खबरे अब तक

channel indiaCHANNEL INDIA NEWSखबरे छत्तीसगढ़

कलेक्टर ने जिला बाल संरक्षण समिति की समीक्षा बैठक ली



जशपुरनगर| कलेक्टर महादेव कावरे की अध्यक्षता में जिला बाल संरक्षण समिति की त्रैमासिक समीक्षा बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित हुई। इस अवसर पर वनमण्डलाधिकारी कृष्ण जाधव, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत जशपुर के.एस.मण्डावी, मुख्य जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी पी. सुथार, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास अजय शर्मा, महिला बाल विकास अधिकारी बिसमिता पाटले, जिला बाल संरक्षण अधिकारी चद्रशेखर यादव सहित संबंधित विभागों के अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

बैठक में बाल संरक्षण समिति, बाल एवं बालिका संरक्षण गृह, संप्रेक्षण गृह, सखी वन स्टाॅप सेंटर तथा नवा बिहान(घरेलू हिंसा) के प्रकरणों एवं गतिविधियों की अद्यतन स्थिति की गहन समीक्षा की गई। कलेक्टर कावरे ने बालक एवं बालिका संरक्षण गृह, तथा नवा बिहान के अधिकारियों को बच्चों एवं महिलाओं के मामलों को संवेदनशीलता के साथ निराकृत करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि संरक्षण योग्य बच्चों एवं महिलाओं को आवश्यक सहायता एवं सुरक्षा देकर उन्हें राहत पहुंचाना हम सबका दायित्व है।

कलेक्टर ने बाल गृह बालक-बालिका, सम्प्रेषण गृह, खुला आश्रय गृह, दत्तक ग्रहण एजेंसी सहित अन्य संस्थाओं में संरक्षित बच्चों का विशेष देख-रेख करने एवं  इन संस्थाओं का संचालन बेहतर तरीके से करने के निर्देष दिए। उन्होंने सभी संस्थाओं में साफ-सफाई एवं स्वच्छता पर विशेष ध्यान रखने के साथ ही सभी संस्थाओं में रहने वाले बच्चों का नियमित माॅनिटरिंग, सभी का कोविड-19 टेस्ट कराने की बात कही। सभी संरक्षित बच्चों का आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए आवश्यक निर्देष दिए। कलेक्टर ने बाल देखरेख संस्थाओं में निवास करने वाले शाला त्यागी बच्चों को पुनः शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देशित किया। छात्र-छात्राओं को गुड टच बेड टच की जानकारी प्रदान करने के लिए कहा। किशोर न्याय अधिनियम की जानकारी से बच्चों को अवगत कराना।

इसे भी पढ़े   यह है 2021 में दुनिया का सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट, जानें लिस्ट में भारत का स्थान

कलेक्टर ने ग्रामीण क्षेत्रों में जनजागृति लाने के उद्देश्य से सभी पंचायतों में पंचायत स्तर पर बाल संरक्षण समिति का गठन किया जाने के निर्देष दिए। उन्होंने कहा कि इस समिति में पंचायत प्रतिनिधि सदस्य होगे। यह समिति अपने-अपने क्षेत्रों में बाल संरक्षण के साथ ही बाल मजदूरी, अशिक्षा , बाल विवाह एवं मानव तस्करी के प्रति लोगों में जागरूकता लाने एवं पंचायत स्तर  पर बाल पलायन पंजी का नियमित संधारण करेगंे।

इसे भी पढ़े   BREAKING : धान खरीदी पर मंत्रिमंडल उपसमिति का… सामने आया बड़ा फैसला… 1 दिसंबर से शुरू होगी धान खरीदी

कलेक्टर ने जिले में संचालित चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर 1098 को शीघ्र चालू कराये जाने एवं थानों एवं चौकियों सहित अन्य स्थानों में प्रदर्शित करने के निर्देश दिये गये। उन्होंने बाल भिक्षावृत्ति की रोकथाम हेतु आवश्यक प्रयास करने की बात कही। बैठक में सखी वन स्टाप सेंटर के प्रमुख एजेडों पर बिन्दुवार चर्चा की गई। जिसके अंतर्गत सखी वन स्टाॅप सेंटरों में प्राप्त प्रकरणो की जानकारी लेते हुए लंबित प्रकरणों को यथाशीघ्र निराकृत करने के निर्देष दिए। महिलाओं को आवश्यक विधिक सहायता उपलब्ध कराने की बात कही। कलेक्टर ने जिले के किसी भी स्थान पर मानसिक व विक्षिप्त महिलाओं के पाए जाने पर उन्हें सखी वन स्टाप सेंटर पहुंचाने के लिए संबंधित थाना या चैकी को पूर्ण सहयोग प्रदान करने के निर्देष दिए।

इसे भी पढ़े   शर्मशार: नवजात शिशु का नहर किनारे अटका मिला लाश