किसान सभा ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र!! - Channelindia News
Connect with us

खबरे छत्तीसगढ़

किसान सभा ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र!!

Published

on

रायपुर(चैनल इंडिया)- ग्रीष्मकालीन धान को समर्थन मूल्य में खरीदी हेतु एजेंसी नियुक्त करने ,जंगली सूअर को वन्यप्राणी की श्रेणी से पृथक करने सहित सब्जी उत्पादक किसानों व मनरेगा मजदूरों के हित में किया है माँग

छत्तीसगढ़ एक कृषि प्रधान राज्य है जिसकी मुख्य कृषि उपज धान है। जो खरीफ एवं रबी दोनों सीजन में बोयी जाती है। वर्तमान में कोविड19 से बचाव के लिए दुनिया के अन्य देशों की भांति भारत मे 25 मार्च से लॉक डाउन किया गया है जिसका छत्तीसगढ़ की जनता शासन प्रशासन द्वारा जारी निर्देशों का पालन कर रहे हैं। लॉक डाउन ने आम जन जीवन को प्रभावित किया है जिसका ज्यादा से ज्यादा प्रभाव कृषि क्षेत्र में हुआ है। सब्जी उत्पादक किसानों को उनके फसलों का वाजिब दाम नहीं मिल पाने से उनको पशुओं को चराने मजबूर हुए हैं क्योंकि सब्जी मंडियों में जो दाम है उससे तोड़कर बाजार तक लाने की लागत भी वसूल नहीं हो पा रही है। बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि ने फसलों को नुकसान किया है जिससे लॉक डाउन के बाद के परिस्थिति में सब्जियों की कमी होने पर उनके दाम बढ़ जाएंगे। ऐसे समस्याओं से निपटने के लिए कृषि एवं बागवानी विभाग के माध्यम से जिला व ब्लॉक स्तर पर कोल्ड स्टोरेज की व्यवस्था किया जाये तथा लागत के आधार पर कीमत निर्धारित किया जाये ताकि सब्जी उत्पादक किसानों को उनके फसल का वाजिब दाम मिल जाये और साथ ही कम आपूर्ति के वक्त महंगाई पर नियंत्रण भी किया जा सके।

 

अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के राज्य सचिव तेजराम विद्रोही ने अपने जारी प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि खरीफ सीजन धान को सरकार ने मार्कफेड के माध्यम से मोटा धान 1815 रु व पतला धान 1835 रु प्रति क्विंटल की दर से प्रति एकड़ समर्थन मूल्य में खरीदी किया है तथा छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा तय 2500रु प्रति क्विंटल की अंतर की राशि अप्रैल माह की अंतिम सप्ताह या मई माह के प्रथम सप्ताह में देने की बात कह रहे हैं जिसका किसान सभा स्वागत करता हैं। साथ ही एक पहलू यह भी है कि बाकी के उपज को किसान कृषि उपज मंडियों में व्यापारियों को 1400रु से 1550 रु प्रति क्विंटल की दर पर बेचने को मजबूर हुए हैं। कृषि उपज मंडी अधिनियम की उपविधि अध्याय चार विपणन का नियंत्रण के 16- (2) अनुसार अधिनियम की धारा 36 (3) के प्रावधान के आधार पर किसानों को उनके उपज का वाजिब दाम नहीं मिल पा रहा है। इस प्रकार केन्द्र सरकार की न्यूनतम समर्थन मूल्य की तुलना में करीब 400रु और छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा दिए जा रहे मूल्य की तुलना में 1100 रु प्रति क्विंटल किसानों को नुकसान हो रहा है। अतः अनुरोध किया है कि ग्रीष्मकालीन धान की फसल खरीदी के लिए कृषि उपज मंडियों में व्यापारियों द्वारा बोली हेतु समर्थन मूल्य के अनुरूप आधार मूल्य तय किया जाए तथा समर्थन मूल्य में खरीदी हेतु सरकार द्वारा एजेंसी नियुक्त किया जाये जिससे किसानों को उनके उपज का लाभकारी मूल्य प्राप्त हो सके।

विद्रोही ने आगे कहा कि लॉक डाउन के चलते मनरेगा मजदूर काम से वंचित हो गए हैं जिसके कारण उनके सामने रोजगार का संकट है। कृषि क्षेत्र में भी मजदूरी बढ़ने के कारण किसानों का लागत मूल्य बढ़ रहा है ऐसे परिस्थिति में मनरेगा मजदूरों को कृषि कार्य के साथ जोड़ा जाए व मनरेगा के तहत मजदूरी भुगतान किया जाए जिससे किसानों को समय पर पर्याप्त मजदूर मिलने से समय पर कृषि कार्य सम्पन्न होगी और साथ ही कृषि लागत कम होगी जिससे किसान आर्थिक कर्ज एवं बोझ से बचेंगे। लॉक डाउन अवधि का समस्त जॉब कार्डधारी मनरेगा मजदूरों को मजदूरी भुगतान किया जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री को ईमेल से भेजे पत्र में यह भी कहा गया है कि जंगली सूअर अब केवल जंगलों तक सीमित नहीं है बल्कि राजस्व क्षेत्रों में फसलों को नुकसान पहुंचाने के अलावा उनके द्वारा किए जा रहे हमलों से जनहानि हो रही है। जंगली सुअरों के आतंक से किसान अपने खेतों में काम नहीं कर पा रहे हैं इसलिए जंगली सूअर को वन्य प्राणी की श्रेणी से पृथक किया जाये।

RO No.- 11641/7

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

खबरे छत्तीसगढ़6 hours ago

झीरम घाटी हमला: नक्सलियों के दिये जख्म के 9 साल पूरे, शहीदों की याद में बने स्मारक, पर न्याय अब भी अधूरा

25 मई 2013 को छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में नक्सलियों ने कांग्रेस की परिवर्तन यात्रा में हमला कर 32 लोगों...

खबरे छत्तीसगढ़8 hours ago

शहीद पति की प्रतिमा से लिपट कर रो पड़ी पत्नी

रायपुर। आज ही के दिन हुए झीरम हमले की कटु स्मृतियां शहीदों के परिजनों और पूरे प्रदेश के लोगों के...

खबरे छत्तीसगढ़9 hours ago

जयसवाल निको इंडस्ट्रीज के विस्तार जनसुनवाई में भारी विरोध अधिकारियों ने बीच में ही रोक दी जनसुनवाई…देखिये वीडियो

धरसीवां- औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा के जयसवाल निको प्लांट में उद्योग विस्तार को लेकर जन सुनवाई रखी गई थी जिसमें बड़ी...

खबरे छत्तीसगढ़9 hours ago

बीजापुर में सीआरपीएफ जवान ने इलेक्ट्रिक ब्लेड से गला काटकर की आत्महत्या

छत्‍तीसगढ़ के नक्‍सल प्रभावित बीजापुर जिले के जैतालूर मार्ग में स्थित केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के 170 बटालियन के...

खबरे छत्तीसगढ़9 hours ago

झीरम घाटी शहीद मेमोरियल में शहीदों के परिजनों से मिले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

जगदलपुर। झीरम घाटी शहीद मेमोरियल में शहीदों के परिजनों से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुलाकात की और शहीदों के परिजनों...

Advertisement