आदिवासियों को साधने में जुटी भाजपा-कांग्रेस – Channelindia News
Connect with us

खबरे छत्तीसगढ़

आदिवासियों को साधने में जुटी भाजपा-कांग्रेस

Published

on

रायपुर (चैनल इंडिया)|  प्रदेश में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और भाजपा ने अभी से आदिवासी वोटरों को साधने की कवायद शुरू कर दी है। कांग्रेस जहां दूसरी बार आदिवासी नृत्य महोत्सव के बहाने आदिवासियों को रिझाने की तैयारी में लगी है, वहीं भाजपा भी बस्तर के बाद सरगुजा में चिंतन शिविर आयोजित करने जा रही है। छत्तीसगढ़ की सत्ता में आदिवासियों की भूमिका अहम होती है। प्रदेश की एक तिहाई आबादी और एक तिहाई विधानसभा सीटों पर इनका दबदबा है।

यही वजह है कि प्रदेश में सरकारें किसी की भी हो उनके फोकस में आदिवासी हमेशा से रहे हैं। यही वजह है कि ढाई साल में ही कांग्रेस की सरकार ने छोटी-बड़ी 20 से ज्यादा योजनाएं उन क्षेत्रों और वहां रहने वाले लोगों के लिए लागू की हैं। दूसरी ओर भाजपा ने भी अपने स्तर पर आदिवासियों वोटरों को साधने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। बस्तर के बाद सरगुजा में चिंतन शिविर का आयोजन किया जा रहा है।

राज्य सरकार लगातार आदिवासियों का विश्वास जीतने की कोशिश में लगी है इसके तहत 52 प्रकार के लघु वनोपजों की समर्थन मूल्य में खरीदी, स्थानीय लोगों को भर्ती में प्राथमिकता के लिए कनिष्ठ चयन आयोग का गठन, तेंदूपत्ता संग्राहकों को 4000 हजार रुपए प्रति मानक बोरा दिया जा रहा है। ऐसी लगभग 20 से अधिक छोटी बड़ी योजनाएं शुरु की गई हैं, लेकिन इन सबके बाद भी आदिवासियों की नाराजगी बीच-बीच में उभरती रही है। इसे देखते हुए भाजपा भी सक्रिय हो गई। बस्तर में भाजपा का चिंतन शिविर इसी रणनीति का हिस्सा माना जा रहा है।

बस्तर से लेकर सरगुजा तक कई मसलों को लेकर आदिवासी समाज सरकार का विरोध कर रहा है। सरगुजा के परसा कोल ब्लॉक के अलॉटमेंट को लेकर विरोध जारी है। वहीं, लेमरू एलीफेंट रिजर्व एरिया में विस्थापन का मुद्दा हो या फिर बस्तर में बोधघाट परियोजना और बैलाडीला के नंदीमाइंस का मुद्दा, आदिवासी समाज में नाराजगी है। सिलगेर आंदोलन ने तो सरकार की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। भाजपा के दो आदिवासी विधायक हैं। इनमें कोरबा से ननकीराम कंवर और

गरियाबंद से डमरूधर पुजारी हैं। बस्तर और सरगुजा में भाजपा के पास एक भी विधायक नहीं हैं। राज्य बनने के बाद भाजपा ने आदिवासियों के लिए आरक्षित 23 सीटें जीती थीं। 2008 में 19 और 2013 में 11 सीटों पर जीत हासिल की थी। 2018 में कांग्रेस ने आदिवासियों के लिए आरक्षित 29 में से 25 सीटों पर जीत दर्ज की।

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING5 hours ago

दो नवजात की मौत, मेडिकल कॉलेज में चार दिन में आठ जानें गईं

अंबिकापुर(चैनल इंडिया)। जिले के मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां दो...

खबरे छत्तीसगढ़6 hours ago

ईईएचवी वायरस के चपेट में आया एक और हाथी का शावक, हुई मौत,2 साल थी उम्र

सूरजपुर(चैनल इंडिया)|  ईईएचवी वायरस से रेस्क्यू सेंटर में दो शावकों की मौत के बाद अब एक और शावक की मौत...

BREAKING6 hours ago

सीएम भूपेश ने किया श्री धन्वन्तरी जेनरिक मेडिकल स्टोर योजना का शुभारंभ, अब प्रदेशवासियों को मिलेगी आधी कीमत पर दवा

रायपुर (चैनल इंडिया)| मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फे्रंसिंग के जरिए श्री धन्वन्तरी जेनरिक...

channel india7 hours ago

JioPhone Next को लेकर नया खुलासा, अब यूजर्स को मिलेंगे कई खास फीचर्स, कीमत जानने के लिए पढ़े पूरी खबर

JioPhone Next को लेकर नई जनकारी सामने आई है, जिसकी मदद से यूजर्स को कई अच्छे फीचर्स और बेहतर वर्जन...

BREAKING7 hours ago

शासकीय आयुर्वेद के द्वारा निःशुल्क आयुष स्वास्थ्य एवं जन जागरूकता शिविर का आयोजन 200 लोगों ने उठाया लाभ

धरसीवां(चैनल इंडिया)|शासकीय आयुर्वेद के द्वारा ग्राम सांकरा में निःशुल्क आयुष स्वास्थ्य व जन जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया जिसमें...

Advertisement
Advertisement