एसईसीएल में लिपिकीय विभाग के द्वारा की गई गलती से हो रहा मजदूरों का आर्थिक एवं शारीरिक शोषण – Channelindia News
Connect with us

channel india

एसईसीएल में लिपिकीय विभाग के द्वारा की गई गलती से हो रहा मजदूरों का आर्थिक एवं शारीरिक शोषण

Published

on


चिरमिरी | नगर की सारी अर्थव्यवस्था कोयले पर निर्भर है। इन कोयला खदानों में बहुत सारे श्रमिक काम करते हैं। जो अनपढ़ एवं अशिक्षित भी हैं। इनकी अशिक्षा का फायदा लिपकीय लॉबी द्वारा बेहतरीन तरीके से उठाया जाता है। अक्सर देखने को मिलता है कि श्रमिक कुछ ना कुछ काम लेकर ऑफिसों का चक्कर लगाते रहते हैं। एवं उनके साथ सक्रिय एसईसीएल में कार्यरत कुछ लोग भी नजर आते हैं।

ऐसे लोग श्रमिकों को प्रलोभन देते हैं कि हम तुम्हारा काम आसानी से करवा देंगे एवं अपने झांसे में लेते हैं। यह सिलसिला कोई नया नहीं है। यह सिलसिला बहुत पुराना है। और बहुत पहले से चलता आ रहा है। इस तरह की सक्रिय लॉबी कोई एक व्यक्ति विशेष नहीं है। बल्कि एक पूरा चैनल है जिसमें ऑफिस से लेकर अधिकारियों की संलिप्तता नजर आती है। जब श्रमिक झांसे में आ जाता है। तब शुरू होता है उसके शोषण का दौर। जो कि आर्थिक मानसिक और शारीरिक हर तरह से किया जाता है। कभी लिपिकीय त्रुटियों की गलती के नाम पर। कभी मेडिकल बिल के नाम पर। कभी छुट्टियों के नाम पर तो कभी एन ओ सी के नाम पर यह खेल चलता ही रहता है। एक पूरे लॉबी के इस कार्य में सक्रिय होने की वजह से श्रमिक इनके खिलाफ आवाज नहीं उठा पाता। और मजबूर होकर इनके शोषण का शिकार होता रहता है। शोषण का यह इतिहास बहुत पुराना है। जिसमें कई दिग्गजों के नाम टीम के सामने हैं। जिनमें से कुछ तो यहां से ट्रांसफर लेकर कोरबा गेवरा इत्यादि अन्य स्थानों पर चले गए। चढ़ावे की रकम 5000 से लेकर ₹500000 तक की होती है।
निश्चित ही यह खेल किसी एक व्यक्ति विशेष द्वारा नहीं खेला जाता। बल्कि निचले स्तर पर सक्रिय लोगों के ऊपर बड़े अधिकारियों का आशीर्वाद बना रहता है। तभी यह खेल आगे चल रहा है। चैनल इंडिया को ऐसे चौकानेवाले सबूत मिले हैं। जिससे इस खेल में शामिल कई लोगों का खुलासा होना तय है।
पूर्व में भी कई ऐसे मामले देखे गए हैं। जिसमें लिपिकीय विभाग की गलती की वजह से क्षेत्र के बहुत सारे श्रमिकों का बड़ा नुकसान हुआ है।
श्रमिक अपने मेहनत की खून पसीने की गाढ़ी कमाई अपने घर तक भी नहीं ले जा पाते। और उससे पहले ही कानूनी रूप से लूट लिए जाते हैं।
इस विषय में जब चैनल इंडिया की टीम ने एसईसीएल मुख्यालय में संपर्क करना चाहा तो टीम को सहयोग देने से इनकार किया गया। आखिर क्या ऐसी वजह है जो इस विषय पर एवं इन जैसे किसी विषय पर जिनसे श्रमिकों का हित जुड़ा हो। अधिकारी मीडिया कर्मियों से बात करने में कतराते हैं। पूर्व में भी एसईसीएल में लिपिक विभाग पर काम करने वाले कई लोगों पर ऐसे आरोप लग चुके हैं। एवं विजिलेंस तथा ACB की कार्यवाही भी हो चुकी है। बावजूद इसके लिपिकीय विभाग के ऐसे लोग अपनी हरकतों से बाज नहीं आते। सबसे बड़ी बात है कि कोई श्रमिक अगर आवाज उठाता है। तो उसकी आवाज को प्रलोभन देकर या कागज पत्तर में कमियां होना और काम ना होने का डर दिखाकर बंद कर दिया जाता है। वर्षों से विरोध की ऐसी आवाज को विभाग का दबाव दिखाकर दबा दिया जाता रहा है। कितने ही मामले ऐसे हैं जिनमें परिजनों को अभी तक न्याय नहीं मिला।

इसे भी पढ़े   नए थाना प्रभारी नितेश ठाकुर ने खरोरा नगर में राह चलते लोगो को दी समझाईश 

2 दिन पूर्व एक समाचार पत्र में खबर आई थी के हीरालाल नाम का एक श्रमिक जो खदान काम करने गया था। उसका पता ही नहीं चला और उसके साथ अन्याय हुआ है। यह केवल एक किस्सा नहीं है बल्कि ऐसे अनेकों किस्से एसईसीएल की फाइलों में दफन है। जो केवल फाइल बनकर रह गए हैं। एक बार श्रमिक ऐसे सक्रिय ऑफिशियल अपराधी के चक्कर में आ जाता है, तो फिर शुरू हो जाता है ऑफिस ऑफिस का खेल। श्रमिक को इस ऑफिस से उस ऑफिस उस ऑफिस से उस ऑफिस इतने चक्कर कटवाए जाते हैं, कि श्रमिक बेचारा घनचक्कर हो जाता है।
इस समाचार की अगली कड़ी में ऐसे कई लोगों के नाम सार्वजनिक किया जाना तय है। जिन्होंने गरीब श्रमिकों का शोषण करने में कोई कमी नहीं की। चैनल इंडिया की टीम ने हमेशा कमजोर और मजबूर लोगों की आवाज उठाई है एवं उनके हक के लिए कार्य किया है।
प्रस्तुत लेख के आगामी अंको में एक-एक करके ऐसे लोगों का नाम सामने रखा जाएगा जो इस तरीके के श्रमिकों के शोषण में लगे हुए हैं। इनमें से कुछ पर तो बहुत ही गंभीर आपराधिक मामले भी हैं जिन को दबा दिया गया है।

इसे भी पढ़े   बेहतरीन फीचर्स के साथ APPLE ने लांच की iPHONE 12 सीरीज,जानिये देश में क्या इनकी कीमत
Advertisement
Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india11 hours ago

खाद्य मंत्री अमरजीत भगत एवं संसदीय सचिव एवं कलेक्टर महादेव कांवर के हाथों हुआ धान खरीदी केंद्र का उद्घाटन

जशपुर(चैनल इंडिया): जशपुर जिले के प्रभारी मंत्री अमरजीत भगत जी ने कहा कि गरीबों के लिए धान जो किसानों की...

channel india12 hours ago

शासकीय पाॅलिटेक्निक काॅलेज रामानुजगंज में प्रवेश हेतु ऑनलाइन काउंसलिंग 30 नवम्बर से

बलरामपुर: शासकीय पाॅलीटेक्निक काॅलेज रामानुजगंज के प्राचार्य ने जानकारी दी है कि शैक्षणिक सत्र 2020-21 में डिप्लोमा इंजीनियरिंग प्रथम वर्ष...

BREAKING12 hours ago

बड़ी खबर: मंत्रालय में आज बिना मास्क वाले 6 कर्मचारियों पर लगा जुर्माना, कोरोना वायरस के संबंध में जारी दिशा-निर्देशों का कराया गया कड़ाई से पालन

रायपुर: मंत्रालय महानदी भवन में मास्क नही लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही करने वाले कर्मचारियों से अर्थदंड की...

channel india12 hours ago

प्रभारी कलेक्टर ने किया खैरबार एवं सरगवां उपार्जन केन्द्र का निरीक्षण, दिए आवश्यक दिशा-निर्देश

अम्बिकापुर: प्रभारी कलेक्टर कुलदीप शर्मा ने आज अम्बिकापुर जनपद के खैरबार एवं सरगवां उपार्जन केन्द्र का औचक निरीक्षण कर धान...

channel india12 hours ago

अवैध तरीके से धान खपाने वालों पर होगी कड़ी कार्यवाही, एसीएस ने ली धान खरीदी की तैयारी बैठक

अम्बिकापुर: अतिरिक्त मुख्य सचिव अमिताभ जैन की अध्यक्षता में आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से धान खरीदी की तैयारियों की...

खबरे अब तक

Advertisement