समलैंगिक विवाह की अनुमित को लेके भारत में बहस शुरू,इन 29 देशों में है विवाह की मंजूरी, – Channelindia News
Connect with us

Special News

समलैंगिक विवाह की अनुमित को लेके भारत में बहस शुरू,इन 29 देशों में है विवाह की मंजूरी,

Published

on


भारत में समलैंगिक विवाह को मान्यता देने के लिए एक बार फिर चर्चा चल पड़ी है. समलैंगिक विवाह को सेम सेक्स मैरिज भी कहते हैं जिसमें एक जेंडर वाले दो लोग आपस में शादी करते हैं, जैसे दो लड़कियां और दो लड़के आपस में शादी करेंगे तो इसे समलैंगिक विवाह कहा जाएगा. भारत में अभी समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता नहीं मिली है.इस साल कोस्टा रिका में समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता मिल जाने के बाद अब दुनिया में 29 देशों में समलैंगिक विवाह की अनुमति है. समलैंगिक विवाह को अनुमति देने वाला पहला देश नीदरलैंड है जहां साल 2000 में इसे मान्यता दी गई थी. समलैंगिक विवाह को मंजूरी देने वाले अधितकर यूरोपीय और दक्षिण अमेरिकी देश हैं.

इसे भी पढ़े   पाठ्य पुस्तक निगम के नवनियुक्त अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी ने सादगी से किया पदभार ग्रहण

अगर एशियाई महाद्वीप के बार में बात करें तो सिर्फ ताइवान में समलैंगिक विवाह को मंजूरी मिली है. इस देश में 2019 में कानून बनाकर समलैंगिक जोड़ों को शादी करने की इजाजत दी थी. पिछले एक दशक में एलजीबीटी समुदाय के अधिकारों को लेकर कई देशों ने अपने यहां कानून में बदलाव किया है. आयरलैंड में तो 2015 में हुए ऐतिहासिक मतदान में 62 फीसद लोगों ने समलैंगिक शादियों को मान्यता देने के लिए संविधान में संशोधन के पक्ष में मतदान किया था.

इसे भी पढ़े   छत्तीसगढ़ ब्रेकिंग : संबित पात्रा को हाईकोर्ट से राहत बरकरार, गांधी परिवार के खिलाफ टिप्पणी करने का लगा था आरोप

नीदरलैंड (2000), बेल्जियम (2003), कनाडा (2005), स्पेन (2005), साउथ अफ्रीका (2006), नार्वे (2008), स्वीडन (2009), अर्जेंटीना (2010), पुर्तगाल (2010),आइसलैंड (2010), डेनमार्क (2012), उरुग्वे (2013), ब्राजील (2012), न्यूजीलैंड (2013), इंग्लैंड और वेल्स (2013), फ्रांस (2013), लक्जमबर्ग (2014), स्कॉटलैंड (2014), अमेरिका-2015, आयरलैंड-2015, फिनलैंड-2015, ग्रीनलैंड-2015, कोलंबिया-2016, माल्टा-2017, ऑस्ट्रेलिया-2017, जर्मनी-2017, ऑस्ट्रिया-2019
ताइवान-2019, इक्वाडोर-2019, नार्दन आयरलैंड-2019, कोस्टारिका-2020

भारत में समलैंगिक संबंध अपराध के दायरे से बाहर

दो साल पहले तक भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) में समलैंगिकता को अपराध माना गया था. आईपीसी की धारा 377 के मुताबिक, जो कोई भी किसी पुरुष, महिला या पशु के साथ अप्राकृतिक संबंध बनाता है तो इस अपराध के लिए उसे 10 वर्ष की सजा या आजीवन कारावास का प्रावधान रखा गया था. 6 सितंबर 2018 को सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ऐतिहातिक फैसले में समलैंगिकता को अपराध मानने से तो इनकार कर दिया. सर्वोच्च अदालत ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटा दिया. फैसले के अनुसार आपसी सहमति से दो वयस्कों के बीच बनाए गए समलैंगिक संबंधों को अपराध नहीं माना जाएगा.

इसे भी पढ़े   हाथरस गैंगरेप मामले में आज हाईकोर्ट में सुनवाई, परिवार और गवाहों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING13 hours ago

रायपुर ब्रेकिंग: जुआरियो पर पुलिस की रेड…9 जुआरी गिरफ्तार,72 हज़ार रुपए जब्त

रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी रायपुर के खमतराई थाना क्षेत्र में त्यौहार के दिन जुआ खेलने का रंग जमा हुआ था। जिसकी...

BREAKING19 hours ago

Bihar Assembly Election: तेजस्वी की सभा में बेकाबू भीड़, पुलिस ने जमकर ला​ठियां बरसाई, मची अफरा-तफरी

पटना(चैनल इंडिया)। बिहार में विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो गई है। पार्टी के सभी नेता चुनाव की सारी...

channel india19 hours ago

संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज के प्रयास से डीपाडीह में खोला गया पुलिस सहायता केंद्र, सतीश सहारे बनाये गए डीपाडीह के पहले प्रभारी

धीरेन्द्र कुमार द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर(चैनल इंडिया)। जिले के डीपाडीह में आज पुलिस सहायता केंद्र का उद्घाटन किया गया सरगुजा...

Accused of raping a girl who was raped, arrested.channelindia.news Accused of raping a girl who was raped, arrested.channelindia.news
balrampur19 hours ago

फूल तोडऩे गई बच्ची के साथ दुष्कर्म करने वाला आरोपी गिरफ्तार, 4दिनों से फरार था आरोपी

बलरामपुर(चैनल इंडिया)। जिले के बरियों चौकी क्षेत्र अंतर्गत एक गांव में 18 अक्टूबर की शाम नाबालिग फूल तोडऩे गई थी।...

channel india19 hours ago

Bihar Assembly Election : नीतीश कुमार का चुनावी विज्ञापन से चेहरा गायब, सिर्फ PM Modi की तस्वीर, क्या हैं मायने?

पटना(चैनल इंडिया)। बिहार विधान सभा चुनावों  के पहले चरण के चुनाव में अब तीन दिन बचे हैं. इस बीच राज्य...

खबरे अब तक

Advertisement