आसमान से आ रही आफत, 24 जुलाई को पृथ्वी से टकरा सकता है स्टेडियम जितना विशाल एस्टेरोइड – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

आसमान से आ रही आफत, 24 जुलाई को पृथ्वी से टकरा सकता है स्टेडियम जितना विशाल एस्टेरोइड

Published

on


कोरोना संकट, चक्रवाती तूफान, बाढ़ और भूकंप हर तरह से तबाही ही तबाही मची है। इस बीच, अब स्टेडियम जितना विशाल एस्टेरोइड बहुत तेज गति से धरती की ओर बढ़ रह है, जो 24 जुलाई को धरती से टकरा जाता है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के वैज्ञानिकों ने इस बेहद खतरनाक बताया है।
रिपोर्ट के मुताबिक, यह विशाल एस्टेरोइड आठ किलोमीटर प्रति सेकंड यानी कि करीब 28,800 हजार किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पृथ्वी की ओर आ रहा है। इसकी धरती को ओर बढ़ने की यह गति इतनी अधिक है कि अगर कोई ग्रह या वस्तु किसी एस्टेरोइड से टकराती है, तो वह तबाह हो जाएगी। नियर-अर्थ ऑब्जेक्ट (एनईओ) 20 मीटर चौड़ा है और 28,70,847,607 किमी की दूरी से दिखाई देगा, जो पृथ्वी और चंद्रमा के बीच की कुल दूरी का आठ गुना है।
एनईओ 24 जुलाई की रात अपोलो नाम की कक्षा से गुजरेगा। हालांकि, इसके पृथ्वी से टकराने की कोई संभावना नहीं है। फिर भी वैज्ञानिकों ने इसे संभावित खतरनाक एस्टेरोइड की श्रेणी में रखा है। इसलिए नासा के वैज्ञानिक लगातार इसकी निगरानी कर रहे हैं। बता दें कि इससे पहले भी एस्टेरोइड 2021KT1 पृथ्वी की कक्षा से गुजरा था, जो एफिल टावर के आकार के बराबर था।
एनईओ 24 जुलाई की रात अपोलो नाम की कक्षा से गुजरेगा। हालांकि, इसके पृथ्वी से टकराने की कोई संभावना नहीं है। फिर भी वैज्ञानिकों ने इसे संभावित खतरनाक एस्टेरोइड की श्रेणी में रखा है। इसलिए नासा के वैज्ञानिक लगातार इसकी निगरानी कर रहे हैं। बता दें कि इससे पहले भी एस्टेरोइड 2021KT1 पृथ्वी की कक्षा से गुजरा था, जो एफिल टावर के आकार के बराबर था।
100 वर्षों में 22 एस्टेरोइड बन सकते हैं पृथ्वी के लिए खतरा
एस्टेरोइड आम तौर पर बृहस्पति ग्रह की कक्षा में पाए जाते हैं। कुछ एस्टेरोइड दूसरे ग्रहों की कक्षा में भी घूमते पाए गए हैं और इसी ग्रह के साथ-साथ सूरज की भी परिक्रमा करते रहते हैं।

वैज्ञानिकों के पास अब तक लगभग दस लाख एस्टेरोइड की जानकारी है। इनमें से 22 अगले सौ वर्षों में पृथ्वी के लिए खतरा भी बन सकते हैं। नैनीताल स्थित आर्यभट्ट शोध एवं प्रेक्षण विज्ञान संस्थान के अंतरिक्ष विज्ञानी डॉ. शशि भूषण पांडे ने बताया कि लगभग 4.5 अरब साल पहले जब हमारी सौर प्रणाली विकसित हो रही थी, तब गैस और धूल के कुछ ऐसे बादल जो ग्रह के रूप में विकसित नहीं हुए, बाद में एस्टेरोइड बन गए।

 

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india6 mins ago

राज्य गौ सेवा आयोग के नव पदाधिकारियों का पदभार ग्रहण कार्यक्रम, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सहित मंत्री रविन्द्र चौबे भी हुए शामिल

जशपुर(चैनल इंडिया)|  राज्य गौ सेवा आयोग के नव पदाधिकारियों के पदभार  ग्रहण कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा...

channel india37 mins ago

कलेक्टर ने एसडीएम, लोक निर्माण विभाग राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारियों की ली समीक्षा बैठक

जशपुरनगर(चैनल इंडिया)|  कलेक्टर महादेव कावरे ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में अनुविभागीय दंडाधिकारी, लोक निर्माण विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग के अधिकारियों की...

BREAKING60 mins ago

शोध में खुलासा : Covid-19 महामारी में इन्फ्लूएंजा वैक्सीान दे रहा है सुरक्षा कवच, कोरोना के गंभीर प्रभावों से कर रहा बचाव

कोरोना संक्रमण से बचाव में इन्फ्लूएंजा वैक्सीन काफी असरदार साबित हो रहा है. यह बात एक शोध में सामने आई...

channel india1 hour ago

लैंसेट की स्टडी में दावा- कोरोना से ठीक होने के बाद मरीजों में 2 हफ्तों तक हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा तीन गुना ज्यादा

देशभर में कोरोना का लहर जारी है. अभी भारत में संभावित तिसरी लहर के आने की चेतावनी भी जारी की...

BREAKING1 hour ago

इन सरकारी और प्राइवेट स्कूलों के प्रिंसिपलों को मिला नोटिस, जानिए क्या है वजह…

उत्तराखंड सरकार प्रदेश के स्कूलों में क्वालिटी एजुकेशन और अनुशासन के भले ही लाख दावे करे लेकिन टीचरों का रवैया...

Advertisement
Advertisement