रायपुर एम्स में अमानवीय घटना : कोरोना संक्रमित महिला के शव से सोने का कंगन,झुमका हुआ पार, परिजन ने प्रबंधक के खिलाफ दर्ज कराई FIR – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

रायपुर एम्स में अमानवीय घटना : कोरोना संक्रमित महिला के शव से सोने का कंगन,झुमका हुआ पार, परिजन ने प्रबंधक के खिलाफ दर्ज कराई FIR

Published

on


रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी के एम्स अस्पताल में कोरोना संक्रमित शव से सोने का जेवर चोरी हो गया. यह आरोप मृतका के बेटे ने अस्पताल के कर्मचारियों पर लगाया है. उन्होंने एम्स प्रबंधन के खिलाफ थाने में शिकायत की है. शिकायतकर्ता ने पुलिस को बताया कि मां सोने के कंगन और झुमके पहने थे, जो चोरी हो गए है. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है. ये पूरा मामला आमानाका थाना क्षेत्र का है.
आमानाका थाना पुलिस ने बताया कि एम्स अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीज के शव से सोने के जेवर चोरी होने की शिकायत मिली है. मृतक महिला तसनिम शाहिद के बेटे मोहम्मद शाहिद ने शिकायत दर्ज कराई की 10 अप्रैल को उन्होंने अपनी माता जी को कोरोना संक्रमित होने के बाद एम्स अस्पताल में भर्ती कराया था. इस दौरान उन्होंने दोनों हाथों में सोने के कंगन और कान में झुमके पहने हुए थे. जिसकी कुल कीमत लगभग 3 लाख 70 हजार रुपए है. लेकिन 19 अप्रैल को तसनीम शाहिद की कोरोना से मौत हो गई. और उनके शव से सोने के कंगन और झुमके गायब थे. जिसके बाद मृतक के बेटे ने जेवर गायब होने की लिखित जानकारी अस्पताल प्रबंधन को भी दी थी. प्रार्थी के शिकायत पर थाना आमानाका में चोरी की एफआईआर दर्ज कर जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़े   कांकेर में लुकाछिपी के बीच सूर्य ग्रहण का नजारा

अस्पताल प्रबंधन का बयान
एम्स अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. एम नागलकर ने बताया कि कोविड वार्ड में किसी भी मरीज को कीमती वस्तु ले जाने की अनुमति नहीं है. अस्पताल में जितने भी मरीज आते हैं, हम उन्हें किसी भी सामान को अंदर ले जाने की अनुमति नहीं देते हैं. मरीज को सिर्फ कपड़े, साबुन, और मोबाइल फोन अंदर ले जाने की अनुमति देते हैं. फिर भी अस्पताल के कर्मचारियों पर चोरी के आरोप में शिकायत की गई है. इस मामले की जांच में पुलिस का पूरा सहयोग करेंगे.

इसे भी पढ़े   Lockdown good news : कल से मोबाइल-लैपटॉप की ऑनलाइन बिक्री शुरू…...लेकिन यहां अभी भी रहेगी पाबंदी

शिकायतकर्ता का बयान
इस मामले के शिकायकर्ता मोहम्मद शाहिद ने बताया कि 10 अप्रैल को कोरोना संक्रमित होने पर उन्होंने अपनी मां को अस्पताल में भर्ती कराया था. इलाज के दौरान अस्पताल में 19 अप्रैल को माता जी का निधन हो गया. इस पूरे इलाज में उनके साथ उनकी केयर-टेकर भी थी. हमारी माताजी अस्पताल में भर्ती होते समय हाथ में सोने के कंगन और कान में सोने के झुमके पहनी हुई थी. लेकिन 19 अप्रैल को निधन के बाद उनके शव में सोने के जेवर नहीं थे. हमारे पास भर्ती करते समय की फोटो भी है. जिसमें उनके हाथ में सोने के कंगन और झुमके दिख रहे हैं. हमने इसकी जानकारी अस्पताल प्रबंधन को भी दी है. लेकिन पिछले 1 माह से अस्पताल की ओर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई है. हमने इसकी शिकायत आमानाका थाना में की है.

इसे भी पढ़े   छत्तीसगढ़ में 1014 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि

आरटीआई से मांगी जानकारी
इस मामले में शिकायतकर्ता ने अस्पताल प्रबंधन पर आरटीआई भी लगाया है. आरटीआई में सवाल किए है कि उनकी मां का किस तरह से इलाज किया गया है. क्या क्या दवाई दी गई है, सभी की जानकारी मांगी है.

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING33 mins ago

अगर आपके पास भी है एक्सपायरी ड्राइविंग लाइसेंस तो घबराने की जरूरत नहीं, रिन्यू करवाने के लिए करें ये काम

अगर आप सड़कों पर वाहन चलाने के शौकीन हैं, तो आपके पास ड्राइविंग लाइसेंस होना बेहद जरूरी है। आप यह...

BREAKING45 mins ago

तहसील परिसर में युवक ने सोशल मीडिया में लाइव आकार खुद को मारी गोली, पूर्व SDM पर लगाए गंभीर आरोप

मध्य प्रदेश के रायसेन में एक शख्स ने फेसबुक लाइव के दौरान खुद को गोली मार ली. इस घटना का...

BREAKING59 mins ago

टीका लगवाने के और भी हैं फायदे, ये बड़ी कंपनियां दे रही हैं शानदार ऑफर, पढ़े पूरी खबर…

वैक्सीनेशन ड्राइव को लेकर निजी कंपनियों भी उत्साहित हैं। वजह ये है कि जितनी ज्यादा संख्या में लोगों को टीका...

BREAKING1 hour ago

अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया ब्लैकमेल, फरार आरोपी हुआ गिरफ्तार…

धरसींवा(चैनल इंडिया)|  जून माह के प्रथम सप्ताह में थाना ख़रोरा अंतर्गत ग्राम के सरपंच पति को उसका अश्लील विडीओ वायरल...

BREAKING2 hours ago

चीन सीमा से लगे उत्तराखंड के इस छोटे से गांव का कभी भी मिट सकता है नामों निशान, लोगों में दहशत का माहौल, जानिए क्यों?

हर साल उत्तराखंड में मानसून अपने साथ खतरा भी साथ लाता है. बारिश होते ही कई गांव और कस्बों में...

Advertisement
Advertisement