दिल्ली के चक्कर में छत्तीसगढ़ भूले सिंहदेव, यहां ट्वीटर बोल रहा है बाबा-बाबा… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

दिल्ली के चक्कर में छत्तीसगढ़ भूले सिंहदेव, यहां ट्वीटर बोल रहा है बाबा-बाबा…

Published

on

रायपुर(चैनल इंडिया)। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव को लगातार माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर में लापरवाह बताया जा रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि टीएस सिंहदेव स्वास्थ्य महकमे की जिम्मेदारी छोड़ दिल्ली में डेरा जमाए हुए है। रविवार को उनके दिल्ली प्रवास के दौरान उनकी माता देवेंद्र कुमारी सिंहदेव स्मृति मेडिकल कालेज अस्पताल में 8 बच्चों की मौत हो गई थी। हालाँकि सिंहदेव इस घटना के बाद छत्तीसगढ़ लौटे। लेकिन अगली सुबह ही वे फिर दिल्ली के लिए रवाना हो गए।
आम आदमी पार्टी की यूथ विंग के प्रदेश अध्यक्ष तेजेंद्र तोड़ेकर ने ट्वीटर में एक कार्टून शेयर कर लिखा है टीएस देव अंबिकापुर से नदारद हैं। बच्चो की मौत से भी बेपरवाह। दिल्ली के बड़े बड़े क्लब उन्हें ज्यादा भाने लगे हैं। तेजेंद्र ने फ़ोन पार बात चीत में कहा है कि स्वास्थ्य विभाग का भट्ठा बैठा हुआ है और सिंहदेव कुर्सी की उम्मीद में दिल्ली की यात्रा में है। इधर छत्तीसगढ़ में बच्चे मर रहे हैं। पंडो जनजाति भी मौत की मुँह में है। लेकिन सिंहदेव कुर्सी के मोह में अंधे हो चुके है। सिंहदेव को तत्काल मंत्री पद से इस्तीफ़ा देकर हमेशा के लिए दिल्ली में क़ब्ज़ा जमा लेना चाहिए।
भाजपा से जुड़े नितेश पांडेय ने एक अख़बार का कतरन शेयर कर लिखा है बाबा वापस आ जाओ, दिल्ली को न चुनो, जनता के दिल की बात सुनो। नितिन पांडेय द्वारा शेयर किए गए अख़बार के कतरन में दावा किया गया है कि टीएस बाबा केसी वेणुगोपाल से मिलने की लिए डटे हुए है।
इधर यमांक साहू छत्तीसगढ़िया ने ट्वीट किया है ‘टीएस सिंहदेव सर मुझे में आपसे मुलाकात के दौरान हुए फिजियोथेरेपी इंटर्न्स के स्टाइपेंड वृद्धि के विषय में मिलकर चर्चा करनी है जिस हेतु मैं आपसे मिलने हेतु समय के लिए आपके कार्यालय से लगातार 20 दिनों से संपर्क कर समय मांग रहा हूं समय नहीं मिल रहा कृपया सरल मिलने हेतु प्रक्रिया सरल करें, इस विषय हेतु मैं आपके निज सचिव गौतम महिलांग जी से मिला और स्टाइपेंड वृद्धि हेतु विषय में सहायता चाहि ताकि आपसे मिल सके और समस्या निवारण करवा सकें लेकिन वे मुझपर ही बरस पड़े ,
मेरा निवेदन है कि स्टाइपेंड वृद्धि हेतु आप पुनः हस्तक्षेप कर निराकरण करे। यमांक साहू के इस पोस्ट को रिट्वीट करते हुए अंशुमान शुक्ला ने लिखा टीएस सिंहदेव सर आपके द्वारा दिए गए आश्वासन के भरोसे हमरा हौसला बढ़ा है तथा हम चाहते हैं कि इस पर जल्द से जल्द फैसला ले तथा सरकार हमे हमारे profession को आगे बढ़ाने में मदद करे।
सूर्यकांत साहू ने लिखा ‘टीएस सिंहदेव जी! छत्तीसगढ़ के मेडिकल पाठयक्रमों के internship छात्रों की stipend बढ़ाने की ओर ध्यान दीजिये.. आपके विभाग और कार्यालय में मुलाकात की प्रक्रिया सरल कीजिए’।
आयुष स्टूडेंट यूनियन ने लिखा है ‘ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल महोदय इस विषय में आपका ध्यानाकर्षण चाहतें है, क्योंकि ये फिजिथेरेपी के डॉक्टर के महत्व आप भलीभांती जानते है और आपसे ही यह समस्या का निवारण हो पाएगा’
यूनियन में आगे लिखा है ‘ टीएस सिंहदेव जी जायज मांगो को लेकर अब आपसे कोई मिल भी नही सकता, साहब हम आपको मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहते हैं और आपके कर्मचारी चिकित्सकों से इस तरह पेश आ रहे निद्नीय है, लंबे समय से फिजियोथैरेपी में MPT course ki माँग है।

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING2 mins ago

कंगना रनौत ने दर्ज कराई FIR, जाने क्या है पूरा मामला…

अभिनेत्री कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर किया है, जिसके जरिए एक्ट्रेस ने बताया कि उन्होंने उन...

BREAKING14 mins ago

CG News: निर्वाचन आयोग ने इन 103 लोगों के चुनाव लड़ने पर लगाई रोक

रायपुर (चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ के नगरीय निकायों में आम और उप चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। इस बीच राज्य...

BREAKING17 mins ago

Cm योगी ने दिए निर्देश, विदेश से आने वालों की पड़ताल हो और कहा- हर स्तर पर बरतें सावधानी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उच्चाधिकारियों को कोविड के ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर हर स्तर पर सावधानी बरतने के निर्देश दिए...

BREAKING3 hours ago

यहां के फैक्टरी में लगी भीषण आग, जवानों ने मौके पर पहुँचकर बचाई लोगों की जान…

पुलवामा में सोमवार देर रात एक फैक्टरी में आग लग गई। काम कर रहे कई मजदूर अंदर फंस गए। सूचना...

bilaspur3 hours ago

बाघ और बाघिन के बीच कातिलाना प्यार! जानिए क्या है पूरा मामला

लोरमी (चैनल इंडिया)| इंसानी रिश्तों में इश्क और फिर कत्ल की कहानी तो सभी ने खूब सुनी होगी, लेकिन छत्तीसगढ़...

Advertisement
Advertisement