजली आती है टाटा पावर और एनटीपीसी जैसे बिजली उत्पादक बिजली बनाते हैं जिसका वितरण राज्य की बिजली कंपनियां करती हैं और राज्यों में बिजली सप्‍लाई केन्‍द्र होते हैं। इन तीनों ही माध्‍यम देश भर में बिजली की मांग के साथ आपूर्ति के मिलान के आधार पर महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया, और नियामक के सलाहकार सीनियर एडवोकेट गोपाल जैन, ने बताया कि आप इसको इस तरह से समझ सकते हैं कि जैसे एयर ट्रैफिक कंटोलर ये देखता है कि हवाईजहाज अपने टाइम पर आसानी से टेक ऑफ और लैडिंग कर सके वैसे ही ये तीनों मिलकर बिजली की सप्‍लाई को नियंत्रित करते हैं।

2012 के ब्लैकआउट में कुछ ऐसा ही हुआ था

बता दें कि एसएलडीसी की इसमें बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है। यह सुनिश्चित करना है कि पावर ग्रिड लाइनों में चलने वाली बिजली की आवृत्ति 48.5 और 51.5 हर्ट्ज के बीच होनी चाहिए।”अगर यह बहुत अधिक हो जाता है (जब आपूर्ति बहुत अधिक होती है) या बहुत कम (जब मांग हाइअरवायर हो जाती है), तो लाइनें ट्रिप हो जाती है जिससे आउटेज हो सकता है जैसा कि  2012 के ब्लैकआउट में कुछ ऐसा ही हुआ था। जिसमें दुनिया में सबसे बड़े संयंत्र में जब अचानक मांग बढ़ने से ट्रिपिंग हुई और लगभग 600 मिलियन भारतीय बिना बिजली के रहन पड़ा था।

आपूर्ति पर नियंत्रण करना होगी बड़ी चुनौती

मालूम हो कि 5 अप्रैल को अचानक 9 मिनट के लिए पीएम के आह्ववाहन के कारण बिजली की मांग कम होने से खतरे की आपूर्ति बढ़ने और आवृत्ति को बाधित करने के लिए है, जब यह लाइन की यात्रा कर सकता है, और एक अंधकार को जन्म दे सकता है।लेकिन, इस क्षेत्र में वरिष्ठ इंजीनियरों को आश्वस्त करें, इसे संभाला जा सकता है क्योंकि उनके पास योजना बनाने का समय है।

Advertisment

CG Trending News

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

चिटफंड कंपनी साईं सुंदरम मालव परिवार स्टेट लिमि. के डायरेक्टर आरोपी संदीप राठौर को गिरफ्तार करने में मिली सफलता

  ● *आरोपी डायरेक्टर संदीप राठौर को भोपाल मध्य प्रदेश से किया गया गिरफ्तार* ● *थाना भाटापारा शहर पुलिस टीम...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

थाना पलारी पुलिस द्वारा 02 शातिर मोटरसाइकिल चोर को किया गया गिरफ्तार

● आरोपियों के कब्जे से 01 मोटर सायकल किया गया बरामद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय श्री दीपक कुमार झा द्वारा...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

सट्टा पट्टी व एक डाट पेन एवं नगदी रकम 1230 रूपयें के साथ 01 आरोपी चढा सिमगा पुलिस के हत्थे

प्रेस विज्ञप्ति दिनांक 16.06.2022 थाना सिमगा आरोपी से एक सफेद कागज में विभिन्न अंको का लिखा हुआ सट्टा पट्टी व...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

जिला बलौदाबाजार-भाटापारा पुलिस द्वारा अवैध रूप से शराब बिक्री करने वाले कोचियों की धरपकड़ लगातार जारी

● साइबर सेल ने कार्यवाही कर मोटरसाइकिल से शराब का परिवहन करते हुए 02 आरोपियों को किया गिरफ्तार ● आरोपियों...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

सढौली चिखली कुरूभाठा हाईस्कूल में मनाया शाला प्रवेशोत्सव

  आज देश-विदेश में भी हमारे सरकारी स्कूलों के विद्यार्थी अपना परचम लहरा रहे हैं : सफीक गरियाबंद । शासन...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

तेंदूपत्ता संग्राहकों के खातों में पहुंचा पैसा, सीएम भूपेश बघेल ने किया ट्रांसफर

रायपुर। मुख्यमंत्री भपेश बघेल ने वर्ष 2020 में हुए तेंदूपत्ता संग्रहण कार्य के लिए 432 समितियों के 4 लाख 72...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

डीजल और पेट्रोल की भारी किल्लत, लोग परेशान

जगदलपुर। शहर में डीजल पेट्रोल की भारी किल्लत हो गई। लोग डीजल भराने पम्प जा रहे है लेकिन बिना डीजल...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

सरायपाली के मोहन्दा स्कूल के 9 छात्राओं का चयन महासमुंद जिले में सर्वाधिक चयन मोहदा स्कूल

  सरायपाली :— राष्ट्रीय प्रवीण सह छात्रवृत्ति परीक्षा में चयनित हुए 9 छात्राएं मिडिल स्कूल मोहदा संकुल बोदा से हुआ...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

सरायपाली के संकुल केंद्र बोन्दा में प्रवेशोत्सव के दौरान अनेक कार्यक्रम आयोजित सरायपाली

सरायपाली के संकुल केंद्र बोन्दा में प्रवेशोत्सव के दौरान अनेक कार्यक्रम आयोजित सरायपाली :— संकुल बोदा के अंतर्गत प्राथमिक और...

खबरे छत्तीसगढ़2 weeks ago

सरायपाली के ग्राम केना के शासकीय विद्यालय में निशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण व शाला प्रवेशोत्सव मनाया गया

सरायपाली :– शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय केना, वि. ख. सरायपाली में “शाला प्रवेशोत्सव – 2022” एवं “नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण कार्यक्रम”...