छत्तीसगढ़: यहां बच्चों के लिए कोबरा जैसे जहरीले सांपों से दोस्ती है एक खेल, देखें फोटो…. – Channelindia News
Connect with us

channel india

छत्तीसगढ़: यहां बच्चों के लिए कोबरा जैसे जहरीले सांपों से दोस्ती है एक खेल, देखें फोटो….

Published

on


कोरबा(चैनल इंडिया)|  घर में सांप घुसा तो लोग बाहर भागने में ही भलाई समझते हैं। इस बारिश इतने सांप दिखे कि कोरबा को दूसरा सर्पलोक कहा जाने लगा है। शहर से लेकर ग्रामीण अंचलों में अजगर, अहिराज, धामन, कोबरा व करैत जैसे काफी विषैले सर्प शामिल हैं। कई घटनाओं में लोगों की जान भी गई। पर एक गांव ऐसा भी है, जहां के नन्हें-मुन्ने बच्चों के लिए कोबरा, करैत व अहिराज जैसे विषैले सर्पों से खेलना बच्चों का खेल है। दरअसल इस समुदाय की संस्कृति, परंपरा व आजीविका में सर्प का बड़ा महत्व है, जिसे आत्मसात करने बाल आयु में ही उनके हाथ में सांप दे दिए जाते हैं, ताकि वे एक-दूसरे के जीवन में पूरी तरह शामिल हो जाएं

इसे भी पढ़े   खाद्य विभाग का कंट्रोल रूम सवेरे 8 बजे से रात्रि 8 बजे तक होगा संचालित, प्रवासी श्रमिकों को मिलेगी पंजीयन करने की जानकारी, प्रवासी खाद्य मित्र एप से मोबाइल पर पंजीयन की सुविधा

बचपन में ही सांपों से दोस्ती की यह परंपरा जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर ग्राम सुहागपुर के संवरा मोहल्ला में पुश्तों से चली आ रही। इस समुदाय के बच्चों के लिए इन विषैले सर्पों के साथ खेलना ही पूरे दिन का सबसे आसान काम है। पिछले 40 साल से यहां निवास करने वाले संवरा समुदाय के लोगों के लिए सर्प न केवल रोजगार का साधन है, पुश्तों से चली आ रही परंपरा व संस्कृति में शामिल हैं। जहरीले कोबरा की फुफकार सुनकर ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं, पर यहां के इन मासूम बच्चों के लिए यह सर्प किसी खिलौने की तरह है, जिसे अपने हाथों में लपेटना, गले में पहनना और किसी लॉलीपॉप की तरह लेकर यहां-वहां घूमते रहना आनंददायी है। बमुश्किल तीन से पांच साल के बच्चे भी इन सांपों को ऐसे पकड़ लेते हैं जैसे सांप और इनके बीच पुरानी दोस्ती हो।

इसे भी पढ़े   इस राज्य में 2 हजार से अधिक कांस्टेबल पदों पर निकली हैं भर्ती, 12वीं पास भी कर सकते हैं ... प्रक्रिया जाने

दहेज में सात विषैले सर्प, ताकि सुखी रहे बेटी

विवाह में लड़की पक्ष की ओर से उपहार स्वरूप वह तमाम चीजें देने का रिवाज तो आपने सुना होगा, जिससे बेटी का घर सुखी और समृद्ध हो जाए। पर संवरा समुदाय का यह रिवाज जानकर आप भी अचंभित हुए बिना खुद को रोक नहीं सकेंगे। इस समुदाय में संवरा जाति में बेटी के ब्याह के वक्त दहेज में बर्तन-कपड़ों के साथ सात जहरीले सर्प देकर विदा करने का रिवाज है, ताकि ससुराल की आमदनी में वृद्धि-समृद्धि हो। जहरीले सांप भेंट करने की बात आपने शायद ही कभी कहीं और सुनी हो, पर संवरा समुदाय की संस्कृति में शामिल यह रिवाज अपने आप में किसी अचरज से कम नहीं।

इसे भी पढ़े   मध्यप्रदेश मे चल रहे सियासी हलचल के बीच,प्रदेश को मोदी सरकार की बड़ी सौगात>>>>

 

 

Advertisement



Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india6 hours ago

ओवैसी का cm योगी आदित्यनाथ को चैलेंज, कहा- अगर सच्चे योगी हैं तो 24 घंटों में करें साबित…

नई दिल्ली।  बिहार विधानसभा चुनावों को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां सक्रिय हो गई हैं. इस बीच बुधवार को उत्तर प्रदेश...

channel india6 hours ago

मरवाही उपचुनाव 2020: जिला निर्वाचन अधिकारी एवं प्रेक्षक ने मतदाता जागरूकता रथ को दिखाई हरी झंडी, गांवों में जाकर मतदाताओं को किया जा रहा है जागरूक

रायपुर(चैनल इंडिया)। मरवाही विधानसभा उपनिर्वाचन के मतदाताओं की जागरूकता हेतु मतदाता जागरूकता रथ को गुरुवार को हरी झंडी दिखा कर...

BREAKING7 hours ago

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी कोरोना संक्रमित, ट्वीट कर दी जानकारी

पटना। बीजेपी नेता और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. उन्होंने ट्वीट करके इसकी जानकारी...

channel india7 hours ago

अनुसूचित जाति, वर्ग के लिए लद्यु व्यवसाय एवं ट्रेक्टर ट्रॉली योजना के तहत आवेदन आमंत्रित

कवर्धा(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ राज्य अंत्यावसायी सहकारी वित्त विकास निगम नवा रायपुर एवं जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति कबीरधाम द्वारा संचालित...

channel india7 hours ago

वर्ष 2020-21 में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछडा वर्ग के लिए ऑनलाईन पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति स्वीकृति के लिए आवेदन ऑनलाईन शुरू

चैनल इंडिया। सहायक आयुक्त आदिवासी विभाग ने जिले के सभी शासकीय, अशासकीय महाविद्यालयों के प्राचार्य को पत्र जारी कर कहा...

खबरे अब तक

Advertisement