विदेशी पशु-पक्षी  पालने के है,शौकीन तो जान ले ये जरूरी बात – Channelindia News
Connect with us

Special News

विदेशी पशु-पक्षी  पालने के है,शौकीन तो जान ले ये जरूरी बात

Published

on



राजस्थान|प्रदेश मे विदेशी पशु-पक्षियों को पालने के शौकीन लोगो के लिए वन विभाग ने सूचना जारी किया है,और संबंधित जानकारी भी जारी किया है|राजस्थान वन विभाग ने इसके लिए एक फॉर्मेट भी जारी किया है। कोई भी जीव-जंतु पालने के 6 माह में जानकारी देना अनिवार्य किया गया है।

लोग जो विदेश से लाए या आए जीवों को पाल रहे या उनकी खरीद-फरोख्त का कारोबार कर रहे हैं। उन्हें इस से संबधित जानकारी वन विभाग से साझा करनी होगी। हाल ही में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने ज़िंदा विदेशी जीवों को आयात करने की प्रक्रिया को कारगर बनाने और औपचारिक रूप से इसकी जानकारी जारी करने के लिए एक एडवाइजरी जारी की जिसके बाद आज राजस्थान वन-विभाग की ओर से भी ये एडवाइजरी जारी करते हुए कहा गया है कि राजस्थान में ऐसे जीवों को रखने, पालने, प्रजनन करने या उनके कारोबार की घोषणा करनी होगी और रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

दरअसल वन विभाग ने इसके लिए एक फॉर्मेट जारी किया है, जिसके मुताबिक इसके लिए राज्य के मुख्य वन्य-जीव प्रतिपालक की अनुमति अनिवार्य कर दी गई है। प्रदेश में बहुत से लोग ऐसे जीवों को पालना पसंद करते हैं, जो विदेश से लाए जाते हैं। इनमें ज्यादातर विदेशी नस्ल के पक्षी होते हैं जैसे लव बर्ड्स, मकाऊ तोता, अफ्रीकी तोते, चूहे, विदेशी कछुए, विदेशी छिपकली समेत ऐसे सैंकड़ों प्रजातियों के जीवों का आजकल कारोबार किया जाता है। लोग उन्हें पालतू बनाकर घरों में रखते हैं। लेकिन अब तक उसका कोई रिकॉर्ड नहीं हुआ करता था।

इसे भी पढ़े   जाने रेप होने का प्रमाण,कैसे लगाया जाता है पता,और कितने घंटे मे मिल जाता है मेडिकल रिपोर्ट

होगा पंजीकरण

बता दे भारतीय नहीं होने की वजह से अभी तक ये वन्य-जीव संरक्षण अधिनियम 1972 के दायरे से बाहर हैं, लेकिन अब इन विदेशी प्रजातियों के जीवों का लेखा-जोखा भी वन-विभाग अपने पास रखेगा। ऐसे जीवों की आधिकारिक तौर पर घोषणा के लिए वन विभाग सभी को 6 महीने का समय देगा। अगर इस दौरान कोई अपने पास मौजूद ऐसे विदेशी जानवर (Rajasthan Forest Department) की जानकारी छुपाएगा तो उसके पास मौजूद ऐसे वन्य जीवों को गैर-कानूनी माना जाएगा। वन विभाग की ओर जारी की गई एडवाइजरी के मुताबिक इस योजना के जरिये प्रदेश में विदेशी प्रजातियों के जीवित जीवों की एक लिस्ट बनेगी। 6 महीने में सभी को ऐसे जीवों की खुद आगे आकर घोषणा करनी होगी। जिसका वन-विभाग पंजीकरण करेगा।

इसे भी पढ़े   ऑफर! Samsung Big TV Days Sale में स्मार्ट टीवी पर छूट के साथ मोबाइल, साउंडबार जीतें

 

 

 

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india9 hours ago

पुलिस चौकी के सामने खड़ी एंबुलेंस अचानक लगी हिलने, पास जा कर देखा तो उड़ गए लोगों के होश…

एक तरफ कोरोना से हाहाकार मचा है। शहरों से लेकर गांवों तक देश का शायद ही कोई ऐसा कोना हो...

CHANNEL INDIA NEWS10 hours ago

प्रदेश के इस जिले में करना है प्रवेश तो देना होगा स्टेमिना टेस्ट, जानिए क्या करना पड़ेगा?

मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिला सीमा पर प्रवेश पर सख्ती दिखाने के लिए पुलिस अधीक्षक निवाड़ी आलोक कुमार सिंह ने...

channel india11 hours ago

10 साल की बच्ची को ब्लैक फंगस ने जकड़ा, इलाज जारी…

रायपुर(चैनल इंडिया)। कोरोना संक्रमण के बाद अब ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ गया है. छत्तीसगढ़ में इसके चौकाने वाले मामले...

BREAKING11 hours ago

ब्रेकिंग न्यूज़: कोविड -19 के बढ़ते संक्रमण के रोकथाम और नियंत्रण के लिए संपूर्ण कबीरधाम जिले में आगामी 31 मई सुबह 6 बजे तक कन्टेन्टमेंट क्षेत्र की समय सीमा बढ़ाई

कवर्धा(चैनल इंडिया)|  कलेक्टर एवं जिला  दंडाधिकारी रमेश कुमार शर्मा ने आज इस आदेश के आदेश एवं विस्तृत दिशा- निर्देश जारी...

BREAKING12 hours ago

बुजुर्ग ने किया कुत्ते का रेप, पुलिस ने दर्ज किया केस…

महाराष्ट्र के नालासोपारा जिले से चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां एक शख्स ने इंसानियत को शर्मशार कर कुत्ते...

Advertisement
Advertisement