जानिए भारत के एक उस केंद्र शासित प्रदेश के बारे में, जहां जाने में अगर होती थोड़ी देर, तो पाकिस्तान का हो जाता कब्जा… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

जानिए भारत के एक उस केंद्र शासित प्रदेश के बारे में, जहां जाने में अगर होती थोड़ी देर, तो पाकिस्तान का हो जाता कब्जा…

Published

on

जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हट जाने से और ‘दादर और नागर हवेली’ और ‘दमन और दीव’ के मिल जाने से अब भारत में केंद्र शासित प्रदेशों की कुल संख्या आठ हो गई है। आज हम आपको इन्हीं आठ में से एक केंद्र शासित प्रदेश के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में कहा जाता है कि वहां भारतीय अधिकारी और पुलिस के पहुंचने में थोड़ी सी भी देरी हो जाती हो उसपर पाकिस्तान का कब्जा हो जाता और शायद वह कभी भारत का अंग नहीं बन पाता।
दरअसल, हम बात कर रहे हैं लक्षद्वीप की। मलयालम और संस्कृत में लक्षद्वीप का अर्थ है ‘एक सौ हजार द्वीप’ यानी एक लाख द्वीप। आधिकारिक जानकारी के मुताबिक, लक्षद्वीप द्वीप-समूह में कुल 36 द्वीप हैं, लेकिन सिर्फ 10 द्वीपों पर ही लोग रहते हैं। भारतीय पयर्टकों को सिर्फ छह द्वीपों पर ही जाने की अनुमति है, जबकि विदेशी पयर्टक सिर्फ दो द्वीपों (अगाती व बंगाराम) पर ही जा सकते हैं।
1947 में जब भारत और पाकिस्तान का बंटवारा हुआ था, उस समय लक्षद्वीप पर दोनों देशों में से किसी का भी अधिकार नहीं था। कहते हैं कि अगस्त 1947 के आखिर में पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री लियाकत अली खान ने सोचा कि लक्षद्वीप मुस्लिम बहुल इलाका है और अब तक भारत ने इसपर अपना दावा भी नहीं किया है तो क्यों न इसे अपने अधिकार में ले लिया जाए।
कहा जाता है कि ठीक उसी समय भारत के तत्कालीन गृहमंत्री और उप-प्रधानमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल भी वहीं सोच रहे थे, जैसा लियाकत अली खान सोच रहे थे। हालांकि उस समय तक दोनों ही देश असमंजस की स्थिति में थे, क्योंकि दोनों में से किसी को भी यह नहीं पता था कि किसी ने उसपर कब्जा कर लिया है या नहीं। इसी असमंजस की स्थिति में पाकिस्तान ने अपना एक युद्धपोत लक्षद्वीप के लिए भेजा।
इधर, वल्लभभाई पटेल भी इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि लक्षद्वीप को किसी भी हालत में पाकिस्तान के कब्जे में जाने नहीं देंगे। इसलिए उन्होंने त्रावणकोर में राजस्व कलेक्टर को निर्देश दिया कि वो तुरंत पुलिस टीम के साथ जाएं और लक्षद्वीप पर भारतीय तिरंगा लहराएं, ताकि पता चले कि वह इलाका भारत का है।

राजस्व कलेक्टर भी इस बात को लेकर काफी गंभीर थे, इसलिए वो तुरंत लक्षद्वीप पहुंचे। वहां उन्होंने आव देखा न ताव तुरंत भारतीय झंडा जमीन में गाड़कर लहरा दिया। कहते हैं कि इसके कुछ ही देर बाद पाकिस्तानी युद्धपोत भी वहां पहुंचा, लेकिन भारतीय झंडा देख कर वो दबे पांव फिर वापस लौट गए। तब से लेकर आज तक यह द्वीप भारत का ही अभिन्न अंग है।
पहले लक्षद्वीप को लक्कादीव के नाम से जाना जाता था। 1956 में भारत सरकार ने यहां मौजूद सभी द्वीपों को मिलाकर केंद्रशासित प्रदेश बना दिया। इसके बाद 1973 में लक्कादीव, मिनीकाय और अमीनदीवी द्वीपसमूहों का नाम लक्षद्वीप कर दिया गया। तब से लेकर आज तक इस द्वीपसमूह का यही नाम है।

 


Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING14 mins ago

कोल ब्लॉक नीलामी के लिए दबाव बना रहा केंद्र सरकार : मंत्री रविंद्र चौबे

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने सीएम भूपेश बघेल के दिल्ली दौरे को लेकर बड़ी जानकारी दी...

BREAKING35 mins ago

बदमाशों के हौसले बुलंद, 3 दिनों में चाकूबाजी की तीसरी बड़ी वारदात, 4 आरोपी गिरफ्तार…

रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी रायपुर में चाकूबाजी की वारदातें अब आम हो गई हैं. बेखौफ बदमाश रोजाना बेधड़क होकर लोगों को...

 सक्ती60 mins ago

अमलडीहा  में निःशुल्क चिकित्सा एवं आयुष मेला सम्पन्न

सक्ती(चैनल इंडिया)|  छत्तीसगढ़ शासन आयुष विभाग द्वारा आज अमलडीहा (सक्ती) में आयुष मेला तथा नि:शुल्क चिकित्सा व दवा वितरण का...

BREAKING1 hour ago

इस राज्य में अब स्पा सेंटर के बंद कमरों में आप नहीं करा पाएंगे मसाज

नई दिल्ली(चैनल इंडिया)। फिजियोथेरेपी, एक्यूप्रेशर या व्यावसायिक चिकित्सा डिग्री, डिप्लोमा प्रमाण पत्र के बगैर अब स्पा सेंटरों में यूं ही...

BREAKING1 hour ago

दूध पीने की जिद कर रहा था बच्चा,मां ने जमीन पर दिया पटक, मौत

कोरबा(चैनल इंडिया)। बालको थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक मां ने अपने ढाई साल के मासूम बच्चे को मौत के घाट...

Advertisement
Advertisement