छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी सचिव राजेंद्र पप्पू बंजारे ने राज्यसभा में प्रधानमंत्री के भाषण की कड़ी निंदा की – Channelindia News
Connect with us

channel india

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी सचिव राजेंद्र पप्पू बंजारे ने राज्यसभा में प्रधानमंत्री के भाषण की कड़ी निंदा की

Published

on

रायपुर| छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव एवम पूर्व जनपद अध्यक्ष राजेंद्र पप्पू बंजारे ने राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिए गए अपने भाषण किसान आंदोलन को सहयोग करने वाले लोगो को परजीवी की उपाधि देने की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि क्या किसान अपने हक के लिए आवाज भी नहीं उठा सकते? हम सब जानते हैं कि गांधीजी ने लगभग 100 वर्ष पहले किसानों को अंग्रेजों के अत्याचार से बचाने के लिए चंपारण आंदोलन की हुंकार भरी थी। इतना ही नहीं अंग्रेजों द्वारा नमक पर लगाए गए कर के विरोध में नमक सत्याग्रह भी किया था। जिसमें लाखों करोड़ों लोगों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। इतना ही नहीं 1974 में जय प्रकाश नारायण ने भी छात्रों के हक में जेपी आंदोलन की हुंकार भर उन्हें उनका हक दिलवाया था। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेई जी की पूरी राजनीति आंदोलनों पर टिकी हुई थी और वह जीवन भर जन कल्याण के हित में सरकारों के खिलाफ आंदोलन करते रहे। इसका मतलब यह तो नहीं कि वो सभी लोग परजीवी हैं। इस तरह के बयान देकर वह हमारे महापुरूषों के आदर्शों को, उनके आंदोलनों के सवाल खड़े कर रहे हैं। अपने हक के लिए तो आवाज उठाना और आंदोलन लोकतंत्र के मूल अधिकारों में शामिल है।

कांग्रेस प्रदेश सचिव राजेन्द्र बंजारे ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री जी को समझना चाहिए थी कि विश्व के इतने बड़े लोकतंत्र के मुखिया को इस तरह की हल्की बात करना उचित नहीं लगता। जबकि प्रधानमंत्री किसी एक पार्टी या दल के नहीं होते, बल्कि वो जनता के और जनता के द्वारा चुने गए व्यक्ति होते हैं, जिसे जनता ने वोट देकर चुना है। ऐसे में जनता के विरुद्ध जाकर इस तरह का बयान देना कहीं न कहीं लोकतंत्र को अपमानित करने जैसा है। यह देश का दुर्भाग्य नहीं तो और क्या है। आंदोलन का सपोर्ट करने वाले लोगों को प्रधानमंत्री जी ने परजीवी की उपाधि दे दी। पूर्व जनपद अध्यक्ष राजेंद्र बंजारे ने कहा कि देश का किसान आज भी कृषि कानून  के विरोध में दिल्ली की सड़कों पर डेरा डाले बैठे हुए है और केंद्र की भाजपा सरकार को  उनकी परवाह नहीं,लेकिन मौजूदा प्रधानमंत्री जी आंदोलन करने वालों को आंदोलनजीवी बताकर उनका भी अपमान कर दिया है। प्रधानमंत्री जी को एक बात समझना चाहिए कि देश को अंग्रेज़ों से स्वतंत्रता भी एक आंदोलन से ही मिली थी और हमें गर्व होना चाहिए उन सभी आंदोलनजीवी स्वतंत्रता सेनानियों पर जिन्होंने अपनी जान न्यौछावर कर देश को आजाद करवाया।

इतिहास गवाह है कि देश में जब-जब बड़े आंदोलन हुए हैं। समान विचारधारा वाले संगठन या व्‍यक्ति उन आंदोलनों में शामिल हो जाते हैं। मौजूदा किसान आंदोलन में भी यही हो रहा है। शायद नरेन्‍द्र मोदी जी को यही बात चुभ रही है कि इस आंदोलन को इतना समर्थन क्‍यों मिल रहा है। लेकिन मोदी जी को इस तरह से आंदोलनों के अस्तित्‍व पर सवाल नहीं उठाना चाहिए। पूरा भारत देश के नागरिक जानते हैं कि‍ हमारा देश तो आंदोलनों की बुनियाद पर जीवित हुआ है।

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING7 hours ago

दुनिया में उड़ने वाली बाइक जल्द हो सकती है लॉन्च, जानिए फ्लाइंग बाइक में क्या है खास….

आपने असल जिंदगी में या वीडियो में उड़ती कारों को देखा होगा लेकिन जापान ने इस हफ्ते एक डेमोंस्ट्रेशन के...

BREAKING7 hours ago

200 करोड़ रूपए की लागत से होगा सड़कों का डामरीकरण, लोक निर्माण विभाग तैयारी में जुटा…

रायपुर(चैनल इंडिया)। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश के परिपालन में लोक निर्माण विभाग द्वारा 200 करोड़ रूपए की लागत से...

BREAKING8 hours ago

तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर सड़क किनारे जा पलटी, सब-इंस्पेक्टर समेत 2 लोगों की मौत…

समस्तीपुर. बिहार के समस्तीपुर में एक तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर सड़क किनारे पानी से भरे गड्ढे में गिर गई....

BREAKING8 hours ago

वित्त विभाग में 65 पदों पर निकली भर्ती, जल्द करे आवेदन…

रायपुर(चैनल इंडिया)।छत्तीसगढ़ में वित्त विभाग के तहत संचालनालय राज्य ऑडिटर ने 65 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किये...

BREAKING8 hours ago

2 बच्चों के शव को कब्र से निकाला गया बाहर, जानिए क्या है पूरा मामला….

भिलाई(चैनल इंडिया)| भिलाई में सांप के काटने से 2 बच्चों की मौत के बाद उनके शव को दफना दिया गया।...

Advertisement
Advertisement