कोरोना का काल जल्द होगा ख़त्म , वापस पटरी पर लौटने लगी है जिंदगी – Channelindia News
Connect with us

corona covid 19 news

कोरोना का काल जल्द होगा ख़त्म , वापस पटरी पर लौटने लगी है जिंदगी

Published

on


नई दिल्‍ली,भले ही भारत समेत दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही हो, लेकिन लोगों की उम्मीद मजबूत हुई है कि अब यह महामारी ज्यादा दिनों की मेहमान नहीं है। सरकार की तरफ से अनलॉक-4 की घोषणा के बाद ज्यादातर दफ्तर, संस्थान व प्रतिष्ठान खुल गए हैं और वहां उपस्थिति भी बढ़ी है। पांच महीने पहले कोरोना के कारण गांव-घर का रुख करने वाले वाले प्रवासी कामगार अब काम पर लौटने लगे हैं। लोगों की मांग बढ़ने के कारण अतिरिक्त ट्रेनों का संचालन करना पड़ रहा है। पेट्रोल व डीजल की खपत में वृद्धि हुई है और अर्थव्यवस्था भी रफ्तार पकड़ने लगी है। यूं कहें कि जिंंदगी अब पटरी पर लौटने लगी है।

देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद प्रवासी कामगारों ने अपने गांव-घर का रुख कर लिया था। उद्योग-धंधों में कामकाज की शुरुआत के साथ ही प्रवासी कामगार लौटने लगे हैं। आलम यह है कि भुवनेश्वर-अहमदाबाद साप्ताहिक ट्रेन में 23 सितंबर तक कोई जगह नहीं है। विशाखापत्तनम से कोरबा, गुवाहाटी, बेंगलुरु, हावड़ा व तिरुचिरापल्ली जाने वालों की भीड़ को देखते हुए विशेष ट्रेन चलाई गई। बिहार व उत्तर प्रदेश से दिल्ली, मुंबई, गुजरात व अन्य औद्योगिक शहरों के लिए चलाई जाने वाली ट्रेनें फुल जा रही हैं।

इसे भी पढ़े   BREAKING:राजधानी में पकड़ी गयी साढ़े 12 करोड़ की टैक्स चोरी, कारोबारी शुभम सिंघल गिरफ्तार

देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद प्रवासी कामगारों ने अपने गांव-घर का रुख कर लिया था। उद्योग-धंधों में कामकाज की शुरुआत के साथ ही प्रवासी कामगार लौटने लगे हैं। आलम यह है कि भुवनेश्वर-अहमदाबाद साप्ताहिक ट्रेन में 23 सितंबर तक कोई जगह नहीं है। विशाखापत्तनम से कोरबा, गुवाहाटी, बेंगलुरु, हावड़ा व तिरुचिरापल्ली जाने वालों की भीड़ को देखते हुए विशेष ट्रेन चलाई गई। बिहार व उत्तर प्रदेश से दिल्ली, मुंबई, गुजरात व अन्य औद्योगिक शहरों के लिए चलाई जाने वाली ट्रेनें फुल जा रही हैं।

यात्रियों की सुविधा के लिए रेलवे फिलहाल 310 स्पेशल ट्रेनों का संचालन कर रहा है। ट्रेनों में बढ़ रही भीड़ व यात्रियों की मांग को देखते हुए रेलवे ने आज यानी 21 सितंबर से 40 स्पेशल ट्रेनों के संचालन की घोषणा की है। खास बात यह है कि इनमें से 24 ट्रेनें बिहार से रवाना होकर दिल्ली, अहमदाबाद, सूरत, बेंगलुरु, सिकंदराबाद व अमृतसर जाएंगी, जबकि एक जोड़ी ट्रेनें वाराणसी व बलिया से रवाना होंगी।

सितंबर के पहले पखवाड़े में अर्थव्यवस्था ने रफ्तार पकड़नी शुरू कर दी है। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अनुसार इस वर्ष सितंबर के शुरुआती सात दिनों (1-7) में 6.12 अरब डॉलर मूल्य का निर्यात किया गया, जो पिछले वर्ष समान अवधि के मुकाबले 13.35 फीसद अधिक है। 8-14 सितंबर के दौरान 6.88 अरब डॉलर का निर्यात हुआ। यह पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 10.73 फीसद ज्यादा है।

इसे भी पढ़े   24वी सिंधु दर्शन यात्रा के लिए जत्था होगा रवाना,LAC पर तनातनी के बीच सीमा पर तैनात जवानों का होगा सम्मान

सरकारी कंपनी पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉरपोरेशन लिमिटेड (पोस्को) के अनुसार सितंबर के पहले पखवाड़े में बिजली उत्पादन पिछले वर्ष की उसी अवधि के सापेक्ष 1.6 फीसद बढ़ा है। दो प्रमुख औद्योगिक राज्यों गुजरात और महाराष्ट्र में सितंबर के पहले पखवाड़े के बिजली की खपत में पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले क्रमश: 6.2 व 4.3 की वृद्धि हुई है।

सितंबर के पहले पखवाड़े में पेट्रोल, डीजल, विमान ईंधन व एलपीजी की खपत में ठीकठाक इजाफा हुआ है। चालू माह में 965 हजार टन से ज्यादा पेट्रोल की खपत हो चुकी है, जबकि गत वर्ष सितंबर में 945 हजार टन की खपत हुई थी। अगस्त के मुकाबले सितंबर के पहले पखवाड़े में ही पेट्रोल की खपत 7.1 फीसद ज्यादा हो चुकी है। 15 सितंबर तक 2125 हजार टन डीजल की खपत हो चुकी है, जबकि पिछले साल इसी माह में 2255.7 हजार टन की खपत हुई थी। हालांकि, इसी साल अगस्त के मुकाबले चालू माह में 19 फीसद ज्यादा डीजल की खपत हो चुकी है। विमान ईंधन की बात करें तो चालू माह में 124.4 हजार टन की बिक्री हुई है, जबकि पिछले साल सितंबर में 307.8 हजार टन की खपत हुई थी। हालांकि, अगस्त के मुकाबले चालू माह में विमान ईंधन की खपत 15.2 फीसद ज्यादा हो चुकी है। लिक्विड पेट्रोलियम गैस (एलपीजी) की खपत पिछले साल सितंबर में 1005.6 हजार टन थी, जिसके मुकाबले चालू माह के पहले पखवाड़े में 1132.7 टन की बिक्री हो चुकी है।

इसे भी पढ़े   Bihar Election : ओवैसी की एंट्री, एआईएमआईएम और एसजेडीडी के बीच गठबंधन... आरजेडी के लिए खतरे की घंटी

विशाल और घनी आबादी वाला देश भारत कोविड-19 से मजबूती से मुकाबला कर रहा है। देश में संक्रमण की दर रूस, अमेरिका और स्पेन के बाद सबसे कम है। प्रति सौ लोगों का टेस्ट कराने पर भारत में सिर्फ 8.50 लोग ही संक्रमित पाए जाते हैं। वहीं रूस में यह दर 2.58, स्पेन में 6.12 और अमेरिका में 7.19 है। दूसरी ओर भारत में रिकवरी रेट 79 से अधिक हो चुकी है। प्रति दस लाख पर मौतें भारत मेंं सबसे कम हैं।

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india8 hours ago

मात्र 6 महीने में बूढ़ा तलाब का फर्स्ट फेज बनकर पूरी तरह तैयार,कल मुख्यमंत्री करेंगे लोकार्पण…

रायपुर(चैनल इंडिया)। बूढ़ा तालाब सौंदर्यीकरण को लेकर महापौर ने प्रेस वार्ता ली। प्रेस वार्ता में नगर निगम सभापति प्रमोद दुबे...

ambikapur8 hours ago

राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर रक्षित केंद्र बलरामपुर में परेड आयोजित की गई, जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा उपस्थित अधिकारी,कर्मचारियों को दिलाई गई शपथ

शैलेंद्र कुमार द्विवेदी की रिपोर्ट बलरामपुर(चैनल इंडिया)। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की याद में उनके जन्मदिन के अवसर...

ambikapur9 hours ago

कलेक्टर ने किया संभागस्तरीय वर्मी कम्पोस्ट प्रयोगशाला का शुभांरभ, संभाग के सभी जिलों में निर्मित वर्मी कम्पोस्ट के परीक्षण में आएगी तेजी

अम्बिकापुर(चैनल इंडिया)। कलेक्टर संजीव कुमार झा ने आज यहां अम्बिकापुर के गंगापुर में कृषि विभाग द्वारा स्थापित संभागस्तरीय वर्मी कम्पोस्ट...

ambikapur9 hours ago

खाद्य आयोग अध्यक्ष ने किया पीडीएस दुकानों तथा रेडी टू ईट निर्माण इकाइयों का निरीक्षण, भौतिक सत्यापन में अधिक खाद्यन्न होने पर कार्रवाई के निर्देश

अम्बिकापुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ खाद्य आयोग के अध्यक्ष गुरप्रीत सिंह बाबरा ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम तथा छत्तीसगढ़ खाद्य एवं पोषण...

channel india10 hours ago

Market live : कमजोर ग्लोबल संकेत बाजार पर पड़े भारी, Sensex 135 अंक टूटा Nifty 11650 के नीचे बंद

IndusInd Bank Q2| तिमाही में  IndusInd Bank का मुनाफा पिछले साल के दूसरी तिमाही में 1,401 करोड़ रुपए से घटकर...

खबरे अब तक

Advertisement