जिस सरकार को किसानों की सरकार बताया जाए और किसान आत्महत्या में वृद्धि हो तो उसे सरकार का फ़रेब, धोखा, छलावा नहीं तो और क्या कहेंगे-डॉ रमन सिंह – Channelindia News
Connect with us

channel india

जिस सरकार को किसानों की सरकार बताया जाए और किसान आत्महत्या में वृद्धि हो तो उसे सरकार का फ़रेब, धोखा, छलावा नहीं तो और क्या कहेंगे-डॉ रमन सिंह

Published

on


नेशनल क्राइम ब्यूरो रिपोर्ट पर पूर्व सीएम की प्रतिक्रिया- राज्य सरकार की कार्यप्रणाली पर उठाया सवाल

क्यों कथित किसान पुत्र के राज में छत्तीसगढ़ किसानों की आत्महत्या के मामले में देश में छठवें स्थान पर हैं?

खुशहाली के दावे के बीच क्यों 233 कृषकों व खेतिहर ने आत्महत्या की?

रोज़गार देने का दावा करने वाले भूपेश बघेल को बताना चाहिए कि प्रदेश में 1679 मजदूरों ने आत्महत्या क्यों की

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने वर्ष 2019 की नेशनल क्राइम ब्यूरो के रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। उन्होंने राज्य सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल करते हुए छत्तीसगढ़ में आत्महत्या के बढ़ते मामलों को चिंताजनक बताया हैं। पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय औसत 3.4 प्रतिशत हैं। वहीं आत्महत्या के मामलों में छत्तीसगढ़ में 8.3 प्रतिशत की वृद्धि प्रदेश सरकार की नीति और कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा करता हैं। रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2019 में 7629 लोगों द्वारा आत्महत्या किया जाना और छत्तीसगढ़ राज्य में आत्महत्य की दर में वृद्धि के साथ देश में नौवें स्थान पर आना प्रदेश सरकार की हर मोर्चे पर विफलताओं को प्रमाणित करता हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ जैसे छोटे प्रदेश की तुलना में कई बड़े बड़े प्रदेशों की आत्महत्या की दर में गत वर्ष की तुलना में कमी दर्ज की गई हैं। वहीं प्रदेश में आत्महत्या के मामलों में वृद्धि प्रदेश में कांग्रेस सरकार से बढ़ती निराशा और हताशा का परिणाम हैं।

इसे भी पढ़े   पंजीयन कार्यालय पुनः खुलने से रजिस्ट्री में आई तेजी, एक माह में 427 लोगो ने कराई रजिस्ट्री,शासन को डेढ़ करोड़ से अधिक की आमदनी

पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से पूछा कि उनकी सरकार किसान हितैषी होने का दावा करती है, सीएम अपने आपको लगातार किसान पुत्र बताते हैं फिर क्यों किसान पुत्र के राज में छत्तीसगढ़ किसानों की आत्महत्या के मामले में देश में छठवें स्थान पर हैं? आपके द्वारा किसानों की खुशहाली के दावे के बीच क्यों 233 कृषकों व खेतिहर ने आत्महत्या की? उन्होंने कहा कि एक तरफ प्रदेश सरकार किसानों की खुशहाली का दावा करते नहीं थकती, किसानों के नाम पर लायी गयी तमाम योजनाओं का ढिंढोरा पीटा जाता हैं। राजीव गांधी न्याय योजना से लेकर रोका छेका और गोबर खरीदी की बात की जाती हैं, विज्ञापन, होर्डिंग में खूब प्रचार होता हैं परंतु यह बड़ा दुर्भग्यपूर्ण हैं कि इन तमाम दावों की पोल छत्तीसगढ़ में किसान आत्महत्या के बढ़ते आंकड़ों से आज खुल चुकी हैं। उन्होंने कहा कि रोज़गार देने का दावा करने वाले भूपेश बघेल और उनकी सरकार को बताना चाहिए कि प्रदेश में 1679 मजदूरों ने आत्महत्या क्यों कर ली? मजदूरों की आत्महत्या के मामले में छत्तीसगढ़ देश में आठवें स्थान पर कैसे पहुंच गया? क्या प्रदेश में बेरोजगारी की पीड़ा झेल रहे प्रदेश के युवाओं की आत्महत्या की जिम्मेदार भूपेश बघेल की सरकार नहीं हैं? कांग्रेस अध्यक्ष होने के नाते बेरोजगारी भत्ता का वादा करने वाले बघेल जी मुख्यमंत्री बनते ही क्या आपने बेरोजगारी भत्ता और रोजगार ना देकर प्रदेश के युवाओं को छला नहीं? छल और धोखे के चलते प्रदेश के कई युवाओं ने आत्महत्या का रास्ता अख्तियार कर लिया। उन्होंने भूपेश बघेल से पूछा, आप तो कर्मचारियों के हित में निर्णय की बात करते थे। प्रदेश सरकार के तानाशाही रवैये के चलते प्रदेश में शासकीय कर्मचारी व अधिकारी कितने दबाव में हैं वह पिछले वर्ष 66 शासकीय कर्मचारियों व अधिकारियों की आत्महत्या से प्रमाणित होता हैं।

इसे भी पढ़े   एक अवॉर्ड शो में आलिया भट्ट को किस करते हुए नज़र आये रणबीर कपूर, हुई थी ये गलती, Viral हुआ Video

पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह ने कहा कि देश के 19 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में एक भी किसान आत्महत्या के मामले नहीं हैं। पर जिस राज्य में कांग्रेस के नेता सरकार को किसानों की सरकार बताएं और किसान आत्महत्या के मामलों में वृद्धि हो तो उसे सरकार का फ़रेब, धोखा, छलावा नहीं तो और क्या कहेंगे। उन्होंने कहा कि गंगा जल की कसम खा कर झूठ और फ़रेब का सहारा ले कर सत्ता पा लेना अलग बात हैं पर सरकार चलाना, जनहित में कार्य करना जन भवना के अनुरूप कार्य करना अलग बात हैं। इसे समझने के लिए जनता से जुड़ना होता हैं न कि जनता को छल कर तानाशाही चलाना। पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि जबसे प्रदेश में कांग्रेस की किसान पुत्र वाली किसान,युवा,महिला,बुजुर्ग हितैषी बताने वाली सरकार आयी हैं हर वर्ग असंतुष्ट हैं, निराश, हताश हैं। युवा, बेरोजगार और विद्यार्थी अपनी शिक्षा, रोजगार और बेरोजगारी भत्ते को लेकर असंतुष्ट हैं। किसान न्याय की आशा में हताश निराश हैं। कर्मचारी, अधिकारी दबाव और तानाशाही से असंतुष्ट हैं। महिलाएं, पुरुष, बुजुर्ग और युवा हर वर्ग असंतुष्ट है।रिपोर्ट के मुताबिक देश के कई बड़े बड़े राज्यों में आत्महत्या की दर ऋणात्मक हुई हैं। वहीं प्रदेश में राष्ट्रीय औसत के दुगने से ज्यादा आत्महत्या प्रदेश सरकार से हर वर्ग के दुखी होने की बात प्रमाणित करता हैं।

इसे भी पढ़े   गोबर खरीदी शुभारंभ करने सरायपाली के वनांचल व सीमा स्थित ग्राम सिरपुर पहुंच कर किया शुभारंभ
Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india9 hours ago

मात्र 6 महीने में बूढ़ा तलाब का फर्स्ट फेज बनकर पूरी तरह तैयार,कल मुख्यमंत्री करेंगे लोकार्पण…

रायपुर(चैनल इंडिया)। बूढ़ा तालाब सौंदर्यीकरण को लेकर महापौर ने प्रेस वार्ता ली। प्रेस वार्ता में नगर निगम सभापति प्रमोद दुबे...

ambikapur9 hours ago

राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर रक्षित केंद्र बलरामपुर में परेड आयोजित की गई, जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा उपस्थित अधिकारी,कर्मचारियों को दिलाई गई शपथ

शैलेंद्र कुमार द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर(चैनल इंडिया)। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में उनके जन्मदिन के अवसर...

ambikapur10 hours ago

कलेक्टर ने किया संभागस्तरीय वर्मी कम्पोस्ट प्रयोगशाला का शुभांरभ, संभाग के सभी जिलों में निर्मित वर्मी कम्पोस्ट के परीक्षण में आएगी तेजी

अम्बिकापुर(चैनल इंडिया)। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने आज यहां अम्बिकापुर के गंगापुर में कृषि विभाग द्वारा स्थापित संभागस्तरीय वर्मी कम्पोस्ट...

ambikapur10 hours ago

खाद्य आयोग अध्यक्ष ने किया पीडीएस दुकानों तथा रेडी टू ईट निर्माण इकाइयों का निरीक्षण, भौतिक सत्यापन में अधिक खाद्यन्न होने पर कार्रवाई के निर्देश

अम्बिकापुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरप्रीत सिंह बाबरा ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम तथा छत्तीसगढ़ खाद्य एवं पोषण...

channel india11 hours ago

Market live : कमजोर ग्लोबल संकेत बाजार पर पड़े भारी, Sensex 135 अंक टूटा Nifty 11650 के नीचे बंद

IndusInd Bank Q2| तिमाही में  IndusInd Bank का मुनाफा पिछले साल के दूसरी तिमाही में 1,401 करोड़ रुपए से घटकर...

खबरे अब तक

Advertisement