गोबर ने किया कमाल: समूह की महिलाएं हुई मालामाल – Channelindia News
Connect with us

channel india

गोबर ने किया कमाल: समूह की महिलाएं हुई मालामाल

Published

on


रायपुर (चैनल इंडिया) – इंसान की काबिलियत उसकी मेहनत पर निर्भर करती है और यदि कम मेहनत और कम संसाधन में ज्यादा फायदा मिले तो उसे एक अलग ही पहचान मिलती है। ऐसी ही पहचान टिपनी की जय महामाया महिला स्व सहायता समूह की महिलाओं ने गोबर से गमले का निर्माण कर बनायी है। अभी तक गोबर का उपयोग खाद के रूप में होता था।
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की दूरदर्शिता से अब गोबर का उपयोग व्यवसायिक रूप में होने जा रहा है। अब गोबर से कंडे ही नही बल्कि दीये, गमले एवं अन्य वस्तुएं भी बनने लगे हैं। राज्य सरकार द्वारा गांव की समृद्धि और किसानों की खुशहाली के लिए गोबर खरीदने की कार्य योजना तैयार की जा रही है। गोबर के गमले से बेमेतरा जिले के ग्राम पंचायत टिपनी की जय महामाया महिला स्व सहायता समूह ने कमाई शुरू भी कर दिया है। महिलाओं ने अभी तक 1200 गमले बेचकर 18 हजार रूपए की कमाई कर चुकी हैं। एक गमला बनाने में 7 रूपए की लागत आती है और वह बिकता 15 रूपए में है। इस तरह से 9600 रूपए की शुद्ध कमाई। महिलाओं ने अभी तक 1500 गमलों का निर्माण कर चुकी हैं।
गोबर गमला निर्माण में कच्चा माल के रूप में गोबर, पीली मिट्टी, चूना, भूसा इत्यादि का उपयोग किया जाता है। जिला प्रशासन द्वारा जिले में महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविकास मिशन (बिहान) के तहत प्रेरित किया जा रहा है। गोबर से गमला बनाने का मुख्य लाभ यह है कि यह टिकाऊ होने के साथ ही पर्यावरण के अनुकूल है तथा प्लास्टिक-पॉलीथिन के गमले के स्थान पर इनका उपयोग किया जाता है। अगर गमला क्षतिग्रस्त हो गया तो इसका खाद के रूप में उपयोग किया जा सकता है। गोबर के गमले का सबसे महत्वपूर्ण उपयोग वृक्षारोपण या पौधे की नर्सरी तैयार करने में हैं जिसमें गोबर के गमले में लगें पौधंे को सीधा भूमि पर रोपित कर सकते है।
गोबर खाद के रूप में अधिकांश खनिजों के कारण मिट्टी को उपजाऊ बनाता है। पौधें की मुख्य आवश्यकता नाईट्रोजन, फॉसफोरस तथा पोटेशियम की होती है। ये खनिज गोबर में क्रमशः 0.3-0.4, 0.1-0.15 तथा 0.15-0.2 प्रतिशत तक विद्यमान रहते है। मिट्टी के सम्पर्क में आने से गोबर के विभिन्न तत्व मिट्टी के कणों को आपस में बांधते है। यह पौधों की जड़ो को मिट्टी में अत्यधिक फैलाता हैं एवं मिट्टी को अधिक उपजाऊ बनाती है। इस तरह समूह की महिलाओं ने गोबर से गमला बनाकर आजीविका के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण में अपनी महत्वपूर्ण योगदान दे रही है।

इसे भी पढ़े   इंडियन रेडक्रास सोसायटी ने कोरोना से बचाव अंतर्गत तीन दिवसीय जागरूकता अभियान चलाया
Advertisement
Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india4 hours ago

कलेक्टर श्याम धावड़े ने जनचैपाल में सुनी आमजनों की समस्याएं, कहा- ‘नौनिहालो को स्वस्थ एवं सुपोषित जीवन प्रदान करना हमारा नैतिक दायित्व’

बलरामपुर: विकासखण्ड बलरामपुर के ग्राम पंचायत बरदर में अनुविभागीय स्तर पर जनचैपाल आयोजित कर शासकीय योजनाओं की जानकारी तथा विभिन्न...

channel india4 hours ago

कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक खरीदी पूर्व उपार्जन केन्द्रों का दौरा कर वस्तुस्थिति का लिया जायजा, उपार्जन केन्द्र के कर्मचारियों को दिये आवश्यक निर्देश

बलरामपुर: राज्य शासन द्वारा आगामी 1 दिसम्बर से छत्तीसगढ़ के कृषकों से समर्थन मूल्य में उपार्जन केंद्रों के माध्यम से...

channel india4 hours ago

जनप्रतिनिधियों ने पुलिस पर अवैध कारोबारियों के ऊपर कार्यवाही नहीं करने का लगाया आरोप, पुलिस ने कहा- ‘अवैध कारोबार करते पकड़ा गया तो करेंगे सख्त कार्यवाही’

रायपुर ( धरसीवा )। औद्योगिक क्षेत्र पर नशे का कारोबार करने वाले लोगों पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने कार्यवाही नहीं करने...

channel india4 hours ago

SKS उद्योग द्वारा पर्यावरण जनसुनवाई का हुआ आयोजन: जनप्रतिनिधि व स्थानीय लोग हुए नाराज, बिना सूचना दिए किया गया था आयोजन

धरसीवां- (चैनल इंडिया)। औद्योगिक क्षेत्र सिलतरा के फेस2 में एसकेएस इस्पात एंड पावर लिमिटेड द्वारा पर्यावरण जनसुनवाई का आयोजन किया...

channel india5 hours ago

धरसीवा पुलिस ने नशा मुक्ति अभियान के तहत 2 लोगों पर कार्यवाही कर भेजा जेल

धरसीवा- (चैनल इंडिया)। रायपुर पुलिस द्वारा चलाये जा रहे नशामुक्ति अभियान…संभव है? के तहत पुलिस सहायता केंद्र सिलतरा थाना धरसीवां...

खबरे अब तक

Advertisement