कोरोना 'वरदान': देश के धन कुबेरों की संपत्ति हुई दोगुनी, 10 रईसों के पास इतना पैसा कि सभी बच्चों को 25 साल तक मिल जाएगी शिक्षा - Channelindia News
Connect with us

BREAKING

कोरोना ‘वरदान’: देश के धन कुबेरों की संपत्ति हुई दोगुनी, 10 रईसों के पास इतना पैसा कि सभी बच्चों को 25 साल तक मिल जाएगी शिक्षा

Published

on

कोरोना महामारी देश के 84 फीसदी परिवारों के लिए मुसीबत बनकर आई तो धन कुबेरों के लिए वरदान। महामारी के दौरान देश के अरबपतियों की साझा संपत्ति जहां दोगुने से ज्यादा हो गई वहीं उनकी संख्या 39 फीसदी बढ़कर 102 से 142 हो गई। देश के 10 सबसे धनी लोगों की बात करें तो उनके पास इतना पैसा है कि ये देश के बच्चों की स्कूली व उच्च शिक्षा का 25 साल तक खर्चा उठा सकते हैं।

कोरोना महामारी के कारण पिछले एक साल में देश में 84 फीसदी परिवारों को जीवन और आजीविका की क्षति के कारण अपनी आय में गिरावट का सामना करना पड़ा। देश के 98 सर्वाधिक अमीर भारतीयों के पास करीब 49.27 लाख करोड़ की संपत्ति है। यह निचले तबके के 55.5 करोड़ लोगों की कुल संपत्ति के बराबर है।

गैर सरकारी संगठन ऑक्सफैम इंडिया की रिपोर्ट ‘इनइक्वेलिटी किल्स’ में यह दावा किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के 100 सबसे अमीर लोगों की सामूहिक संपत्ति वर्ष 2021 में 57.3 लाख करोड़ के उच्च स्तर पर पहुंच गई। स्विट्जरलैंड के दावोस में वर्ल्ड इकॉनामिक फोरम की आनलाइन एजेंडा समिट के पहले दिन ऑक्सफैम ने यह रिपोर्ट जारी की है। देश के 142 अरबपतियों के पास सामूहिक रूप से 719 अरब डॉलर (53 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा) की संपत्ति है।

98 अरबपतियों पर एक फीसदी अतिरिक्त वेल्थ टैक्स से निकल जाए आयुष्मान भारत का खर्च
सर्वे रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के 98 अरबपतियों पर यदि वेल्थ टैक्स एक फीसदी बढ़ा दिया जाए तो विश्व की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना का सात साल से ज्यादा समय तक खर्च निकल जाए। जबकि 10 सबसे धनी लोगों पर एक फीसदी अतिरिक्त टैक्स लगाया जाए तो 17.7 लाख अतिरिक्त ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराए जा सकते हैं। महामारी की दूसरी लहर के दौरान जहां देश में ऑक्सीजन सिलेंडरों की भारी मारामारी मची थी, वहीं आयुष्मान भारत योजना से गरीबों का निशुल्क इलाज किया गया था।

असमानता की कड़वी सचाई उजागर करती रिपोर्ट
ऑक्सफैम के सीईओ अमिताभ बेहर ने कहा कि यह रिपोर्ट असमानता की कड़वी सचाई की ओर इशारा करती है। यह असमानता प्रत्येक दिन 21,000 लोग या हर चार सेकंड में एक व्यक्ति को मृत्यु की ओर धकेल देती है।

महिलाओं की कमाई पर बुरा असर
रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना महामारी ने लैंगिक समानता को 99 साल से 135 साल पीछे धकेल दिया। महिलाओं की सामूहिक कमाई में वर्ष 2020 में 59.11 लाख करोड़ का नुकसान हुआ। अब 2019 की तुलना में 1.3 करोड़ कम महिलाएं कार्यरत हैं।

4.6 करोड़ से अधिक भारतीय अत्यधिक गरीब हुए
रिपोर्ट के अनुसार 4.6 करोड़ से अधिक भारतीय 2020 में अत्यधिक गरीब हो गए। यह संख्या संयुक्त राष्ट्र के अनुसार विश्व स्तर पर नए गरीबों के आंकड़े की लगभग आधी है। भारत में गरीब एवं वंचितों की तुलना में अमीरों को बढ़ावा देने वाली अर्थव्यवस्था के भयावह आर्थिक दुष्परिणाम सामने आए हैं।

Advertisement
RO No.- 11641/7

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

खबरे छत्तीसगढ़23 mins ago

पुर्व प्रधानमंत्री स्व.राजीव गांधी की कांग्रेसियों ने मनाई पुण्यतिथि

  गरियाबंद । भारत के पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की पुण्य तिथि जिला कांग्रेस भवन पर कांग्रेसियों ने मनाया...

खबरे छत्तीसगढ़33 mins ago

शिक्षा विभाग में पति के जगह पत्नी कर रही काम, शासन प्रशासन का यह कैसा काम

  डौंडी- सुनने में और विभागीय तौर पर यह बात खुलकर सामने आने लगी है कि किसी शासकीय कर्मचारी का...

खबरे छत्तीसगढ़47 mins ago

ब्रेकिंग: कारोबारी से 50 लाख लूटने वाले आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। राजधानी के माना थाना क्षेत्र के देवपुरी में हुई 50 लाख की लूट मामले को पुलिस ने सुलझा लिया...

खबरे छत्तीसगढ़2 hours ago

छत्तीसगढ़ के किसानों, कृषि मजदूरों, पशुपालकों और महिला समूहों को आज 1804.50 करोड़ रूपए की मिली सौगात

रायपुर। पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर आज छत्तीसगढ़ राज्य के किसानों, भूमिहीन कृषि मजदूरों,...

खबरे छत्तीसगढ़2 hours ago

सीएम भूपेश बघेल ने किया हितग्राहियों के खातों में पैसा ट्रांसफर

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर प्रदेश के किसानों, कृषि भूमिहीन मजदूरों,...

Advertisement