वैक्सीनेशन रिकॉर्ड में हुई बड़ी गड़बड़ी, 13 साल के बच्चे को जारी किया वैक्सीन सर्टिफिकेट… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

वैक्सीनेशन रिकॉर्ड में हुई बड़ी गड़बड़ी, 13 साल के बच्चे को जारी किया वैक्सीन सर्टिफिकेट…

Published

on


मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में शासन और प्रशासन ने 21 जून को 17.42 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का नेशनल रिकॉर्ड बनाने का दावा किया था. लेकिन इस दावे की अब पोल खुल गई है. प्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन में गड़बड़ी के कई मामले सामने आ रहे है. दरअसल भोपाल में 13 साल के बच्चे का भी वैक्सीनेशन कर दिया गया, और उसके वैक्सीनेशन का सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया. जबकि भारत सरकार ने अभी तक 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन लगाने की परमिशन नहीं दिया है.

ये मामला भोपाल के टीला जमालपुरा इलाके का है. जहां हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में रहने वाले रजत डांगरे ने पत्रकारों को बताया कि वे सरकार की ओर से आए एक मैसेज को देखकर परेशान हो गए. पिछले 21 जून की शाम को उनके मोबाइल पर एक मैसेज आया. इसमें सरकार की ओर से आए मैसेज में बताया गया था कि उनके दिव्यांग बेटे वेदांत को कोरोना वैक्सीन लगा दिया गया है. इस मैसेज में वेदांत की उम्र 56 साल बताई गई थी, जबकि उनका बेटा तो महज 13 साल का ही है.

पेंशन के लिए दिए कागजों का किया इस्तेमाल

बता दें कि वेदांत वार्ड-13 में रहता हैं और वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट में जगह वार्ड-53 लिखा हुआ है. पिता ने इस मामले की शिकायत जब 181 पर की तो जवाब मिला कि वे संबंधित वैक्सीन सेंटर पर जाकर गलती सुधरवा सकते हैं. उन्होंने कहा कि जब मैंने लिंक के जरिए सर्टिफिकेट को डाउनलोड किया, तो पता चला कि इसमें वेदांत के उन डॉक्युमेंट्स का इस्तेमाल किया गया है, जो कुछ दिन पहले नगर निगम को उसकी पेंशन के लिए जमा किए गए थे.

बिना वैक्सीन लगाए आ रहे मैसेज

ऐसा हा एक मामला सतना जिले का है, जहां चैनेंद्र पांडे को 5 मिनट के अंदर तीन मैसेज मिले, जिसमें बताया गया था कि तीन लोगों कटिकराम, कालिंद्री और चंदन को वैक्सीन लगाया गया है. बल्कि चैनेन्द्र तीनों में से किसी भी शख्स को नहीं जानते हैं.

वैक्सीन लगवाने गई नहीं, लेकिन मैसेज आ गया

पीजीबीटी कॉलेज रोड की रहने वाली नुजहत सलीम को मोबाइल पर 21 जून को वैक्सीन लगने का मैसेज मिला. इतना ही नहीं उन्हें पेंशन नहीं मिलती, लेकिन पहचान पत्र सत्यापन में पेंशन डाक्यूमेंट दिखाया गया है. उन्होंने बताया कि 21 जून को 10:57 बजे वैक्सीन लगने का मैसेज मिला. उन्होंने लिंक पर जाकर सर्टिफिकेट डाउनलोड किया तो उसमें पहचान पत्र सत्यापन में पेंशन दस्तावेज दर्ज हैं, जबकि उन्हें पेंशन नहीं मिलती. उन्होंने बताया कि यह गलती हो या फर्जीवाड़ा, लेकिन उनके मोबाइल पर ऐसा मैसेज आने के मामले की जांच होनी चाहिए.

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

channel india4 hours ago

अगर खड़ी कार पर पेड़ गिर जाए तो इंश्योरेंस का पैसा मिलेगा या नहीं? जानने के लिए पढ़ें पूरी खबर…

अभी मॉनसून चल रहा है. बारिश और तेज हवाओं का दौर जारी है. ये मौसम वैसे तो काफी अच्छा लगता...

 सक्ती5 hours ago

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे ने अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को सौंपा ज्ञापन

सक्ती(चैनल इंडिया)| बाराद्वार क्षेत्र अंतर्गत संचालित  क्रेशर श्री गुरु मिनरल एवं चुनाव भट्ठा सिंह केसर डोलोमाइट माइंस बालाजी मिनरल एवं ...

channel india5 hours ago

सरायपाली आँचलिक महासभा द्वारा आज से 3 अगस्त तक बच्चों की स्पीच थैरेपी का निःशुक्ल उपचार शिविर…

सरायपाली(चैनल इंडिया)| आंचलिक महासभा सरायपाली के संयुक्त तत्वावधान में आज गीता भवन सरायपाली में तुतलाने वाले बच्चों को स्पीच थेरेपी...

BREAKING5 hours ago

केंद्र सरकार के इस काम को करने पर मिल रहे हैं 15 लाख रुपये, क्या आप कर सकते हैं?

केंद्र सरकार समय समय पर कई कॉन्टेस्ट का आयोजन करती है, जिसमें जीतने वाले प्रतिभागियों को कई नगद इनाम भी...

BREAKING5 hours ago

26 साल पहले आज के ही दिन भारत में हुई थी पहली मोबाइल फोन कॉल, जानिए किन दो लोगों ने की थी बात और कितने रुपये करने पड़े थे खर्च

आज के समय में हर किसी के पास फोन है. अब मोाबइल फोन का इस्ते़माल केवल कॉल करने के लिए...

Advertisement
Advertisement