CM केजरीवाल बोले- किसानों की कुर्बानी नहीं भूलेगा देश, सही नीयत और शांतिपूर्ण संघर्ष से हर सरकार झुकती है – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

CM केजरीवाल बोले- किसानों की कुर्बानी नहीं भूलेगा देश, सही नीयत और शांतिपूर्ण संघर्ष से हर सरकार झुकती है

Published

on

मोदी सरकार  ने किसान आंदोलन के सामने झुकते हुए तीनों नए कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भी किसानों को इस जीत पर बधाई दी और कहा कि इस लड़ाई से देश के युवाओं को काफी कुछ सीखने के लिए मिलेगा. इस आंदोलन से सीख मिलती है कि कैसे सही नीयत से शांतिपूर्ण आंदोलन किया जाए तो किसी भी सरकार को झुकाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि आज का दिन भारत के इतिहास में 15 अगस्त 26 जनवरी की तरह लिखा जाएगा.

केजरीवाल ने आगे कहा
– आज केंद्र सरकार को किसानों के संघर्ष के आगे झुकना पड़ा और तीनों काले कानून वापस लेने पड़े. आज सिर्फ किसानों की जीत नहीं हुई है आज जनतंत्र की जीत भी हुई है. आज किसानों ने सभी सरकारों को बता दिया कि जनतंत्र में सरकारों को हमेशा जनता की बात सुननी पड़ती है. कोई भी पार्टी हो कोई भी नेता हो जनता के सामने आपका अहंकार नहीं चलेगा. इस लड़ाई ने पूरे देश को एक कर दिया था. इस लड़ाई में सब ने हिस्सा लिया और पूरा देश किसानों के साथ खड़ा था. धर्म जाति से ऊपर उठकर जिन्होंने सड़क पर तीनों काले कानूनों के खिलाफ लड़ाई लड़ी आखिर में केंद्र सरकार को उनके आगे झुकना पड़ा.
धूप-बरसात में भी डटे रहे किसान’
केजरीवाल ने कहा कि पूरी दुनिया के इतिहास में शायद ही इससे बड़ा या लंबा कोई आंदोलन हुआ हो जिसमें इतनी शांति पूर्वक तरीके से लाखों लोगों ने संघर्ष किया है. ठंड धूप बरसात में कोई पीछे नहीं हटा. इस आंदोलन को तोड़ने के लिए सरकार ने सिस्टम ने, सभी एजेंसियों ने, जाने क्या-क्या कोशिश की. किसानों को आतंकवादी खालिस्तानी और एंटी-नेशनल तक कहा गया.
सभी तरीकों से किसानों को घेर कर उनके हौसले को तोड़ने की कोशिश की गई. लेकिन आजादी के दीवानों की तरह किसानों ने भी लड़ाई लड़ी और जीते. भारत के इतिहास में पहली बार किसी आंदोलन की वजह से सरकार क़ानून वापस ले रही है, मैं किसानों को बधाई देता हूं. अगर ये 3 कृषि क़ानून पहले वापस हो जाते तो 700 किसानों की जान बचाई जा सकती थी.
‘700 किसानों की मौत का दुख है’

सीएम केजरीवाल ने कहा-
किसानों के प्रबल साहस के सामने वाटर कैनन का पानी सूख गया, लाठी टूट गई कील गल गयी लेकिन सरकार किसानों का जज्बा नहीं तोड़ पाए. आज एक बात का दुख है कि 700 से ज्यादा हमारे किसानों ने अपनी जान गवा दी. इनकी जान बचाई जा सकती थी अगर यह कानून वापस पहले ले लिया गया होता. 700 से ज्यादा परिवार उजड़ गए इन शहीदों को मेरा नमन इनके परिवार को कोटि-कोटि प्रणाम है.
मैं उनकी आत्मा की शांति के लिए वाहेगुरु से प्रार्थना करता हूं. आप की कुर्बानियों को यह देश कभी नहीं भूलेगा आज का दिन हमारे देश के बच्चों और नौजवानों के लिए एक सीट है कि अगर सही नियत से शांतिपूर्वक तरीके से संघर्ष करो तो मंजिल कितनी भी कठिन और दूर हो सफलता मिलती है.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING2 hours ago

यहां के फैक्टरी में लगी भीषण आग, जवानों ने मौके पर पहुँचकर बचाई लोगों की जान…

पुलवामा में सोमवार देर रात एक फैक्टरी में आग लग गई। काम कर रहे कई मजदूर अंदर फंस गए। सूचना...

bilaspur2 hours ago

बाघ और बाघिन के बीच कातिलाना प्यार! जानिए क्या है पूरा मामला

लोरमी (चैनल इंडिया)| इंसानी रिश्तों में इश्क और फिर कत्ल की कहानी तो सभी ने खूब सुनी होगी, लेकिन छत्तीसगढ़...

BREAKING2 hours ago

कृषि कानूनों की वापसी के बाद आंदोलन में शामिल किसान लौटना चाहते हैं घर, संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का इंतजार…

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि वे अब घर...

BREAKING2 hours ago

बारदाना संकट के बीच कल से 2399 केंद्रों पर शुरू होगी धान खरीदी

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में धान की सरकारी खरीदी बुधवार से शुरू हो रही है। प्रदेश भर में सरकार ने इसके...

BREAKING3 hours ago

कांग्रेसियों ने किया प्रधानाध्यपक के खिलाफ जिला निर्वाचन अधिकारी से शिकायत, चुनाव आचार संहिता का उलंघन करने का लगाया आरोप

बीजापुर(चैनल इंडिया)|जिले में नगरीय निकाय चुनाव 2021 का बिगुल बज चुका है,आने वाले माह दिसम्बर में भैरमगढ़ व भोपालपटनम नगरीय...

Advertisement
Advertisement