क्या आप को भी आता है आत्महत्या का ख्याल?. तो हो जाये सावधान…… – Channelindia News
Connect with us

channel india

क्या आप को भी आता है आत्महत्या का ख्याल?. तो हो जाये सावधान……

Published

on


रायपुर डेस्क (चैनल इंडिया)|   10 सितंबर को पूरी दुनिया में विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस मनाया जाता है. इस दिवस को मनाने के पीछे लोगों को आत्महत्या के प्रति जागरूक करना है ताकि लोग ऐसे कदम ना उठाएं. जिस तरह हमारे आसपास आत्महत्या के मामले बढ़ रहे हैं, इसके प्रति जागरूकता और जरूरी बनती जा रही है. आइए जानते हैं कि कि आखिर किसी व्यक्ति के मन में सुसाइड करने का ख्याल क्यों आता है और इसे कैसे दूर किया जा सकता है.
क्यों आता है आत्महत्या का ख्याल- सुसाइड अपने आप में कोई मानसिक बीमारी नहीं है. इसके पीछे डिप्रेशन, बाइपोलर डिसऑर्डर, पर्सनालिटी डिसऑर्डर, अचानक किसी घटना का मानसिक असर और तनाव जैसी कई वजहें हैं. इस समस्या से जूझने वाले लोग अक्सर उदास रहते हैं और उसके मन में हर समय नकारात्मक ख्याल आते रहते हैं. कई बार ये अपने आप को परिस्थितियों के सामने इतना असहाय महसूस करते हैं कि उनके मन में आत्महत्या का ख्याल आने लगता है. ये संकेत देते हैं चेतावनी- सुसाइड जैसा बड़ा कदम कोई भी व्यक्ति अचानक नहीं उठाता है. इससे पहले वो जिन चीजों से गुजरता है उसे एक संकेत माना जा सकता है. जरूरत से ज्यादा और बात-बात पर गुस्सा होना, हमेशा उदास रहना, मूड स्विंग होना, भविष्य को लेकर आशंकित रहना, नींद ना आना ये सारे लक्षण बताते हैं कि व्यक्ति किसी तरह के मानसिक उतार-चढ़ाव से गुजर रहा है.
गंभीर तनाव और डिप्रेशन के बीच अचानक बिल्कुल शांत हो जाना भी इस बात का संकेत देता है कि समस्या से जूझने वाला व्यक्ति किसी निर्णय पर पहुंच चुका है. ऐसे लोग अकेले रहना पसंद करते हैं और किसी भी तरह सामाजिक गतिविधियों से बचते हैं. किसी भी काम में इनकी दिलचस्पी खत्म होने लगती है. आत्महत्या के बारे में सोचने वाले व्यक्ति के व्यवहार में अचानक बदलाव आने लगते हैं.
कुछ मामलों मे आत्महत्या पर विचार करने वाला व्यक्ति इसके लिए पूरी तैयारी भी कर लेता है. जैसे परिवार और दोस्तों को बिजनेस में शामिल करना, वसीयत तैयार करना या सुसाइड नोट लिखना, बंदूक या ज़हर जैसी चीजें ढूंढना. सबसे ध्यान देना वाली बात ये है कि आत्महत्या के बारे में सोचने वाले 50 से 75 फीसदी लोग इसका जिक्र अपने दोस्त या किसी रिश्तेदार से करते हैं. क्या आत्महत्या को रोका जा सकता है- आत्महत्या को निश्चित तौर पर नहीं रोका जा सकता है लेकिन आत्महत्या से आने वाले पहले के विचारों और संकेतों को समझकर सही कदम उठाया जा सकता है. रिसर्च बताते हैं कि आत्महत्या को रोकने का सबसे अच्छा तरीका इसके संकेतों, डिप्रेशन और जिसऑर्डर के लक्षणों को पहचानना है. इससे समय रहते उस व्यक्ति का इलाज कराया जा सकता है.
आत्महत्या का विचार आने पर क्या करें- ज्यादातर लोग किसी भी मानसिक समस्या को बीमारी नहीं मानते हैं और डॉक्टर से संपर्क करने से बचते हैं. यही वजह है कि डिप्रेशन की समस्या बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक में तेजी से फैल रही है. जब मन में लगातार नकारात्मक और खुद को चोट पहुंचाने जैसे ख्याल आ रहे हों तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए. इसके अलावा अपने करीबी दोस्त या परिवार के सदस्यों से अपनी दिक्कतों के बारे में बात करनी चाहिए.
डिप्रेशन के शिकार व्यक्ति को अकेले नहीं रहना चाहिए. अपने दोस्तों और परिवार के लगातार संपर्क में रहें, अपनी समस्याओं पर चर्चा करें और खुलकर उनसे मदद मांगे. अकेलेपन से बचने के लिए, किताबें पढ़ें, योग करें, अच्छी नींद लें, शराब और ड्रग्स के सेवन से बचें. अगर आप किसी ऐसी मानसिक समस्या से जूझ रहे हैं जिसके बारे में आप किसी से बात नहीं कर सकते तो, टॉक थेरेपी का सहारा लें और किसी मनोचिकित्सक से संपर्क करें.

इसे भी पढ़े   राज्यपाल पूर्ण रूप से स्वस्थ, वे कोरोना पॉज़िटिव नही , क्वारनटाईन के नियमो का कर रही पालन   
Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

balrampur5 hours ago

एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालय में प्रवेश के लिए तृतीय काउंसलिंग 31 अक्टूबर को

बलरामपुर 27 अक्टूबर 2020।  शैक्षणिक सत्र 2020-21 अंतर्गत बलरामपुर-रामानुजगंज जिले में संचालित एकलव्य आदर्श आवासीय विद्यालयों में कक्षा 6वीं में...

balrampur5 hours ago

समय-सीमा की बैठक सम्पन्न, लंबित प्रकरणों को प्राथमिकता के साथ निराकरण करने कलेक्टर का निर्देश

बलरामपुर 27 अक्टूबर 2020। कलेक्टर श्याम धावड़े ने समय-सीमा की बैठक में विभिन्न विभागों में लंबित प्रकरणों की समीक्षा की।...

ambikapur5 hours ago

वर्मी कम्पोष्ट खाद बनाने में लापरवाही पर जनपद सीईओ को कारण बताओ नोटिस, साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक सम्पन्न

अम्बिकापुर 27 अक्टूबर 2020। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सप्ताहिक समय-सीमा की बैठक में...

ambikapur5 hours ago

ई-मेगा कैम्प में बड़े पैमाने पर किया जाएगा प्रकरणों का निराकरण,31 अक्टूबर को होगा आयोजन

अम्बिकापुर 27 अक्टूबर 2020। जिला एवं सत्र न्यायाधीश बी.पी. वर्मा के निर्देशानुसार राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा 31 अक्टूबर को...

channel india5 hours ago

मुख्यमंत्री का निर्देश हुआ बेअसर ,पटवारी मस्त,, किसान त्रस्त

रिपोर्टर एसके द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर   | जिले के वाड्रफनगर विकासखंड में पटवारियों का दबदबा देखते ही बन रहा है...

खबरे अब तक

Advertisement