खबरे अब तक

channel indiaCHANNEL INDIA NEWSखबरे छत्तीसगढ़

करोड़ों की शक़्कर घोटाले,कड़ी जांच की तैयारी



शक़्कर कारख़ाना भ्रष्टाचार के कारण हमेशा चर्चाओं में रहा है,संचालक मंडल के चुनाव से पहले हर साल 5 करोड़ से ज्यादा के घोटाले की आशंका व्यक्त की जाती रही है,कोई न कोई विवाद भी सामने आता रहा है।बिना टेंडर निर्माण व खरीदी,कागजों में खरीदी,मशीन सप्लायर को गलत तरीके से भुगतान,ट्रांसपोर्टिंग में घपला,फर्जी अनुभव प्रमाणपत्रों के मामले,कर्मचारियों की भर्ती में अनियमितता, बिना टेंडर व आबकारी विभाग की एनओसी के बिना मोलाशीष की विक्री,शक़्कर चोरी सहित कई मामले है जिनमें जमकर भ्रष्टाचार किया गया था।कई लोगों के विरुद्ध वसूली के प्रकरण हैं जिन्हें दबाकर कर रखा गया है।कहा जा रहा है कि कई मामलों की अंदरूनी जांच भी चल रही है तथा धीरे धीरे सभी घोटाले सामने लाये जाएंगे व नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।

हुए हैं कई घोटाले,सभी पर होगी कार्यवाही-कुमार सिंह देव

करोड़ों की शक़्कर गायब होने के मामले में सुगर मिल एसोसिएशन के सदस्य कुमार सिंह देव ने कहा कि हमारी सक्रियता से बड़ा घोटाला सामने आया है।ऐसा केवल एक मामला नहीं है बल्कि संचालक मंडल के चुनाव से पहले भ्रष्टाचार का बोलबाला था और दस सालों में करोड़ों के घोटाले हुए हैं।सभी मामलों की जांच कराने की तैयारी है,कई मामलों में जांच हो भी रही है,जो जो दोषी सामने आएगा,सभी के विरुद्ध कार्यवाही होगी।इस मामले में भी कई बड़े नाम सामने आने की संभावना है,आरोपी कोई भी होगा,बक्शा नहीं जाएगा क्योंकि यह कारखाना और किसानों के हित का सवाल है।

इसे भी पढ़े   बेटी की इज्जत के लिए लड़ना पिता के लिए बन गया गुनाह,आरोपियों ने गोलियों से कर दी पिता की छाती छलनी

 

कारख़ाना और किसानों का हित, हमारी जवाबदारी-विद्यासागर

 

कारख़ाना के अध्यक्ष विद्यासागर सिंह ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता व जवाबदारी कारख़ाना व किसानों का हित है और इनके हितों के सामने कोई समझौता नहीं हो सकता है।जैसे ही हमारे सामने शक़्कर गायब होने की बात आई,हमने जांच टीम बना दी थी और बड़ा घोटाला सामने आया भी,यह हमारी उस सोच का परिणाम भी कहा जा सकता है जो कारख़ाना व किसानों के लिए है।हम यहां लगातार बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं,इनका असर दिखा भी है और भविष्य में कई बड़े काम दिखेंगे जिनसे किसानों व कारख़ाना का भला होगा।

इसे भी पढ़े   Ajmer : एक्ट्रेस और तृणमूल सांसद नुसरत जहां ने पहुंची ख्वाजा साहब की दरगाह , बोली- बचपन से लगा रही हूं हाजिरी

संचालक मंडल की सक्रियता का परिणाम-जितेंद्र दुबे

कारखाना के उपाध्यक्ष जितेंद्र दुबे ने कहा कि निर्वाचित संचालक मंडल की सक्रियता का ही परिणाम है कि आज कारखाना में कई वर्षों से पदस्थ अधिकारी व कर्मचारी द्वारा पिछले कई वर्षों में की गई गड़बड़ी उजागर हो रही है। गोदाम में गड़बड़ी होने की जानकारी मिलने के बाद संचालक मंडल ने इस पर तत्काल कदम उठाया, नहीं तो दोषियों को सुरक्षित करने के प्रयास में मामले को टाला भी जा सकता था।गड़बड़ी की संभावना को देखते हुए भी संचालक मंडल ने पेराई सत्र के बीच में ही पुराने चीफ केमिस्ट को हटाते हुए बालोद शक्कर कारख़ाना के चीफ केमिस्ट को यहां नियुक्त कराया था, जिससे अफरातफरी की स्थिति स्पष्ट हो सके, और इससे कई मामले स्पष्ट भी हुए।फिलहाल मामले को उच्चाधिकारियों के संज्ञान में ला दिया गया है।

इसे भी पढ़े   C.G.मौसम अलर्ट – तेज गरज चमक के साथ भारी बारिश की संभावना मौसम विभाग ने जारी किया एलर्ट

निर्धारित पंजी,नियमों की अनदेखी से मंशा संदिग्ध- एमडी

कारखाना के प्रबंध संचालक ने कहा कि गठित जांच दल ने गोदामों के भौतिक सत्यापन में 8434 क्विंटल शक्कर कम मिलने का प्रतिवेदन दिया है। जिसके लिए न्यायालय उपपंजीयक सूरजपुर को पत्र प्रेषित कर अग्रिम कार्रवाई की मांग की गई। पूरे मामले में गोदामों में शक्कर के भंडारण में अनियमितता के साथ नियमानुसार निर्धारित पंजी का संधारण नहीं किये जाने का भी प्रतिवेदन प्राप्त हुआ है। इसमें रिप्रोसेसिंग के लिए गोदाम से शक्कर उठाव भी निर्धारित नियम व प्रामाणिक पंजी से नहीं किया गया है, जो घोर अनियमितता है। पूरे मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है, आगे जैसा निर्देश होगा उसके अनुरूप कार्य किया जाएगा।