छत्तीसगढ़ : कोविड-19 ड्यूटी के बाद अब खाद बेचेंगे सरकारी स्कूल के शिक्षक – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

छत्तीसगढ़ : कोविड-19 ड्यूटी के बाद अब खाद बेचेंगे सरकारी स्कूल के शिक्षक

Published

on

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में स्कूली शिक्षा व्यवस्था का हाल कैसा है, इसका अंदाजा आपको गौरेला-पेड्रा-मरवाही जिले के जनपद सीईओ के एक आदेश से लग जाएगा. जी हां, सीईओ ने 4 स्कूली शिक्षकों की ड्यूटी खाद वितरण व्यवस्था में लगा दी है. राज्य में कोरोना महामारी की वजह से महीनों से स्कूल बंद हैं. इस दौरान शिक्षकों को पहले कोविड-ड्यूटी में लगाया गया था. अब जबकि महामारी के केस कम हुए तो गौरेला-पेड्रा और मरवाही के जनपद सीईओ ने शिक्षकों की ड्यूटी खाद बेचने में लगा दी. इस आदेश से शिक्षक संघ नाराज है. संघ के सदस्यों का कहना है कि पिछले करीब डेढ़ साल से स्कूल बंद हैं, प्रशासन इस अवधि में उनसे पढ़ाई के अलावा गैर-शैक्षणिक कार्य करा रहा है.

जनपद सीईओ के आदेश के तहत जिन शिक्षकों की ड्यूटी खाद बेचने में लगाई गई है, उनमें सहायक शिक्षक लालपुर के तजेश्वर सिंह, खोडरी के मोहन रजक, धनौली के शिशुपाल सिंह और गौरेला के सहायक शिक्षक शामिल हैं. शिक्षक संघ का कहना है कि प्रदेश में शिक्षकों से गैर-शैक्षणिक कार्य नहीं कराने का आदेश पहले से लागू है, लेकिन प्रशासन को इसकी परवाह नहीं है. ऐसे में राज्य में स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर सवाल खड़े होते हैं. जनपद पंचायत गौरेला पेड्रा के सीईओ ने बीती 9 जुलाई को यह आदेश जारी किया, जिसमें 4 शिक्षकों को कोविड-ड्यूटी से हटा कर सहकारी समिति में खाद बिक्री के लिए लगाया गया है.

40000 से अधिक पद खाली
स्कूली शिक्षकों को खाद बेचने की ड्यूटी में लगाने को लेकर शिक्षक संघ ने कड़ा विरोध जताया है. संघ के मुताबिक प्रदेश के स्कूलों में शिक्षकों की कमी है. शिक्षकों के 40000 से अधिक पद खाली हैं. इसके बाद भी प्रशासन शिक्षकों को कभी पशु गणना तो कभी अन्य गैर-शैक्षणिक कार्यों में लगाता रहता है. राज्य में शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर तमाम विचार-विमर्श होते रहते हैं, लेकिन शिक्षकों को गैर शैक्षणिक कार्य में लगाने के प्रशासनिक आदेशों पर ध्यान नहीं दिया जाता. यही वजह है कि बीते दिनों जब 4 शिक्षकों की ड्यूटी खाद बेचने के लिए लगाई गई, तो संघ नाराज हो गया.

आंदोलन की दी चेतावनी
कोविड-ड्यूटी के बाद शिक्षकों को खाद बेचने के काम में लगाए जाने से नाराज शिक्षक संघ ने जोरदार आंदोलन की चेतावनी दी है. छत्तीसगढ़ शालेय शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष विरेन्द्र दुबे ने कहा है कि लगातार डेढ़ साल से शिक्षक गैर-शिक्षकीय कार्य कर रहे हैं. कोविड-ड्यूटी के दौरान 411 शिक्षकों की मौत हो चुकी है, बावजूद इसके जनपद सीईओ के इस फरमान ने हदें पार कर दी हैं. दुबे ने कहा है कि अगर इस आदेश को जल्द ही निरस्त नहीं किया जाता है तो पूरे प्रदेश में आंदोलन किया जाएगा. उन्होंने कहा कि शिक्षकों की नियुक्तियां पढ़ाने के लिए है, न कि खाद बेचने के लिए.


Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india4 mins ago

India में लॉन्च हुई Ducati Monster बाइक , फीचर्स और कीमत जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर…

2021 डुकाटी मॉन्स्टर (Ducati Monster) को भारत में लॉन्च कर दिया गया है, जिसकी कीमतें स्टैंडर्ड वेरिएंट के लिए 10.99...

BREAKING18 mins ago

कोल ब्लॉक नीलामी के लिए दबाव बना रहा केंद्र सरकार : मंत्री रविंद्र चौबे

रायपुर(चैनल इंडिया)। छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने सीएम भूपेश बघेल के दिल्ली दौरे को लेकर बड़ी जानकारी दी...

BREAKING40 mins ago

बदमाशों के हौसले बुलंद, 3 दिनों में चाकूबाजी की तीसरी बड़ी वारदात, 4 आरोपी गिरफ्तार…

रायपुर(चैनल इंडिया)। राजधानी रायपुर में चाकूबाजी की वारदातें अब आम हो गई हैं. बेखौफ बदमाश रोजाना बेधड़क होकर लोगों को...

 सक्ती1 hour ago

अमलडीहा  में निःशुल्क चिकित्सा एवं आयुष मेला सम्पन्न

सक्ती(चैनल इंडिया)|  छत्तीसगढ़ शासन आयुष विभाग द्वारा आज अमलडीहा (सक्ती) में आयुष मेला तथा नि:शुल्क चिकित्सा व दवा वितरण का...

BREAKING1 hour ago

इस राज्य में अब स्पा सेंटर के बंद कमरों में आप नहीं करा पाएंगे मसाज

नई दिल्ली(चैनल इंडिया)। फिजियोथेरेपी, एक्यूप्रेशर या व्यावसायिक चिकित्सा डिग्री, डिप्लोमा प्रमाण पत्र के बगैर अब स्पा सेंटरों में यूं ही...

Advertisement
Advertisement