धान का कटोरा कहे जाने वाले राज्य में धान पर ही संकट… – Channelindia News
Connect with us

channel india

धान का कटोरा कहे जाने वाले राज्य में धान पर ही संकट…

Published

on

रायपुर(चैनल इंडिया)| धान का कटोरा कहे जाने वाले राज्य में धान पर ही संकट खड़ा हो गया है। पहले खंड वर्षा के कारण किसान चिंतित थे। बाद में अच्छी बारिश ने राहत दे दी तो अब जीव-जंतुओं के कारण खेतों में खड़़ी फसल के नुकसान का खतरा मंडराने लगा है। खासकर जंगल से सटे खेतों में हाथियों के दलऔर जंगली सुअरों के झुंड धान की फसल को रौंद रहे हैं। वहीं, राज्य के उत्तरी हिस्से में भूरा-माहो कीटों ने धान पर आक्रमण कर दिया है तो कुछ इलाकों में झुलसा रोग ने शिकार बनाया है।
पूरे राज्य में इस समय धान की फसल पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। ऐसे में सरकार को किसानों की पूंजी बचाने के लिए ठोस कदम उठाने की जरूरत है। राज्य के किसानों की आजीविका का मुख्य आधार धान है। अधिकतर किसान धान की खेती करते हैं। राज्य सरकार भी किसानों को समृद्ध बनाने के लिए राजीव गांधी न्याय योजना के माध्यम से धान के लिए केंद्र से निर्धारित समर्थन मूल्य से अधिक राशि दे रही है। इससे राज्य के किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार आया है, मगर इस समय राज्य के किसान नए संकट से जूझ रहे हैं।
समय से पहले आए मानसून के बाद अच्छी बारिश का पूर्वानुमान लगाया गया था। इससे उत्साहित होकर किसानों ने खेतों का रुख किया और धान बुआई कर दी, लेकिन मानसून ने बीच में धोखा दे दिया। खंड बारिश से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें दिखने लगी थीं। हालांकि बाद में अच्छी बारिश हुई तो किसानों में खुशी की लहर आ गई, मगर जब धान की बालियां निकलने लगीं तो नया संकट खड़ा हो गया। जंगल के आसपास के खेतों से धान की फसल की सुगंध हाथियों और जंगली सुअरों को आकर्षित करने लगी।
हाथियों का दल और सुअरों के झुंड खेतों तक पहुंच गए। किसान सुअरों को भगाने के लिए खेतों के बाड़़ों में कपड़़ों का घेरा यानी बिजूका बनाकर इंसानों के खड़़े होने का भ्रमपैदा करने का देसी तरीका अपना रहे हैं। साथ ही पटाखे फोड़कर भी भगा रहे हैं, मगर हाथियों के मामले में असहाय हैं। वन विभाग भी उनकी मदद नहीं कर पा रहा है। हाथियों का दल धान के खेतों में विचरण कर रहा है और किसान बेबस होकर देखने को मजबूर हैं।
वहीं, प्रदेश के उत्तर में कीट-पतंगों ने धान कीफसल पर हमला बोल रखा है। यहां भूरा-माहो कीट धान की बालियां चट कर रहे हैं। इनके आतंक से परेशान किसान कीटनाशक का छिड़़काव कर फसल बचाने की जद्दोजहद कर रहे हैं। दूसरी तरफ झुलसा रोग भी फसल झुलसा रहा है। इस सीजन में धान की फसल को भारी नुकसान की आशंका है। आशा की जानी चाहिए कि सरकार किसानों के दर्द को समझेगी और उनके नुकसान का आकलन कर भरपाई करेगी।

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING4 hours ago

दो नवजात की मौत, मेडिकल कॉलेज में चार दिन में आठ जानें गईं

अंबिकापुर(चैनल इंडिया)। जिले के मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां दो...

खबरे छत्तीसगढ़4 hours ago

ईईएचवी वायरस के चपेट में आया एक और हाथी का शावक, हुई मौत,2 साल थी उम्र

सूरजपुर(चैनल इंडिया)|  ईईएचवी वायरस से रेस्क्यू सेंटर में दो शावकों की मौत के बाद अब एक और शावक की मौत...

BREAKING5 hours ago

सीएम भूपेश ने किया श्री धन्वन्तरी जेनरिक मेडिकल स्टोर योजना का शुभारंभ, अब प्रदेशवासियों को मिलेगी आधी कीमत पर दवा

रायपुर (चैनल इंडिया)| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फे्रंसिंग के जरिए श्री धन्वन्तरी जेनरिक...

channel india5 hours ago

JioPhone Next को लेकर नया खुलासा, अब यूजर्स को मिलेंगे कई खास फीचर्स, कीमत जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

JioPhone Next को लेकर नई जनकारी सामने आई है, जिसकी मदद से यूजर्स को कई अच्छे फीचर्स और बेहतर वर्जन...

BREAKING5 hours ago

शासकीय आयुर्वेद के द्वारा निःशुल्क आयुष स्वास्थ्य एवं जन जागरूकता शिविर का आयोजन 200 लोगों ने उठाया लाभ

धरसीवां(चैनल इंडिया)|शासकीय आयुर्वेद के द्वारा ग्राम सांकरा में निःशुल्क आयुष स्वास्थ्य व जन जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया जिसमें...

Advertisement
Advertisement