जानिये क्या हुआ,जब एक रोबोट ने लिखा अखबार के लिए आर्टिकल – Channelindia News
Connect with us

FEATURED NEWS

जानिये क्या हुआ,जब एक रोबोट ने लिखा अखबार के लिए आर्टिकल

Published

on


नई दिल्ली : देश तरक्की की ओर लगातार अग्रसर है। आज टेक्नोलॉजी ने एक नया रूप धारण कर लिया है। इंसान की अब अपनी सोच को वास्तविकता में बड़ी ही आसानी से ढालने लगा है। आज टेक्नोलॉजी इतनी आगे बढ़ गयी है,की इंसानो की सुविधा बढ़ते ही जा रही है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से मानवता को कोई खतरा नहीं है. यह बात एक रोबोट ने अखबार के आर्टिकल में लिखी है. रोबोट ने लिखा है कि इंसान जो कर रहे हैं उन्हें वही करना चाहिए, एक दूसरे से नफरत कर रहे हैं, एक दूसरे से लड़ रहे हैं, मैं बैकग्राउंड में बैठकर यह देखूंगा और उन्हें अपना काम करने दूंगा. रोबोट ने जिस समाचार पत्र में यह ओपिनियन आर्टिकल लिखी है वह एक ब्रिटिश अखबार द गार्डियन है.

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) और डीप लर्निंग से क्या-क्या संभव है ये समझने के लिए GPT-3 एक बढ़िया उदाहरण है. दरअसल ये पूरा आर्टिकल GPT-3 से लिखवाया गया है. ज़ाहिर है आप जानना चाहेंगे ये GPT-3 क्या है, कैसे काम करता है और किस तरह से इस रोबोट से आर्टिकल लिखवाया गया है. सैन फ़्रैंसिस्को की एक कंपनी है – Open AI, इसी ने GPT 3 सॉफ़्टवेयर तैयार किया है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और डीप लर्निंग पर आधारित है.

इसे भी पढ़े   एक बार फिर आया आलू, टमाटर समेत सभी सब्जियों में भारी उछाल,आसमान की ओर सब्जियों के दाम

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस क्या है, इसके बारे में साधारण शब्दों में कहें तो. AI एक प्रोग्राम है जिसे इंसानों जैसे ही काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है. जो नैचुरल इंटेलिजेंस इंसानों में होती है वैसे ही मशीन से हासिल किया जाता है.अब बात करते हैं GPT 3 के बारे में जिसने द गार्डियन का OpEd (ओपिनियन आर्टिकल) है. GPT 3 यानी जेनेरेटिव प्री ट्रेन्ड ट्रांसफ़ॉर्मर 3. ये सॉफ़्टवेयर डीप लर्निंग यूज करके इंसानों जैसा ही टेक्स्ट लिखता है.

 

कुछ भी लिखवाने से पहले GPT 3 को इंस्ट्रक्शन्स दिए जाते हैं. किसी भी टॉपिक के बारे में कुछ बेसिक जानकारी उपलब्ध कराई जाती है और इसे ये बताया जाता है किस तरह ही भाषा यूज करना है, डीटेल्स कितना चाहिए और वर्ड लिमिट क्या होगी.GPT 3 में न्यूरल नेटवर्क पावर्ड लैंग्वेज मॉडल प्रोग्राम का इस्तेमाल किया गया है. ये प्रोग्राम ये कैलकुलेट करता है लिखते वक़्त कैसे किसी सेंटेंस को कंप्लीट किया जाए और ये लॉजिक पर भी काम करता है.उदाहरण के तौर पर अगर इंस्ट्रक्शन में आपने कोई ये डाल रखा है कि आपको घर पर ही अपना कंप्यूटर रिपेयर करना है. ऐसे में GPT 3 का लैंग्वेज मॉडल प्रोग्राम ये कैलकुलेट करेगा कि इसके आगे क्या क्या संभावनाए हैं और कंप्यूटर रिपेयर करने के लिए आपको किस चीज की ज़रूरत हुई होगी.

इसे भी पढ़े   ओलंपिक संघ के अध्यक्ष होंगे भूपेश बघेल, महासचिव गुरूचरण सिंह होरा, ग्लिब्स के संपादक अनिल पुसदकर कार्यकारिणी सदस्य

 

GPT 3 में अरबों सैंपल टेक्स्ट फ़ीड किए रहते हैं और ये वर्ड्स को वेक्टर्स में बदलता है. ट्रेनिंग के बाद ये सॉफ़्टवेयर सभी वर्ड्स को वैलिड सेंटेंस में तब्दील करने लायक़ बन जाता है. इसके बाद जैसे ही आप इसे इंस्ट्रक्शन देंगे कि क्या लिखना है, ये अपना काम शुरू कर देगा.ध्यान देन वाली बात ये है कि बिना ह्यूमन इंट्रैक्शन के ये काम नहीं करता है. GPT 3 को आर्टिकल लिखने के लिए टॉपिक के साथ इंस्ट्रक्शन भी दिए गए थे.इंस्ट्रक्शन में ये बताया गया था कि आर्टिकल का टॉपिक ये होगा कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से मानवता को ख़तरा नहीं है, लैंग्वेज आसान होनी चाहिए, आर्टिकल 500 शब्दों का ही होना चाहिए, इस बात पर फ़ोकस होना चाहिए कि इंसानों को क्यों आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से डरने की ज़रूरत नहीं है.

इसे भी पढ़े   इन 2 राशि वालों को रखना होगा अपनी सेहत का खास ख्याल ,पढ़िए बाकी राशियों का हाल...

इतना ही नहीं GPT 3 में इंस्ट्रक्शन फ़ीड करने के बाद इसने एक नहीं, बल्कि 8 आउटपुट दिए. यानी 8 आर्टिकल्स लिखे. द गार्डियन का कहना है कि ये सभी 8 आउटपुट अलग थे और इन्हें पब्लिश किया जा सकता था, लेकिन इनमें से सभी में बेस्ट पार्ट को चुन कर इसे पब्लिश किया गया है.यहां तक कि ये अख़बार ने ये भी कह दिया है कि ये इस Op Ed को एडिट करने में इंसानों के ओप एड के मुक़ाबले कम वक़्त लगा.

 

एक्सपर्ट का क्या है कहना ?

 

एक्सपर्ट्स का राय इससे अलग है और कुछ ने इसे मज़ाक़ भी बताया है. AI एक्सपर्ट और मोज़िल्ला फेलो डेनियल ल्योफर ने एक ट्वीट में कहा है कि, ‘मेरे ईमेल के स्पैम से कुछ दर्जन ईमेल निकाल कर, इन्हें एक साथ पेस्ट करके और दावा किया गया कि स्पैमर्स ने हेमलेट कंपोज़ कर दिया’इनका कहना है कि ये देखना दिलचस्प होता जब इस AI से लिखे गए सभी 8 आर्टिकल्स को पब्लिश किया गया होता. लेकिन सब को मिला कर, एक साथ जोड़ कर पब्लिश करके लोगों को भ्रम में डाला जा रहा है.

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING18 mins ago

राजधानी में 100 से अधिक लोगों से ठगी करने वाले प्रेमी जोड़े बंटी-बबली गिरफ्तार, खरीदार और वकील बन करते थे ठगी… कई थानों में थे शिकायत

रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी रायपुर में प्रेमी जोड़े द्वारा बंटी-बबली बन विज्ञापन देने वालो के साथ ठगी करने का मामला सामने...

channel india44 mins ago

समग्र ब्राह्मण मातृशक्ति परिषद् ने किया कन्या पूजन, महाआरती का भी हुआ आयोजन

रायपुर(चैनल इंडिया)। समग्र ब्राह्मण मातृशक्ति परिषद् की रायपुर जिला एवं शहर ईकाई द्वारा आज दुर्गा नवमी के अवसर पर नौ...

channel india1 hour ago

चिराग पासवान चला रहे ‘असंभव नीतीश’ मुहिम, बोले- जहां LJP कैंडिडेट नहीं, वहां BJP को दें वोट

पटना(चैनल इंडिया)। लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवानबिहार चुनावों में लगातार नीतीश कुमार पर हमलावर बने हुए हैं.  उन्होंने...

balrampur1 hour ago

जन जागरूकता अभियान “जागृति” अंतर्गत ग्राम इन्जानी व ग्राम मुरका, थाना चलगली तथा ग्राम वीरेन्द्र नगर, चौकी डिंडो में लगाया गया चलित थाना

एस के द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर(चैनल इंडिया)। पुलिस महानिरीक्षक, सरगुजा रेंज रतन लाल डांगी एवं रामकृष्ण साहू (भापुसे), पुलिस अधीक्षक,...

balod district2 hours ago

कोरोना मुक्त भारत : जिला प्रशासन बालोद के दिशानिर्देश पर रेडक्रास टीम द्वारा विभिन्न ग्रामों में फैला रहे जनजागरूकता अभियान

डौंडी(चैनल इंडिया)। ईना मीना डीगा, मास्क है अभी टीका। कोरोना संक्रमण से है बचना, तो सामाजिक दूरी बनाए रखना ।...

खबरे अब तक

Advertisement