अगर ये 5 आदतें छोड़ दीं तो सफलता खुद आपके पास चलकर आएगी, जानिए क्याब कहता है गरुड़ पुराण… – Channelindia News
Connect with us

channel india

अगर ये 5 आदतें छोड़ दीं तो सफलता खुद आपके पास चलकर आएगी, जानिए क्याब कहता है गरुड़ पुराण…

Published

on

गरुड़ पुराण को सनातन धर्म में 16 पुराणों में से एक माना जाता है. इसके अधिष्ठाता देव भगवान विष्णु हैं. मान्यता है कि गरुड़ पुराण में जो कुछ भी लिखा है, उसका बखान जगत के पालनहार भगवान विष्णु ने स्वयं अपने मुख से किया है. इस महापुराण में भगवान विष्णु के वाहन गरुड़ और नारायण के बीच हुई वार्तालाप का जिक्र है. गरुड़ ने भगवान से तमाम प्रश्न पूछे हैं, जिनका उत्तर नारायण ने दिया है.
गरुड़ पुराण सिर्फ स्वर्ग, नर्क, पाप, पुण्य, मृत्यु की बातें नहीं बताता, बल्कि इसमें ज्ञान, वैराग्य, यज्ञ, तप, जप, सदाचार, नीति और नियम की भी तमाम बातें बताई गई हैं. गरुड़ पुराण की इन बातों को अपने जीवन में उतार कर व्यक्ति अपना जीवन सुधार सकता है और मृत्यु के बाद सद्गति को प्राप्त हो सकता है. यहां जानिए ऐसी 5 आदतों के बारे में जिन्हें यदि व्यक्ति छोड़ दे तो उसे कभी सफलता के पीछे नहीं भागना पड़ेगा. सफलता खुद उसके पास आएगी.

1. क्रोध
क्रोध व्यक्ति का सबसे बड़ा शत्रु है. क्रोध व्यक्ति से उसके सोचने समझने की क्षमता को छीन लेता है. ऐसे में व्यक्ति कई बार गलत फैसले ले लेता है और उसके पास आती हुई चीज भी हाथों से चली जाती है. इसलिए क्रोध की आदत को छोड़ दें.

2. ईर्ष्या
ईर्ष्या व्यक्ति के मूल्यवान समय को नष्ट कर देती है. वो व्यक्ति अपनी चीजों पर मेहनत करने की बजाय दूसरे को नीचे गिराने के बारे में सोचता है. ऐसे में व्यक्ति खुद के टैलेंट को नष्ट कर लेता है और काबिल होते हुए भी सफलता हासिल नहीं कर पाता.

3. आलस
आप चाहे कितने ही टैलेंटेड हों, लेकिन अगर आप आलस करके अपने समय को गवां देते हैं, तो जीवन में कभी सफलता हासिल नहीं कर सकेंगे. इसलिए आगे बढ़ना है तो आलस का त्याग करें.

4. संशय
जो भी फैसला लें तो उसके परिणामों के बारे में अच्छे से सोच लें और एक बार फैसला लेने के बाद संशय न करें. अपने फैसले पर भरोसा रखें और पूरी मेहनत के साथ प्रयास करें. संशय आपके फैसले को कमजोर बनाने का काम करता है और इससे आपकी सफलता दूर होती है. इसलिए संदेह की आदत को छोड़ दें.

5. चिंता
चिंता को चिता के समान माना गया है जो व्यक्ति को अंदर ही अंदर खोखला बना देती है. इसलिए व्यर्थ की चिंता करने की आदत को त्याग दीजिए. यदि कुछ करना है तो चिंतन कीजिए. चिंतन करने से आपको अपनी समस्या का हल मिलेगा.
(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

 


Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING3 mins ago

कोल ब्लॉक नीलामी के लिए दबाव बना रहा केंद्र सरकार : मंत्री रविंद्र चौबे

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने सीएम भूपेश बघेल के दिल्ली दौरे को लेकर बड़ी जानकारी दी...

BREAKING25 mins ago

बदमाशों के हौसले बुलंद, 3 दिनों में चाकूबाजी की तीसरी बड़ी वारदात, 4 आरोपी गिरफ्तार…

रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी रायपुर में चाकूबाजी की वारदातें अब आम हो गई हैं. बेखौफ बदमाश रोजाना बेधड़क होकर लोगों को...

 सक्ती49 mins ago

अमलडीहा  में निःशुल्क चिकित्सा एवं आयुष मेला सम्पन्न

सक्ती(चैनल इंडिया)|  छत्तीसगढ़ शासन आयुष विभाग द्वारा आज अमलडीहा (सक्ती) में आयुष मेला तथा नि:शुल्क चिकित्सा व दवा वितरण का...

BREAKING52 mins ago

इस राज्य में अब स्पा सेंटर के बंद कमरों में आप नहीं करा पाएंगे मसाज

नई दिल्ली(चैनल इंडिया)। फिजियोथेरेपी, एक्यूप्रेशर या व्यावसायिक चिकित्सा डिग्री, डिप्लोमा प्रमाण पत्र के बगैर अब स्पा सेंटरों में यूं ही...

BREAKING59 mins ago

दूध पीने की जिद कर रहा था बच्चा,मां ने जमीन पर दिया पटक, मौत

कोरबा(चैनल इंडिया)। बालको थाना क्षेत्र के अंतर्गत एक मां ने अपने ढाई साल के मासूम बच्चे को मौत के घाट...

Advertisement
Advertisement