गेहूं और सरसों की अच्छी पैदावार चाहिए तो वैज्ञानिकों की सलाह पर ध्यान दें किसान… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

गेहूं और सरसों की अच्छी पैदावार चाहिए तो वैज्ञानिकों की सलाह पर ध्यान दें किसान…

Published

on

अक्टूबर में दो बार हुई बेमौसम बारिश की वजह से गेहूं (Wheat) और सरसों (Mustard) की बुवाई प्रभावित हुई है. कई जगहों पर किसानों को दो-दो बार बुवाई करनी पड़ी है. किसान इस बार सरसों की बुवाई पर अधिक जोर दे रहे हैं, क्योंकि इसका दाम न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) से 60-70 फीसदी अधिक है. अगर खेती वैज्ञानिकों की सलाह पर होगी तो पैदावार और

गुणवत्ता दोनों अच्छी हो सकती है.
भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (IARI) के वैज्ञानिकों सरसों और गेहूं की खेती के लिए किसानों को कुछ सलाह दी है. खासतौर पर खेत में नमी को लेकर. मौसम को ध्यान में रखते हुए गेंहू की बुवाई के लिए खाली खेतों को तैयार करें. उन्नत बीज व खाद की व्यवस्था करें. गेहूं की उन्नत प्रजातियों के बारे में जानकारी दी गई है. सिंचित परिस्थिति के लिए एचडी 3226, एचडी 18, एचडी 3086 एवं एचडी 2967 की बुवाई के लिए सलाह दी गई है.

खेत में दीमक का प्रकोप हो तो क्या करें

कृषि वैज्ञानिकों के मुताबिक बीज की मात्रा 100 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर की दर से लगेगा. जिन खेतों में दीमक का प्रकोप हो वहां इसके समाधान के लिए क्लोरपाईरिफॉस (20 ईसी) @ 5 लीटर प्रति हैक्टेयर की दर से पलेवा के साथ दें. नत्रजन, फास्फोरस तथा पोटाश उर्वरकों की मात्रा 120, 50 व 40 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर होनी चाहिए.

सरसों की बुवाई में देरी न करें

पूसा के कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि तापमान को ध्यान में रखते हुए किसानों को अब सरसों की बुवाई में और अधिक देरी नहीं करनी चाहिए. मिट्टी जांच के बाद यदि गंधक की कमी हो तो 20 किलोग्राम प्रति हैक्टेयर की दर से अंतिम जुताई पर डालें. बुवाई से पूर्व मिट्टी में उचित नमी का ध्यान अवश्य रखें. उन्नत किस्में- पूसा विजय, पूसा सरसों-29, पूसा सरसों-30, पूसा सरसों-31 हैं. बुवाई से पहले खेत में नमी के स्तर को अवश्य ज्ञात कर लें ताकि अंकुरण प्रभावित न हो.

बुवाई से पहले बीज का उपचार करें

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने किसानों को सलाह दी है कि बुवाई से पहले बीजों को केप्टान @ 2.5 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज की दर से उपचार करें. बुवाई कतारों में करना अधिक लाभकारी रहता है. कम फैलने वाली किस्मों की बुवाई 30 सेंटीमीटर और अधिक फैलने वाली किस्मों की बुवाई 45-50 सेंटीमीटर दूरी पर बनी पंक्तियों में करें. विरलीकरण द्वारा पौधे से पौधे की दूरी 12-15 सेंमी कर लें.

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING7 hours ago

भाजपा जिला संगठन में नेतृत्व परिवर्तन होना चाहिए: संतु दास

बीजापुर(चैनल इंडिया)|भाजपा संगठन में अन्तकर्लह और बयानबाजी सोशल मीडिया में जोरो पर बढ़ता जा रहा है ठंडी के मौसम राजनीति...

BREAKING9 hours ago

ISRO दे रहा है फ्री ऑनलाइन कोर्स करने का मौका, जानिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन…

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन  छात्रों के लिए एक फ्री ऑनलाइन कोर्स की पेशकश कर रहा है. 12-दिवसीय पाठ्यक्रम ‘देहरादून स्थित...

BREAKING9 hours ago

वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा- देश की अर्थव्यवस्था विकास के स्थिर पथ पर है, GDP संख्या उत्साजनक होगी…

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  ने आज की साझेदारी में शनिवार को आयोजित एचटी लीडरशिप समिट में कहा कि...

BREAKING9 hours ago

गोदावरी पावर एंड इस्पात लिमिटेड अब “ग्रेट प्लेस टू वर्क” -प्रमाणित

रायपुर(चैनल इंडिया)| गोदावरी पावर एंड इस्पात लिमिटेड (हीरा ग्रुप की इकाई ) अब “ग्रेट प्लेस टू वर्क” से प्रमाणित है।...

BREAKING9 hours ago

कमजोर पड़ा चक्रवात ‘जवाद’, छग में टला बारिश का खतरा

रायपुर(चैनल इंडिया)| समुद्री चक्रवात जवाद के रूप में मंडरा रहा खतरा टलता दिख रहा है। मौसम विभाग ने बताया है,...

Advertisement
Advertisement