धरती की तरफ बढ़ रहा ऐस्टरॉइड नासा ने दी चेतावनी… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

धरती की तरफ बढ़ रहा ऐस्टरॉइड नासा ने दी चेतावनी…

Published

on

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने चेतावनी दी है कि फ्रांस के एफिल टावर के आकार का विशाल ऐस्टीरॉइड अगले महीने धरती की ओर आ रहा है. नासा ने इस ऐस्टटराइड को संभावित रूप से खतरनाक ऐस्टारॉइड की कैटेगरी में रखा है. इस ऐस्टवरॉइड का नाम 4660 Nereus है. यह फुटबॉल की पिच से करीब 3 गुना बढ़ा है. इसके धरती से टकराने पर नतीजे भयानक हो सकते हैं, लेकिन अच्छीै बात यह है कि यह हमारी धरती से काफी दूर से गुजर जाएगा.
नासा ने बताया कि ऐस्टतरॉइड 39 लाख किलोमीटर की दूरी से गुजरेगा, जो धरती और चंद्रमा के बीच कुल दूरी का 10 गुना है. नासा ने बताया कि 11 दिसंबर को यह ऐस्ट रॉइड धरती के करीब से गुजर सकता है. ऐस्टररॉइड नेरेअस 330 मीटर लंबा है जो इसे 90 फीसदी ऐस्टारॉइड से बड़ा बनाता है. हालांकि, इससे भी बड़े-बड़े कई अन्यफ ऐस्टकरॉइड मौजूद हैं.
यह ऐस्टारॉइड प्रत्येकक 664 दिन में सूरज का चक्कफर लगाता है. हालांकि आगे चलकर इसके अब 2 मार्च 2031 को धरती के पास आने की आशंका है. इस ऐस्टयरॉइड की खोज सबसे पहले अमेरिकी खगोलविद एलेनोर एफ हेलिन ने साल 1982 में की थी. यह ऐस्टखरॉइड अपोलो समूह का हिस्सान है और सूरज के चक्केर लगाते समय पृथ्वीख की कक्षा के पास से गुजरता है.
ऐस्टरॉइड्स वे चट्टानें होती हैं, जो किसी ग्रह की तरह ही सूरज के चक्कर काटती हैं, लेकिन ये आकार में ग्रहों से काफी छोटी होती हैं. हमारे सोलर सिस्टम में ज्यादातर ऐस्टरॉइड्स मंगल ग्रह और बृहस्पति यानी मार्स और जूपिटर की कक्षा में ऐस्टरॉइड बेल्ट में पाए जाते हैं.
इसके अलावा भी ये दूसरे ग्रहों की कक्षा में घूमते रहते हैं और ग्रह के साथ ही सूरज का चक्कर काटते हैं. करीब 4.5 अरब साल पहले जब हमारा सोलर सिस्टम बना था, तब गैस और धूल के ऐसे बादल जो किसी ग्रह का आकार नहीं ले पाए और पीछे छूट गए, वही इन चट्टानों यानी ऐस्टरॉइड्स में तब्दील हो गए. यही वजह है कि इनका आकार भी ग्रहों की तरह गोल नहीं होता. कोई भी दो ऐस्टरॉइड एक जैसे नहीं होते हैं.
नासा ने इस नेरेअस को खतरनाक ऐस्ट.रॉइड की श्रेणी में रखा है. नासा इन दिनों दो हजार ऐस्टखरॉइड पर नजर रखे हुए है जो धरती के लिए खतरा बन सकते हैं. अगर किसी तेज रफ्तार स्पेस ऑब्जेक्ट के धरती से 46.5 लाख मील से करीब आने की संभावना होती है तो उसे स्पेस ऑर्गनाइजेशन्स खतरनाक मानते हैं. NASA का Sentry सिस्टम ऐसे खतरों पर पहले से ही नजर रखता है. इसमें आने वाले 100 सालों के लिए फिलहाल 22 ऐसे ऐस्टरॉइड्स हैं जिनके पृथ्वी से टकराने की थोड़ी सी भी आशंका है.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING2 hours ago

यहां के फैक्टरी में लगी भीषण आग, जवानों ने मौके पर पहुँचकर बचाई लोगों की जान…

पुलवामा में सोमवार देर रात एक फैक्टरी में आग लग गई। काम कर रहे कई मजदूर अंदर फंस गए। सूचना...

bilaspur2 hours ago

बाघ और बाघिन के बीच कातिलाना प्यार! जानिए क्या है पूरा मामला

लोरमी (चैनल इंडिया)| इंसानी रिश्तों में इश्क और फिर कत्ल की कहानी तो सभी ने खूब सुनी होगी, लेकिन छत्तीसगढ़...

BREAKING2 hours ago

कृषि कानूनों की वापसी के बाद आंदोलन में शामिल किसान लौटना चाहते हैं घर, संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का इंतजार…

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि वे अब घर...

BREAKING2 hours ago

बारदाना संकट के बीच कल से 2399 केंद्रों पर शुरू होगी धान खरीदी

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में धान की सरकारी खरीदी बुधवार से शुरू हो रही है। प्रदेश भर में सरकार ने इसके...

BREAKING2 hours ago

कांग्रेसियों ने किया प्रधानाध्यपक के खिलाफ जिला निर्वाचन अधिकारी से शिकायत, चुनाव आचार संहिता का उलंघन करने का लगाया आरोप

बीजापुर(चैनल इंडिया)|जिले में नगरीय निकाय चुनाव 2021 का बिगुल बज चुका है,आने वाले माह दिसम्बर में भैरमगढ़ व भोपालपटनम नगरीय...

Advertisement
Advertisement