कृषि कानूनों की वापसी के बाद आंदोलन में शामिल किसान लौटना चाहते हैं घर, संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का इंतजार… – Channelindia News
Connect with us

BREAKING

कृषि कानूनों की वापसी के बाद आंदोलन में शामिल किसान लौटना चाहते हैं घर, संयुक्त किसान मोर्चा के फैसले का इंतजार…

Published

on

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली से सटे सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा कि वे अब घर जाना चाहते हैं, लेकिन उन्हें संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) की बुधवार को बैठक के फैसले का इंतजार है. किसानों ने कहा कि उनकी मुख्य मांगें मान ली गई हैं और वे खुश हैं. आंदोलन स्थल पर कुछ किसानों ने कहा कि वे अपने घर, अपने खेत और अपने बच्चों के पास वापस जाना चाहते हैं.

किसानों ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) पर किसान मोर्चों के फैसले के इंतजार है, अगर मोर्चा कहेगा कि बैठना है तो आगे भी आंदोलन जारी रहेगा. किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने के मौके पर पंजाब-हरियाणा से कई किसान 26 नवंबर को आंदोलन स्थल पर आए थे जो वापस चले गए हैं, लेकिन जो पिछले एक साल से यहां थे, वो अभी भी बैठे हैं.
हालांकि भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक भारत सरकार बात नहीं करेगी तब आंदोलन जारी रहेगा, बातचीत हो, मुकदमे वापस हों. उन्होने कहा, “पहले भी मुकदमे खत्म होते थे, किसान इन मुकदमों को गले में डालकर नहीं जाएंगे. सबसे ज्यादा हरियाणा के लोगों पर मुकदमे हैं, मुकदमे के तक समाधान तक बॉर्डर ही हमारा घर है. सरकार अफवाह फैलाकर पब्लिक को भिड़ाने की कोशिश कर रही है, अगर कोई घटना होती है तो जिम्मेदार सरकार होगी.”

क्या हैं किसानों की अन्य मांगें
संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन सोमवार को दोनों सदनों ने कृषि कानून निरसन विधेयक पारित कर दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 नवंबर को तीनों विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने के फैसले की घोषणा की थी. एसकेएम ने आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के परिजन को मुआवजा देने सहित कई और मांग भी रखी हैं.
हाल ही में संयुक्त किसान मोर्चा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा था कि जब तक सरकार उनकी छह मांगों पर वार्ता बहाल नहीं करती, तब तक आंदोलन जारी रहेगा. मोर्चा ने छह मांगें रखीं, जिनमें एमएसपी को सभी कृषि उपज के लिए किसानों का कानूनी अधिकार बनाने, लखीमपुर खीरी घटना के संबंध में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त करने और उनकी गिरफ्तारी के अलावा किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने और आंदोलन के दौरान जान गंवाने वालों के लिए स्मारक का निर्माण शामिल है.

 

Advertisment

Advertisement

Advertisment

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

CG Trending News

BREAKING58 mins ago

रायपुर रेलवे स्टेशन में ट्रेन से उतर कर भाग रहा था सोना तस्कर, कमर में लपेटे कपड़े से डेढ़ करोड़ का सोना बरामद

रायपुर(चैनल इंडिया)| रायपुर के रेलवे स्टेशन में दुरंतों ट्रेन से डायरेक्टर रेवेन्यू इंटेलिजेंस (DRI) की टीम ने एक गोल्ड तस्कर...

CHANNEL INDIA NEWS2 hours ago

Weather Alerts: प्रदेश में इस सप्ताह बारिश व ओले गिरने की संभावना

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में एक सप्ताह की राहत के बाद मौसम फिर बदलने वाला है। इसकी वजह हवाओं की दिशा...

CHANNEL INDIA NEWS7 hours ago

न्याय मांगने अधिकारी से मिलने पहुंचा ‘मरा’ शख्स, बोला- ‘साहब… मेरी मदद कीजिए’

राजनांदगांव(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के अंबागढ़ ब्लॉक के चिखली पंचायत में सचिव की घोर लापरवाही सामने आई है....

CHANNEL INDIA NEWS7 hours ago

CG News: पुलिस वाले जीजा की वर्दी चोरी कर बना हवलदार, निकलवाई बदमाशों की पूरी लिस्ट, फिर…

बेमेतरा(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ के बेमेतरा जिले में पुलिस ने एक बेहद शातिर ठग को गिरफ्तार किया है. आरोपी ने पहले...

BREAKING8 hours ago

CG पंचायत चुनाव: 1288 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला आज

रायपुर(चैनल इंडिया)| छत्तीसगढ़ में त्रि-स्तरीय पंचायत के आम और उप चुनाव के लिए गुरुवार सुबह 7 बजे से मतदान शुरू...

Advertisement
Advertisement