Corona vaccine: अमेरिका जल्द दे सकता है खुशखबरी, 30,000 लोगों पर ट्रायल दी अनुमति…. – Channelindia News
Connect with us

amerika

Corona vaccine: अमेरिका जल्द दे सकता है खुशखबरी, 30,000 लोगों पर ट्रायल दी अनुमति….

Published

on


कोरोना वायरस वैक्सीन पर अमेरिका के लोगों को जल्द अच्छी खबर सुनने को मिल सकती है. फाइजर इंक (Pfizer) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अल्बर्ट बोरला का कहना है कि ये साल खत्म होने से पहले अमेरिका के लोगों तक  Covid-19 वैक्सीन पहुंचने की पूरी संभावना है. बोरला का कहना है कि कंपनी इसके लिए पूरी तरह तैयार है.
बोरला का कहना है कि वो इस बात को लेकर पूरी तरह आश्वस्त हैं कि ये वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और यूएस रेगुलेटर्स और फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन की तरफ से मंजूरी मिलते ही इसे लोगों को देना शुरू कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि  2021 से पहले अमेरिका के सभी लोगों को ये वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगी
फाइजर इंक ये वैक्सीन बायोएनटेक के साथ मिलकर बना रहा है. बोरला ने कहा, ‘मैं यह नहीं कह सकता कि FDA का क्या रुख होगा लेकिन मुझे लगता है कि हमें इसकी मंजूरी मिल जाएगी और हम इसकी पूरी तैयारी कर रहे हैं.’
बोरला ने कहा, ‘अगर ये काम करती है तो लोगों को जल्द उपलब्ध कराई जाएगी.’ उन्होंने कहा कि इसके क्लिनिकल ट्रायल के नतीजे कब तक आएंगे, ये इस बात पर निर्भर करता है कि हमें स्टडी के लिए पर्याप्त लोग कब तक मिल पाते हैं. स्टडी के सकारात्मक नतीजों से हमें वैक्सीन की मंजूरी जल्दी मिल जाएगी.
न्यूयॉर्क स्थित फाइजर और जर्मनी के बायोएनटेक को मॉर्डना इंक और एस्ट्राजेनेका के साथ-साथ वैक्सीन की दौड़ में आगे देखा जा रहा है. बोरला ने कहा कि फाइजर और उसकी सहयोगी कंपनी को 60 फीसदी उम्मीद है कि वो अपनी प्रायोगिक वैक्सीन की क्षमता के बारे में अक्टूबर तक पता लगा लेगी
कंपनी ने एक बयान में कहा कि वो इसी हफ्ते वैक्सीन के अंतिम चरण के क्लिनिकल ट्रायल के लिए  30,000 मरीजों का नामांकन करेगी. इसके अलावा युवाओं समेत 44,000 और लोगों को शामिल करने का लक्ष्य रखा गया है जिसमें एचआईवी, हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी के मरीज भी होंगे.
बोरला ने कहा कि वे अफ्रीकी-अमेरिकियों सहित अलग-अलग रंग के ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपने लेट स्टेज ट्रायल में शामिल करने की कोशिश करेंगे. फिलहाल अभी 60 फीसदी श्वेत और 40 फीसदी अश्वेत लोगों पर स्टडी की जा रही है, जिसमें 44 फीसदी लोग बुजुर्ग हैं.
बोरला का कहना है कि फाइजर ने अपनी Covid-19 वैक्सीन के रिसर्च में कर दाताओं के पैसे का किसी भी तरह इस्तेमाल नहीं किया है. इसका मकसद यही है कि इसे सरकार और नौकरशाह के प्रभाव से बचाया जा सके. उन्होंने कहा, ‘मैं  फाइजर को राजनीति से दूर रखना चाहता हूं.’

इसे भी पढ़े   प्रयास विद्यालय में प्रवेश हेतु परीक्षा अब 24 जून को एवं एकलव्य में प्रवेश हेतु परीक्षा 26 जून को

 

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india35 mins ago

सुकमा : सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में 8 नक्सलियों को लगी गोली, एसपी ने किया दावा

सुकमा(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के दुलेड इलाके में हुई सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में सुकमा एसपी...

channel india1 hour ago

रायपुर रेलवे मंडल में सतर्कता जागरूकता वेबिनार का आयोजन, सतर्कता जागरूकता सप्ताह में रेलवे नियमानुसार सतर्कता के साथ रेल राजस्व को समृद्ध बनाने पर चर्चा

रायपुर(चैनल इंडिया)। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे रायपुर मंड़ल में रेलवे के प्रतिदिन के कार्यकलापों में पारदर्शिता को बरकरार रखने एवं...

channel india2 hours ago

उत्तराखंड के सीएम को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत, अदालत ने CBI जांच पर लगाई रोक

नई दिल्ली | उत्तराखंड के सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत को आज सुप्रीम कोर्ट से राहत मिली है। सुप्रीम कोर्ट ने...

channel india2 hours ago

भारत का सबसे तेज़ मोबाइल नेटवर्क बना Vi, Airtel दूसरे नंबर, तीसरे पर Jio

चैनल इंडिया। भारतीय लीडिंग टेलीकॉम VI (Vodafone Idea) भारत का सबसे तेज़ नेटवर्क बन कर उभरा है. 2020 के तीसरी...

channel india2 hours ago

शादी थी नेहा कक्कड़ की और उर्वशी रौतेला ने पहन लिया 55 लाख का लहंगा…..अब हो रहा उर्वसी के ड्रेस की कीमत खूब वायरल…शादी में हुई थी शरीक

मुंबई । नेहा कक्कड़ और रोहनप्रीत की शादी में बॉलीवुड अभिनेत्री उर्वशी रौतेला शरीक हुई थीं। इस खास मौके पर...

खबरे अब तक

Advertisement