क्या आप जानतें हैं क्यों खाया जाता है मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी, जानिए इससे जुड़ी पौराणिक कथा – Channelindia News
Connect with us

channel india

क्या आप जानतें हैं क्यों खाया जाता है मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी, जानिए इससे जुड़ी पौराणिक कथा

Published

on

नई दिल्ली,: मकर संक्रांति का त्योहार हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है आज  यह त्योहार पूरे भारत में मनाया जा रहा है | इस दिन पूरे भारत मे लोग तिल का लड्डू और खास खिचड़ी खाते हैं । वहीं, देश के कई राज्यों में इस त्योहार पर पतंग भी उड़ाई जाती है, हालांकि, इस बार कोरोना महामारी के कारण हर साल की तरह इस साल त्योहार की र्रोनक देखने को नहीं मिलेगी। मकर संक्रांति को शास्त्रों में स्नान, दान और ध्यान के त्योहार के रूप में दर्शाया गया है। इस दिन सूर्य उत्तरायण होकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। इस दिन भगवान सूर्य को खिचड़ी का भोग लगाया जाता है और गुड़ तिल से बनी चीज़ें जैसे तिल के लड्डू, गजक, रेवड़ी को प्रसाद के रूप में खाया ऑर बांटा जाता हैं |ये तो आप जानते होंगे कि मकर संक्रांति पर तिल के लड्डू, दही चूड़ा के साथ-साथ खिचड़ी भी खाई जाती है|

इसे भी पढ़े   14 मई को अग्रीन पंक्ति के श्रमिकों की मांग के लिए देश व्यापी विरोध दिवस, बहुत हुए फूल अब सुरक्षा उपकरण और बीमा सुरक्षा दो - सीटू!!

मकर संक्रांति पर खिचड़ी खाने की परंपरा के पीछे भगवान शिव के अवतार कहे जाने वाले बाबा गोरखनाथ की कहानी है। खिलजी के आक्रमण के समय नाथ योगियों को खिलजी से संघर्ष के कारण भोजन बनाने का समय नहीं मिल पाता था। इससे योगी अक्सर भूखे रह जाते थे और कमज़ोर हो रहे थे। इस समस्या का हल निकालने के लिए बाबा गोरखनाथ ने दाल, चावल और सब्ज़ी को एक पकाने की सलाह दी।

इसे भी पढ़े   फिर लगेगा दीदी को झटका? कैलाश विजयवर्गीय का बड़ा बयान, कहा- ‘तृणमूल कांग्रेस के 41 विधायक हमारे संपर्क में’

खिचड़ी न सिर्फ पौष्टिक होती है, बल्कि इसे बनाने में ज़्यादा समय भी नहीं लगता। इसे खाने से शरीर को तुरंत ऊर्जा मिलती है। नाथ योगियों को यह व्यंजन काफी पसंद आया। बाबा गोरखनाथ ने इस व्यंजन का नाम खिचड़ी रखा। गोरखपुर स्थित बाबा गोरखनाथ के मंदिर के पास मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी मेला आरंभ होता है। कई दिनों तक चलने वाले इस मेले में बाबा गोरखनाथ को खिचड़ी का भोग लगाया जाता है और इसे भी प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। मकर संक्रांति पूरे भारत का एक बड़ा त्योहार है जिसे पूरे भारत में अलग-अलग नाम से मनाया जाता है जैसे पंजाब मे लोहड़ी, दक्षिण भारत में पोंगल छतीसगढ़, राजस्थान , गुजरात जैसे राज्यों मे इसे मकर संक्रांति के रूप मे मनाया जाता है|

इसे भी पढ़े   विगत 125 वर्षों से गणेश उत्सव मनाया जा रहा है कांकेर में
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

R.O. No. 11359/53

CG Trending News

Chhattisgarh: स्कूल के क्लास रूम में टीचर ने डरा धमकाकर किया नाबालिग छात्रा के साथ बलात्कार Chhattisgarh: स्कूल के क्लास रूम में टीचर ने डरा धमकाकर किया नाबालिग छात्रा के साथ बलात्कार
channel india16 hours ago

Chhattisgarh: स्कूल के क्लास रूम में कुकर्मी मास्टर ने किया नाबालिग छात्रा के साथ रेप

राजनांदगांव। Rajnandgaon Rape Case Chhattisgarh: यह घटना राजनांदगांव जिले के घुमका ब्लाक के चंवरढाल की है। जहां एक शिक्षक ने...

bijapur c.g.17 hours ago

छत्तीसगढ़: सरपंच सहित 37 भाजपा नेताओं ने थामा कांग्रेस का दामन, सांसद व विधायक भी थे मौजूद

बिजापुर। बस्तर विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष व क्षेत्रीय विधायक विक्रम की लोकप्रियता लगातार उनकी स्क्रीयता व लोककल्याणकारी कार्यो को देखते हुए...

channel india18 hours ago

जशपुर समाचार: चैनल इंडिया की बेबाक खबरों से बेहद प्रभावित हुए वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एल्डरमैन रामचरण अग्रवाल, भेंट किया कंबल

पत्थलगांव। चैनल इंडिया तेज न्यूज़ से खुश होकर के पत्थर गांव के पार्षद वरिष्ठ कांग्रेसी नेता एल्डरमैन रामचरण अग्रवाल द्वारा...

channel india18 hours ago

आस्था समिति ने सिल्हाटी में मनाया राष्ट्रीय बालिका दिवस

कवर्धा। राष्ट्रीय बालिका दिवस के सुअवसर पर चाइल्ड लाइन कबीरधाम द्वारा मानसिक स्वास्थ्य मनोसामाजिक समर्थन विषय पर किशोरी बालिकाओं को...

channel india18 hours ago

छत्तीसगढ़: शिवसेना ने केंद्रीय रेल मंत्री से की लोकल ट्रेन चालू कराने की मांग, सौंपा ज्ञापन

हथबंद। हथबंद रेलवे स्टेशन से क्षेत्र के हजारों की संख्या में लोग लोकल ट्रेन से आवागमन करते थे। यात्रीयो में...

खबरे अब तक

Advertisement
Advertisement